News Nation Logo

बिहार : निलंबित एसपी के ठिकानों पर ईओयू का छापा, बिल्डर कंपनियों में निवेश के मिले साक्ष्य

बिहार : निलंबित एसपी के ठिकानों पर ईओयू का छापा, बिल्डर कंपनियों में निवेश के मिले साक्ष्य

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 17 Sep 2021, 01:10:02 AM
Sand i

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

पटना: बालू के अवैध खनन मामले में निलंबित किए गए भोजपुर के तत्कालीन पुलिस अधीक्षक राकेश दुबे के पटना और झारखंड के जसीडीह के चार ठिकानों पर गुरुवार को आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू) ने छापेमारी की, जिसमें आय से अधिक संपत्ति अर्जित किए जाने का पता चला है। जांच में अब तक 2 करोड़ 55 लाख रुपये की आय से अधिक संपत्ति की जानकारी मिली है।

आर्थिक अपराध इकाई के एक अधिकारी ने गुरुवार को बताया कि आय से अधिक परिसंपत्ति अर्जित करने के तथ्य की पुष्टि होने के बाद बुधवार को निलंबित दुबे के खिलाफ एक प्राथमिकी दर्ज कराई गई।

उन्होंने बताया कि इसके तहत गुरुवार को पटना तथा झारखंड के जसीडीह के चार ठिकानों पर छापेमारी की गई। उन्होंने बताया कि दुबे ने स्वजनों, मित्रों व व्यावसायिक सहभागियों के जरिए कालेधन को सफेद बनाने यानी मनी लांड्रिंग करने के भी प्रमाण मिले हैं।

जांच में उनके बिल्डरों से साठ-गांठ कर कई राज्यों के आधा दर्जन से अधिक कंस्ट्रक्शन कंपनियों में अवैध तरीके से नकद राशि निवेश की भी जानकारी मिली है। इसके अलावा होटल, रेस्तरां, मैरेज हाल व भू-खंडों में भी करोड़ों रुपये निवेश किए गए हैं।

जांच में यह भी पाया गया है कि अवैध तरीके से कमाए गए करोड़ों रुपये ब्याज पर भी लगाए गए हैं। दुबे द्वारा स्वयं और पत्नी के नाम पर म्यूच्युअल फंड में भी 12 लाख रुपये का निवेश किया गया है।

जांच में पाया गया है कि दुबे ने अपने सेवा काल के दौरान वेतन खाते यानी सैलरी अकाउंट से नकद रुपये की निकासी लगभग नगण्य की है। जांच के दौरान पाए गए दस्तावेजों के आधार पर टीम अब आगे जांच कर रही है। जांच में अब तक 2 करोड़ 55 लाख रुपये की आय से अधिक संपत्ति की जानकारी मिली है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 17 Sep 2021, 01:10:02 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.