News Nation Logo
Banner

नरवणे से पहले रॉ चीफ का काठमांडू दौरा, PM ओली से काफी अहम होगी मुलाकात

भारत खुफिया विभाग रॉ (RAW) के प्रमुख सामंत गोयल सहित तीन बड़े अधिकारी अचानक काठमांडू पहुंचे हैं. प्रधानमंत्री केपी ओली (KP Oli) के बुलावे पर भारतीय वायुसेना के विशेष विमान से काठमांडू पहुंचे.

Written By : पुनीत के पुष्कर | Edited By : Kuldeep Singh | Updated on: 22 Oct 2020, 11:26:19 AM
narwane oli

आर्मी चीफ एमएम नरवणे और केपी ओली (Photo Credit: फाइल फोटो)

काठमांडू:

भारत खुफिया विभाग रॉ (RAW) के प्रमुख सामंत गोयल सहित तीन बड़े अधिकारी अचानक काठमांडू पहुंचे हैं. प्रधानमंत्री केपी ओली (KP Oli) के बुलावे पर भारतीय वायुसेना के विशेष विमान से काठमांडू पहुंचे. गोयल इस समय नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली से उनके सरकारी आवास पर मुलाकात कर रहे हैं. 

यह भी पढ़ेंः शादी के नाम पर मजहबी छलावा, बरेली से हैदराबाद तक 'लव जिहाद'

उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली के बुलावे पर भारतीय खुफिया विभाग के प्रमुख सहित का तीन सदस्यीय दल काठमांडू पहुंचा है. रॉ चीफ गोयल के अलावा एक पीएमओ के बड़े अधिकारी भी शामिल हैं. पिछले कुछ दिनों से नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली अपने तरफ से भारत से संबंध सुधारने के लिए काफी प्रयास कर रहे हैं. नेपाल के तरफ से भारत के लिपुलेक और लिम्पियाधुरा क्षेत्र पर दावा करते हुए अपना नक्शा प्रकाशित किए जाने कए 9 महीने तक राजनीति और कूटनीतिक बातचीत बन्द होने के बाद‌ थी.  

15 अगस्त को ओली ने भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को फोन कर ना सिर्फ स्वतन्त्रता दिवस पर बधाई दी बल्कि द्विपक्षीय वार्ता को फिर से शुरू किए जाने का आग्रह भी किया. इसके तुरन्त बाद ओली ने मोदी को 17  सितम्बर को उनके जन्मदिन पर बधाई देकर व्यक्तिगत संबंध सुधारने का भी प्रयास किया. 

यह भी पढ़ेंः है तो भारतीय 'संत', मार गिराएगा 10 किमी दूर खड़ा दुश्मन टैंक

नेपाली सेना का मानार्थ प्रधान सेनापति का पदवी ग्रहण करने के लिए 3 नवम्बर को भारतीय थलसेना अध्यक्ष जेनरल नरवाणे का भी भ्रमण तय हुआ है. जेनरल नरवाणे के भ्रमण के कार्यक्रम को सार्वजनिक करने के दिन ही ओली ने भारत के साथ अपने रिश्ते में विश्वास बढ़ाने के लिए रक्षा मंत्री से उनका रक्षा मंत्रालय छीन लिया. कारण रक्षा मंत्री इश्वर पोखरेल ने नेपाली सेना को जबरन नेपाल भारत के सीमा विवाद को घसीटने का प्रयास किया था. 

इसके अलावा ओली ने नेपाल के शिक्षा मंत्री द्वारा विवादित पाठ्य पुस्तक के प्रकाशन और वितरण किए जाने पर भी रोक दिया है. वित्त मंत्रालय के तरफ से नए सिक्के में विवादित नक्शे रखे जाने के निर्णय को भी फिलहाल रोक लगा दिया गया है. अगले महीने से दोनों देशों के बीच 7 महीने से बन्द हवाई सेवा को पुन: सुचारू करने की भी तैयारी चल रही है. जल्द ही भारत के सहयोग से बने जयनगर जनकपुर धाम रेल सेवा को हरी झण्डी दिखा कर शुरुआत की जाएगी. ओली अपने तरफ से भारत के साथ द्विपक्षीय बातचीत ‌को निरन्तरता देने और राजनीतिक संबंध को सुधारने के लिए लगातार प्रयास करते दिख रहे हैं.

First Published : 22 Oct 2020, 10:32:58 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो