logo-image
लोकसभा चुनाव

एस. जयशंकर और जुगलजी ठाकोर गुजरात से राज्‍यसभा के लिए भारी मतों से चुने गए

बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह और स्‍मृति ईरानी द्वारा लोकसभा के लिए चुने जाने के बाद दोनों सीटें खाली हुई थीं.

Updated on: 06 Jul 2019, 07:10 AM

highlights

  • जयशंकर को 104 तो जुगलजी ठाकोर को 105 मिले
  • कांग्रेस के चंद्रिका चूड़ासामा व गौरव पांड्या को 70-70 वोट मिले
  • कांग्रेस विधायकों अल्पेश ठाकोर और जाला ने की क्रॉस वोटिंग

नई दिल्‍ली:

गुजरात में राज्‍यसभा के लिए हो रहे उपचुनाव में बीजेपी उम्‍मीदवार विदेश मंत्री एस जयशंकर और जुगलजी ठाकोर जीत गए. जयशंकर को 104 तो जुगलजी ठाकोर को 105 मिले. कांग्रेस उम्मीदवारों- चंद्रिका चूड़ासामा और गौरव पांड्या को 70-70 वोट मिले. बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह और स्‍मृति ईरानी द्वारा लोकसभा के लिए चुने जाने के बाद दोनों सीटें खाली हुई थीं.

यह भी पढ़ें : पीएम नरेंद्र मोदी आज वाराणसी में, भाजपा सदस्यता अभियान समेत इन योजनाओं की करेंगे शुरुआत

गुजरात के मुख्‍यमंत्री विजय रूपानी ने पत्रकारों को बताया कि हमारे दोनों उम्‍मीदवार भारी मतों से विजय हुई हैं. कांग्रेस उच्चतम न्यायालय तक गयी लेकिन वह अपनी कोशिशों में विफल रही. चुनाव आयोग के एक अधिकारी ने कहा कि प्रक्रिया के तहत दिल्ली में ही चुनाव आयोग निर्वाचन अधिकारी से रिपोर्ट मिलने के बाद अंतिम परिणाम की घोषणा करेंगे. बीजेपी के 100 विधायकों के अलावा जयशंकर और ठाकोर को राकांपा के एक, भारतीय ट्रायबल पार्टी के दो और कांग्रेस के दो असंतुष्ट विधायकों अल्पेश ठाकोर और जाला के वोट मिले.

इससे पहले राज्‍यसभा के लिए हुए मतदान के तुरंत बाद कांग्रेस के बागी अल्‍पेश ठाकोर ने विधायकी छोड़ दी थी. उनके साथ जाला ने भी इस्‍तीफा दे दिया था. कांग्रेस ने चुनाव आयोग से अल्पेश और जाला के मतों को रद्द करने की मांग की, क्‍योंकि उन्‍होंने पार्टी के व्‍हिप का उल्‍लंघन किया था, लेकिन आयोग ने उनकी मांग खारिज कर दी. चूंकि दोनों सीटों के लिए मतदान अलग-अलग हुए हैं इसलिए प्रत्येक उम्मीदवार को जीतने के लिए 50 प्रतिशत वोट चाहिए थे. जयशंकर ने अपनी जीत के लिए बीजेपी के केंद्रीय और राज्‍य ईकाई को धन्‍यवाद दिया.

यह भी पढ़ें : Union Budget 2019 Highlights: जानें इस बजट में क्या हुआ सस्ता और क्या हुआ महंगा

जयशंकर ने कहा कि गुजरात की जनता के साथ विदेश मंत्रालय का विशेष संबंध हैं, क्योंकि इस राज्य के लोग बड़ी संख्या में विदेशों में बसे हैं. अब मैं गुजरात से प्रतिनिधि बनकर राज्य की जनता के साथ संपर्क बढ़ाऊंगा. राज्य भाजपा अध्यक्ष जीतू वघानी ने कहा, यूपीए की सहयोगी पार्टियों और कांग्रेस के विधायकों ने भी हमें वोट दिया है. दो सीटों के लिए अलग चुनाव कराने के फैसले के खिलाफ कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था पर कोर्ट ने चुनाव आयोग के अधिकार क्षेत्र में दखल देने से मना कर दिया था. 182 सदस्यों वाली गुजरात विधानसभा में 175 सदस्य मतदान के योग्य पाए गए.