News Nation Logo
Banner

शशि थरूर ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, बोले- संकट में सरकार को 'चेहरा छिपाने' का मिला मौका

कोविड-19 महामारी से निपटने में 'कुप्रबंधन' के लिए केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए, कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने केंद्र से अपने कामकाज में और अधिक पारदर्शिता लाने और इस मामले में की गई 'गलतियों' को पहचान कर उसे दूर करने की अपील की है.

Agency | Updated on: 21 Sep 2020, 04:00:00 AM
कांग्रेस सांसद शशि थरूर

कांग्रेस सांसद शशि थरूर (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

कोविड-19 महामारी से निपटने में 'कुप्रबंधन' के लिए केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए, कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने केंद्र से अपने कामकाज में और अधिक पारदर्शिता लाने और इस मामले में की गई 'गलतियों' को पहचान कर उसे दूर करने की अपील की है. उन्होंने कहा कि सरकार को संकट में 'अपना चेहरा छिपाने' का मौका मिला है. चल रहे मानसून सत्र के दौरान महामारी पर नियम 193 के तहत एक चर्चा पर लोकसभा में बोलते हुए, तिरुवनंतपुरम के सांसद ने देश के युवाओं को यह भी आश्वासन दिया कि संसद उनके साथ रहेगी और साथ ही उनके अच्छे भविष्य के लिए बहस जारी रखेगी.

कोरोनावायरस के 93,337 मामले सामने आए हैं

सरकार को निशाने पर लेते हुए, थरूर ने कहा कि सरकार को संकट में 'अपना चेहरा छिपाने' का मौका मिला है. उन्होंने कहा, "मैं इस सरकार से आग्रह करता हूं कि वह अपने कामकाज में और अधिक पारदर्शी बने, जैसे कि विशेषज्ञों के लिए डेटा एकत्र करना और जारी करना. इसके अलावा कोई कार्रवाई करने से पहले सभी हितधारकों के साथ परामर्श करना और अंतत: इस राष्ट्र को विश्वास में लेना, क्योंकि देश आप पर विश्वास खो रहा है." विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के आंकड़ों का हवाला देते हुए, थरूर ने कहा कि शनिवार को भारत में कोरोनावायरस के 93,337 मामले सामने आए हैं, जबकि इसी दौरान अमेरिका में 42,628 मामले सामने आए. मौतों के मामलों में भी भारत में रोजाना सबसे ज्यादा मौतें हो रही हैं.

जिस दिन भारत में कोरोनावायरस का पहला मामला दर्ज हुआ था...

चर्चा के दौरान बोलते हुए उन्होंने कहा, "यह इस समय की एक दर्दनाक सच्चाई है, जिसमें हम रहते हैं और हमें ये याद दिलाता रहता है कि इस सदन में समय निकालना और इस महत्वपूर्ण मुद्दे पर चर्चा करना हमारे लिए कितना महत्वपूर्ण है."देशभर में पिछले छह महीनों में क्या हुआ, यह बताते हुए, सांसद थरूर ने कहा कि जनवरी में ही इसके अच्छे खासे संकेत मिल गए थे. थरूर ने कहा, ".. 30 जनवरी तक, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोविड-19 वायरस को एक सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल के रूप में घोषित किया था, एक घोषणा जो संयोगवश उसी दिन आई थी जिस दिन भारत में कोरोनावायरस का पहला मामला दर्ज हुआ था."

कोरोनोवायरस हमारे लोगों के लिए एक अत्यंत गंभीर खतरा

"जब यह सरकार इस महामारी पर कोई ठोस प्रतिक्रिया देने में विफल रही, तो मेरे सहयोगी और इस सदन के सदस्य राहुल गांधी ने 12 फरवरी को ट्वीट किया और सार्वजनिक रूप से सरकार को चेतावनी दी कि कोरोनोवायरस हमारे लोगों के लिए एक अत्यंत गंभीर खतरा है." थरूर ने राहुल गांधी के हवाले से कहा कि "मेरी समझ से सरकार इस खतरे को गंभीरता से नहीं ले रही है. समय पर कार्रवाई महत्वपूर्ण है."

ट्रम्प के स्वागत में भीड़ की मेजबानी के लिए इसे नजरअंदाज किया

"जब सरकार ने अहमदाबाद में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के स्वागत में भीड़ की मेजबानी के लिए इसे नजरअंदाज किया, तो कांग्रेस ने फिर 3 मार्च और 5 मार्च को सरकार को इसके बारे में बताया. मुझे खेद है कि सरकार द्वारा फिर उपेक्षा की गई है, जो कि पक्षपातपूर्ण राजनीति को दर्शाता है."थरूर ने आगे कहा कि सरकार रचनात्मक बातचीत के पक्ष में कभी नहीं रही. उन्होंने कहा, "सरकार से मैं कहना चाहता हूं कि वो अपनी गलतियों को पहचाने और उसे दूर करने का प्रयास करे. इसके लिए अभी भी समय है."

First Published : 21 Sep 2020, 04:00:00 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो