News Nation Logo

भारत से कोरोना वायरस वैक्सीन लेने के लिए 34 देश कतार में: विदेश मंत्री

जयशंकर ने बताया, हमने लगभग 40 देशों को टीके प्रदान किए हैं और लगभग 34 उन्हें प्राप्त करने के लिए कतार में हैं. हमने अगले कुछ दिनों के भीतर टीके प्राप्त करने वाले लोगों की सूची को अंतिम रूप दे दिया है.

IANS | Updated on: 02 Mar 2021, 07:03:48 AM
भारत से कोरोना वायरस वैक्सीन लेने के लिए 34 देश कतार में: विदेश मंत्री

भारत से कोरोना वायरस वैक्सीन लेने के लिए 34 देश कतार में: विदेश मंत्री (Photo Credit: न्यूज नेशन)

नई दिल्ली:

कोरोनोवायरस वैक्सीन- दुनिया की सबसे अधिक मांग वाली वस्तुओं में से एक- अंतर्राष्ट्रीय कूटनीति के लिए एक नई मुद्रा बन गई है, जिसमें भारत को अपने प्रतिस्पर्धी चीन पर एक 'बड़ा हाथ' लगता है. एक बेमिसाल वैक्सीन निर्माण शक्ति के साथ, भारत अपने पड़ोसी, मित्रवत और प्रतिष्ठित लोगों को लाखों खुराक दे रहा है. हाल ही में, पड़ोसी देशों जैसे कि दक्षिण एशिया में नेपाल और श्रीलंका ने काफी मात्रा में शॉट्स प्राप्त किए हैं, जबकि लगभग 40 देशों को भारत के सद्भावनापूर्ण इरादे का फायदा मिला है. हालांकि, भारत धीमे होने के मूड में नहीं है और 34 और देशों को खुराक की पेशकश करेगा, विदेश मंत्री एस जयशंकर ने एक विशेष बातचीत के दौरान आईएएनएस को सूचित किया. उन्होंने कहा कि लगभग 34 देश कुछ दिनों के भीतर भारत से कोविड के टीके प्राप्त करने की कतार में हैं.

जयशंकर ने आईएएनएस को बताया, हमने लगभग 40 देशों को टीके प्रदान किए हैं और लगभग 34 उन्हें प्राप्त करने के लिए कतार में हैं. हमने अगले कुछ दिनों के भीतर टीके प्राप्त करने वाले लोगों की सूची को अंतिम रूप दे दिया है. उन्होंने कहा कि भारत के अपने लोगों के साथ-साथ दुनिया का टीकाकरण करना भारत के लिए एक नैतिक जिम्मेदारी के रूप में आता है, इसके लिए 'पूरे विश्व को देश पर भरोसा' है. जयशंकर ने कहा, दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन निमार्ता कंपनी होने के नाते, यह स्वाभाविक है कि भारत न केवल अपनी जनसंख्या का टीकाकरण करेगा, बल्कि दुनिया के अन्य हिस्सों में भी इसका विस्तार करेगा.

जब उनसे उन देशों के बारे में पूछा गया जो आगे लाभान्वित होंगे, तो उन्होंने कहा कि वे दुनिया भर में बिखरे हुए हैं. जयशंकर ने आईएएनएस को बताया, इसमें हमारे पड़ोसी देश, दक्षिण एशियाई राष्ट्र, खाड़ी क्षेत्र के देश, ऑस्ट्रेलिया के पास छोटे द्वीप और दक्षिण अमेरिकी देश शामिल हैं. इसलिए मैं कहूंगा कि हम दुनिया भर के देशों में पहुंच रहे हैं.

भारत विश्व स्वास्थ्य संगठन की सुविधा का भी एक हिस्सा है, जिसमें देश के साथ-साथ 81 अन्य निचले और मध्यम आय वाले देशों को भी टीके प्राप्त होंगे. ऐसा ही एक प्रेषण 26 फरवरी को किया गया था जब कोविशिल्ड की लगभग 6,00,000 खुराकें घाना के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के पुणे कारखाने से भेज दी गई थीं, जो भारत में इसका निर्माण कर रहा है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 02 Mar 2021, 07:03:48 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.