News Nation Logo
कोविड के खिलाफ लड़ाई में भी भारत और रूस के बीच सहयोग: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत में 85 फीसदी पात्र आबादी को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लगा दी गई है: मनसुख मंडाविया दिल्ली में इस साल डेंगू से अब तक 15 मरीजों की मौत बीते 6 साल में डेंगू से मौत का सबसे बड़ा आंकड़ा शाही ईदगाह मस्जिद की जगह पर भव्य श्रीकृष्ण मंदिर के निर्माण के लिए संकल्प यज्ञ किया गया ओमिक्रोन के अलर्ट के बीच पटना में 100 विदेशियों की तलाश भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से हराकर टेस्ट मैच श्रृंखला 1-0 से जीती टीम इंडिया ने घर में लगातार 14वीं टेस्ट सीरीज जीती न्यूजीलैंड पर 372 रनों से जीत रनों के लिहाज से भारत की टेस्ट मैचों में सबसे बड़ी जीत है उत्तराखंड के चमोली में देवल ब्लॉक के ब्रह्मताल ट्रेक मार्ग पर बर्फबारी हुई रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर के साथ नई दिल्ली में बैठक की

देश में निष्पक्ष कोरोना जांच कमीशन का गठन हो : कांग्रेस

देश में निष्पक्ष कोरोना जांच कमीशन का गठन हो : कांग्रेस

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 21 Oct 2021, 10:20:01 PM
Randeep Surjewala

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: कांग्रेस ने भारत बायोटेक वैक्सीन के विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) से मंजूरी न मिलने पर सवाल उठाये हैं। देश में निष्पक्ष कोरोना जांच कमीशन के गठन की मांग की है।

कांग्रेस महासचिव और प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने गुरुवार को प्रेसवार्ता कर निष्पक्ष कोरोना जांच कमीशन के गठन की मांग की है। उन्होंने कहा कि इस मसले पर सभी दलों की राय भी ली जानी चाहिए। जिसमें हैल्थ एक्सपर्ट, सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश को भी शामिल किया जाए।

उन्होंने कहा कि 32 करोड़ व्यस्क ऐसे हैं जिन्हें वैक्सीन की एक भी खुराक अब तक नहीं दी गई है। जबकि प्रधानमंत्री ने कहा था कि 31 दिसंबर, 2021 तक सब वयस्कों को दोनों खुराक दे दी जाएगी। अब 70 दिन बचे हैं। इसका मतलब यह है कि अभी रोजाना 1.51 करोड़ खुराक दी जानी चाहिए। लेकिन पिछले छह दिनों के रोजाना औसतन 39 लाख खुराक दी गई। देश के 74 करोड़ वयस्कों को 106 करोड़ खुराक कब तक दी जाएगी? उन्होंने कहा कि देश में 103 करोड़ लोग वयस्क हैं।

उन्होंने कहा दुनिया में दोनों टीके लगाने के मामले में भारत 20 में से 19वें नम्बर पर है। कोरोना काल में देशवासिओं की जान से खेलने की क्रूरता का भी केंद्र सरकार को देना चाहिए। जब अस्पताल में इंजेक्शन मिलता नहीं था, वेंटिलेटर नहीं मिलता था.बीजेपी सरकार में असहाय बेबसी और क्रूरता पर लाकर खड़ा कर दिया था।

उन्होंने कहा कि देश में 4 लाख से ज्यादा लोग मारे जाने की पुष्टि सरकारी आंकड़ों में है जबकि स्वतन्त्र एजेंसियों के हिसाब से 40 से 65 लाख लोग मारे गए। इसलिए एक निष्पक्ष कोरोना जांच कमीशन का गठन हो, जो सरकार की लापरवाही की जांच करें.हर मृत्यु का दोबारा सर्वे कर मुआवजा दिया जाए। उन्होंने कहा कि बूस्टर डोज के लिए सरकार की नीति क्या है ये भी केंद्र की और से स्प्ष्ट किया जाए। अगर तीसरी लहर आगयी तो क्या होगा ?

सुरजेवाला ने भारत बायोटेक वैक्सीन को डब्ल्यूएचओ की ओर से मंजूरी न मिलने पर भी सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि हजारों छात्र विदेश जाकर पढ़ने का इंतजार कर रहे हैं। क्या वजह है कि इस टीके को मंजूरी नहीं मिल रही है क्या सरकार की ओर से इसमें कोई चूक हुई है। क्यों नहीं समय रहते बच्चों के टीकाकरण का काम भी शुरू किया जा रहा है।

वहीं इस मसले पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और सांसद शशि थरूर ने कहा, कोविड महामारी की दूसरी लहर के दौरान भीषण कुप्रबंधन और टीकों का ऑर्डर देने में विलंब के बाद सरकार अब आंशिक रूप से क्षतिपूर्ति कर पाई है। वह अपनी पहले की विफलताओं के लिए जवाबदेह है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 21 Oct 2021, 10:20:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.