News Nation Logo

सर्जरी और महिलाओं के अधिकार में अग्रणी मुथुलक्ष्मी रेड्डी 136वीं जयंती पर याद आईं

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 30 Jul 2022, 05:10:01 PM
Remembering Muthulakhmi

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली:   यह महिलाओं को अधिकार दिलाने में अग्रणी एक पथ-निर्माता की कहानी है।

मुथुलक्ष्मी रेड्डी (30 जुलाई, 1886 - 22 जुलाई, 1968) पुदुक्कोट्टई में महाराजा स्कूल फॉर बॉयज में पहली छात्रा थीं। मद्रास मेडिकल कॉलेज की पहली भारतीय महिला सर्जन, महिला भारतीय संघ की पहली भारतीय सदस्य, पहली महिला सदस्य थीं। मद्रास प्रेसीडेंसी विधायिका की पहली महिला डिप्टी स्पीकर और पहली एल्डरवुमन भी।

किताब मुथुलक्ष्मी रेड्डी : ए ट्रेलब्लेजर इन सर्जरी एंड विमेन राइट्स (नियोगी बुक्स/पेपर मिसाइल) की लेखिका वी.आर. देविका, जिन्होंने महात्मा गांधी की संचार रणनीतियों पर डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की है, एक महिला की अदम्य भावना का वर्णन करती हैं, जिसने गीली नर्सो की प्रथा से छुटकारा पाने के लिए अभियान चलाया, लड़कियों की शिक्षा, विधवा पुनर्विवाह, महिलाओं के लिए समान संपत्ति के अधिकार, शिक्षा सुधार और ग्रामीण इलाकों में महिलाओं के लिए स्वास्थ्य सेवा के लिए संघर्ष किया। उन्होंने युवा लड़कियों को देवदासी घोषित करने की प्रथा को खत्म करने का मामला भी उठाया।

मुथुलक्ष्मी का एक स्थानीय स्कूल में दाखिला कराया गया था। जब वह एक बैलगाड़ी में सवार होकर स्कूल जा रही थीं, तब कुछ युवा लड़के पीछे से चिल्ला रहे थे, देवराडियल (तमिल में देवदासी) स्कूल जा रही है।

पुदुक्कोट्टई में उस समय केवल लड़कों के लिए एक हाईस्कूल था। कुछ माता-पिता ने अपने बेटों को स्कूल से वापस लेने की धमकी देते हुए कहा कि एक देवदासी से पैदा हुई लड़की की स्कूल में मौजूदगी उनके दिमाग को भ्रष्ट कर देगी, भले ही कक्षा में तीन लड़कियों और 40 लड़कों के बीच एक पर्दा खींचा गया हो। इस मुद्दे पर एक शिक्षक ने भी इस्तीफा देने का फैसला किया।

लेकिन पुदुक्कोट्टई के महाराजा ने मुथुलक्ष्मी का समर्थन किया और मद्रास में चिकित्सा का अध्ययन करने की इच्छा व्यक्त करने पर उन्हें 150 रुपये की एक शानदार छात्रवृत्ति दी।

वह मद्रास मेडिकल कॉलेज की पहली भारतीय महिला सर्जन भी थीं। जब मुथुलक्ष्मी ने सर्जरी का विकल्प चुना, तब मद्रास मेडिकल कॉलेज हैरान रह गया, क्योंकि माना जाता था कि लड़कियां सर्जरी के दौरान खून देखकर बेहोश हो जाती हैं।

मुथुलक्ष्मी, हालांकि अडिग थीं और अपने चार साल के अध्ययन के अंत में कॉलेज के श्वेत प्राचार्य को संस्थान के गलियारे में दौड़ते हुए पाया गया, जो अपने हाथ में एक कागज का टुकड़ा लिए हुए चिल्ला रहे थे : सर्जरी विभाग की पहली छात्रा ने शत-प्रतिशत अंक हासिल किए!

मोनोग्राफ में बताया गया है कि कैसे मुथुलक्ष्मी ने गरीब और बेसहारा लड़कियों के लिए अव्वाई होम की स्थापना की, जहां से हजारों लड़कियों ने स्नातक किया है और अपने पैर भी पाए हैं। देवदासी समुदाय की कई महिलाओं सहित हजारों गरीब महिलाओं ने संस्थान से स्नातक की उपाधि प्राप्त की और गुमनामी से बाहर निकलीं।

उन दिनों उच्च जाति के पुरुषों ने महिलाओं के लिए कानूनी रूप से विवाह योग्य आयु बढ़ाने और देवदासी प्रथा के उन्मूलन के उनके प्रस्ताव का कड़ा विरोध किया था। मुथुलक्ष्मी को प्रशंसित कार्यकर्ता और राजनेता एस. सत्यमूर्ति और भारत के अंतिम गवर्नर जनरल और बाद में मद्रास राज्य के मुख्यमंत्री सी. राजगोपालाचारी के साथ बहस करनी पड़ी और सफलता केवल 17 वर्षो के लंबे संघर्ष के बाद मिली।

उन्होंने स्त्री रोग और प्रसूति के विशेषज्ञ के रूप में एक सफल करियर बनाने के बाद चेन्नई के अड्यार में कैंसर संस्थान की स्थापना की। जब उन्होंने अपनी छोटी बहन को कैंसर से मरते हुए देखा तो इस बीमारी के इलाज में विशेषज्ञता हासिल करने का फैसला किया। वह अपने बेटों के साथ सीमित बजट पर लंदन गईं और वापस आकर भारत में अड्यार संस्थान की स्थापना की, जो सबसे बड़ा संस्थान है।

यह मोनोग्राफ मुथुलक्ष्मी की महात्मा गांधी के साथ कई बातचीत पर भी प्रकाश डालता है। वह गांधीजी के भाषणों की तमिल दुभाषिया बन गई थीं और उनके साथ तमिल क्षेत्रों में यात्रा की थी, सरोजिनी नायडू, के कामराज, एनी बेसेंट, कमला चट्टोपाध्याय और कई अन्य।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 30 Jul 2022, 05:10:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.