News Nation Logo

RDIF और Panacea Biotec ने भारत में Sputnik V का शुरू किया प्रोडक्शन

कोरोना वायरस के संक्रमण से पूरा देश संकट में है. वहीं, इस संक्रमण से निपटने के लिए भारत में वैक्सीनेशन ( Vaccination ) अभियान चलाया जा रहा है और सभी को टीका लगाया जा रहा है.

News Nation Bureau | Edited By : Shailendra Kumar | Updated on: 24 May 2021, 04:59:05 PM
Sputnik

RDIF और Panacea Biotec ने भारत में Sputnik V का प्रोडक्शन शुरू किया (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • कोरोना वायरस के संक्रमण से पूरा देश संकट में है
  • संक्रमण से निपटने के लिए भारत में वैक्सीनेशन अभियान चलाया जा रहा है
  • सभी को टीका लगाया जा रहा है. ताकि कोरोना के संक्रमण से बचा जा सके

नई दिल्ली:

रूस के प्रत्यक्ष निवेश कोष (आरडीआईएफ) और दवा कंपनी पैनेशिया बायोटेक ने सोमवार को घोषणा की कि भारत में इस गर्मी में कोरोनावायरस के खिलाफ स्पुतनिक वी वैक्सीन का उत्पादन शुरू हो जाएगा. स्पुतनिक वी को 12 अप्रैल को आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण प्रक्रिया के तहत भारत में पंजीकृत किया गया था और 14 मई को रूसी वैक्सीन के साथ कोरोनावायरस के खिलाफ टीकाकरण शुरू किया गया था. जैसा कि अप्रैल में घोषित किया गया था, आरडीआईएफ और पैनेशिया ने स्पुतनिक वी की प्रतिवर्ष 10 करोड़ खुराक का उत्पादन करने पर सहमति व्यक्त की है.

आरडीआईएफ ने एक बयान में कहा, बद्दी स्थित पैनेशिया बायोटेक में उत्पादित पहला बैच गुणवत्ता नियंत्रण के लिए रूस के गमालेया केंद्र में भेजा जाएगा. वैक्सीन का पूर्ण पैमाने पर उत्पादन इस गर्मी में शुरू होने वाला है. कंपनी की सुविधाएं जीएमपी (अच्छे निर्माण अभ्यास) का अनुपालन करती हैं. मानक और डब्ल्यूएचओ द्वारा ये पूर्व-सक्षम घोषित हैं.

रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष के सीईओ किरिल दिमित्रीव ने बयान में कहा, पैनेशिया बायोटेक के साथ साझेदारी में भारत में उत्पादन का शुभारंभ देश को महामारी से लड़ने में मदद करने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है. स्पुतनिक वी का उत्पादन भारत के अधिकारियों के प्रयासों का समर्थन करता है, ताकि कोरोनोवायरस के तीव्र चरण से जल्द से जल्द पीछा छूटे. साथ ही, दुनियाभर के अन्य देशों में वायरस के प्रसार को रोकने में मदद करने के लिए बाद के चरण में निर्यात किए गए टीके भी होंगे.

पैनेशिया बायोटेक के प्रबंध निदेशक राजेश जैन ने कहा, यह एक महत्वपूर्ण कदम है, क्योंकि हमने स्पुतनिक वी का उत्पादन शुरू किया है. आरडीआईएफ के साथ, हम देश और दुनियाभर के लोगों में सामान्य स्थिति की भावना वापस लाने में मदद करने की उम्मीद करते हैं.

स्पुतनिक वी टीकाकरण के दौरान दो शॉट्स के लिए दो अलग-अलग वेक्टर का उपयोग करता है, दोनों शॉट्स के लिए समान वितरण तंत्र का उपयोग करके टीकों की तुलना में लंबी अवधि के साथ प्रतिरक्षा प्रदान करता है. इसे रूस के गमलेया नेशनल सेंटर द्वारा विकसित किया गया है. कोवैक्सीन और कोविशील्ड के बाद यह भारत में टीकाकरण कार्यक्रम के लिए स्वीकृत होने वाला तीसरा टीका होगा.

पिछले महीने, नियामक औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने देश के ताजा कोविड-19 संक्रमणों में खतरनाक वृद्धि के बीच स्पुतनिक वी को प्रतिबंधित उपयोग प्राधिकरण प्रदान किया. 91.6 प्रतिशत की प्रभावकारिता के साथ, स्पुतनिक वी कथित तौर पर दुनिया में कोविड -19 के खिलाफ पहला टीका है. पिछले साल 11 अगस्त को रूस ने स्पुतनिक वी को मंजूरी दी थी. लैंसेट मेडिकल जर्नल में बताया गया है कि वैक्सीन को मंजूरी दे दी गई है और 50 से अधिक देशों में बड़े पैमाने पर उपयोग के लिए अनुमोदित किया गया है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 24 May 2021, 03:44:07 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.