News Nation Logo
आर्यन खान पर फैसला आज दोपहर 2.45 पर आएगा मौसम खुल चुका है और चारधाम यात्रा शुरू हो चुकी है: उत्तराखंड के DGP अशोक कुमार उड़ान योजना के तहत बीते कुछ सालों में 900 से अधिक नए रूट्स को स्वीकृति दी जा चुकी है: पीएम मोदी कुशीनगर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा उनकी श्रद्धा को अर्पित पुष्पांजलि है: पीएम मोदी भारत विश्व भर के बौद्ध समाज की श्रद्धा, आस्था और प्रेरणा का केंद्र है: कुशीनगर में पीएम मोदी 50 से अधिक नए या ऐसे एयरपोर्ट जो पहले सेवा में नहीं थे, उन्हें चालू किया जा चुका है: पीएम मोदी CBI-CVS कांफ्रेंस में बोले पीएम मोदी-भ्रष्टाचार सिस्टम का हिस्सा नहीं हो सकता है लखीमपुर हिंसा मामले में सुप्रीम कोर्ट में आज होगी अहम सुनवाई. पंजाब में कांग्रेस का बढ़ा दलित प्रेम. राहुल गांधी आज दिखाएंगे शोभा यात्रा को हरी झंडी आज शाम उत्तराखंड जाएंगे गृहमंत्री अमित शाह, बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का लेंगे जायजा क्रूज ड्रग्स केस में आर्यन खान को आज मिलेगी बेल या रहेंगे जेल में ही

सुप्रीम कोर्ट मामले दायर करने की सीमा अवधि बढ़ाने का आदेश ले सकता है वापस

सुप्रीम कोर्ट मामले दायर करने की सीमा अवधि बढ़ाने का आदेश ले सकता है वापस

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 23 Sep 2021, 07:10:01 PM
SC likely

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: सर्वोच्च न्यायालय ने कोविड-19 से राहत की स्थिति को ध्यान में रखते हुए गुरुवार को कहा कि वह अपने 27 अप्रैल के उस आदेश को वापस ले लेगा, जिसमें मामले दायर करने की समय सीमा 1 अक्टूबर से बढ़ने की बात कही गई थी।

मुख्य न्यायाधीश एन.वी. रमना की अध्यक्षता वाली और जस्टिस एल. नागेश्वर राव और सूर्यकांत की पीठ ने कहा कि सीमा अवधि का स्वत: विस्तार 1 अक्टूबर को वापस ले लिया जाएगा और उसके बाद अदालतों में मामले दर्ज किए जाने की 90 दिनों की सामान्य सीमा अवधि बहाल की जाएगी।

शीर्ष अदालत ने 27 अप्रैल को दूसरी कोविड लहर को ध्यान में रखते हुए, चुनाव याचिकाओं सहित याचिका दायर करने के लिए वैधानिक अवधि में ढील दी थी। गुरुवार को पीठ ने आदेश सुरक्षित रखते हुए कहा, हम आदेश पारित करेंगे।

अटॉर्नी जनरल के.के. वेणुगोपाल ने पीठ के समक्ष प्रस्तुत किया कि कोविड की स्थिति में सुधार हुआ है और वर्तमान में, देश में कोई नियंत्रण क्षेत्र नहीं है, और सीमा अवधि को शिथिल करने वाले आदेश को वापस लिया जा सकता है। उन्होंने कहा, अगर केरल में या किसी अन्य स्थान पर कोई नियंत्रण क्षेत्र हैं, तो वे अदालत का दरवाजा खटखटा सकते हैं।

उनकी दलील से सहमत होते हुए प्रधान न्यायाधीश ने कहा, मुझे लगता है कि हम आदेश को उठा सकते हैं।

मामले में एक वकील ने तर्क दिया कि सीमा अवधि को साल के अंत तक बढ़ाया जाए, क्योंकि तीसरी कोविड लहर की आशंका थी। इस सबमिशन को निराशावादी बताते हुए बेंच ने चुटकी ली, कृपया तीसरी लहर को आमंत्रित न करें।

चुनाव आयोग का प्रतिनिधित्व कर रहे वरिष्ठ अधिवक्ता विकास सिंह ने सुझाव दिया कि चुनाव याचिका दायर करने के लिए 90 दिनों के बजाय 45 दिनों की सीमा अवधि दी जा सकती है। उन्होंने कहा कि वैधानिक अवधि 1 अक्टूबर के बजाय अभी से शुरू होनी चाहिए।

एजी ने कहा कि चुनाव निकाय के लिए सीमा अवधि पर एक अपवाद बनाया जा सकता है।

चुनाव आयोग ने हालांकि दावा किया कि छह राज्यों असम, केरल, दिल्ली, पुडुचेरी, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल के चुनावों में इस्तेमाल की गई ईवीएम और वीवीपीएटी मशीनें फिलहाल अटकी हुई हैं और भविष्य के चुनावों के लिए इस्तेमाल नहीं की जा सकतीं।

आयोग ने तर्क दिया है कि सीमा अवधि बढ़ाने संबंधी शीर्ष अदालत के निर्देश ने ऐसी स्थिति पैदा कर दी है, जिससे वह आगामी चुनावों में ईवीएम और वीवीपैट मशीनों का फिर से उपयोग नहीं कर सकता।

आयोग ने यह भी कहा कि ये मशीनें अप्रयुक्त पड़ी हैं, क्योंकि उन्हें सबूत के रूप में संरक्षित किया जाना है। इससे संबंधित याचिकाएं यदि तय सीमा अवधि के बाद आती हैं, तो मुश्किल हो जाएगी।

पीठ ने कहा कि यह भी हो सकता है कि अगर याचिकाकर्ता को अभी 90 दिनों का लाभ मिलता है, तो इसका परिणाम भविष्य में मुकदमेबाजी के रूप में आ सकता है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 23 Sep 2021, 07:10:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो