News Nation Logo
Banner

गोरखालैंड आंदोलन: राजनाथ से मुलाकात के बाद GJM युवा इकाई ने तोड़ी भूख हड़ताल

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा पश्चिम बंगाल के उत्तरी पर्वतीय इलाके में दो महीने से चल रहे अनिश्चितकालीन बंद को खत्म करने का आग्रह करने के बाद सोमवार को गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) के अध्यक्ष बिमल गुरुं ग ने पार्टी की युवा इकाई को भूख हड़ताल खत्म करने का निर्देश दिया।

News Nation Bureau | Edited By : Vineeta Mandal | Updated on: 15 Aug 2017, 12:07:28 AM
केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह (फाइल फोटो)

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह (फाइल फोटो)

highlights

  • गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष ने पार्टी की युवा इकाई को भूख हड़ताल खत्म करने का निर्देश दिया
  • अलग गोरखालैंड राज्य बनाने की मांग को लेकर बीते 23 दिनों से भूख हड़ताल पर बैठे थे
  • नई दिल्ली में राजनाथ सिंह ने जीजेएम नेताओं और जीएमसीसी के सदस्यों के साथ दो घंटे तक बैठक की थी

नई दिल्ली:

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा पश्चिम बंगाल के उत्तरी पर्वतीय इलाके में दो महीने से चल रहे अनिश्चितकालीन बंद को खत्म करने का आग्रह करने के बाद सोमवार को गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) के अध्यक्ष बिमल गुरुं ग ने पार्टी की युवा इकाई को भूख हड़ताल खत्म करने का निर्देश दिया। जीजेएम ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर मंगलवार को 12 घंटे के लिए दार्जिलिंग और कलिमपोंग में सड़कों पर धरने पर बैठे पार्टी कार्यकर्ताओं को वापस बुलाने का फैसला किया है।

हालांकि उनका कहना है कि बंद अभी जारी रहेगा।

इसे भी पढ़ें: नेपाल में बाढ़ का कहर, मृतकों की संख्या 64 हुई

गुरुं ग ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, 'गृहमंत्री ने जीजेएम और गोरखालैंड आंदोलन से जुड़े अन्य साझेदारों से आग्रह किया था। मेरा भी यही मानना है कि उनके अनुरोध को स्वीकार कर लेना चाहिए और गोरखालैंड के अपने लक्ष्य को पाने की दिशा में अगला कदम उठाते हुए हमने अपनी युवा मोर्चा से भूख हड़ताल खत्म करने के लिए कहा है।'

गुरुं ग ने यह भी बताया कि 30 पहाड़ी दलों को मिलाकर गठित गोरखालैंड आंदोलन समन्वय समिति (जीएमसीसी) ने भी युवा मोर्चा से भूख हड़ताल खत्म करने के लिए कहा है।

इसे भी पढ़ें: स्वतंत्रता दिवस: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बोले- न्यू इंडिया भेदभाव मुक्त हो, 10 खास बातें (वीडियो)

जीजेएम की युवा इकाई 'युवा मोर्चा' के दर्जनों कार्यकर्ता अलग गोरखालैंड राज्य बनाने की मांग को लेकर बीते 23 दिनों से भूख हड़ताल पर बैठे हुए हैं।

जीजेएम के महासचिव बिनय तमांग ने कहा, 'भूख हड़ताल पर बैठे सभी 12 कार्यकर्ताओं की हालत नाजुक है। उनमें से दो कार्यकर्ताओं को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा, क्योंकि उनका बल्ड प्रेशर बेहद नीचे चला गया था।'

उन्होंने यह भी बताया कि मंगलवार को सड़कों पर धरने पर बैठे प्रदर्शनकारियों को 12 घंटे के लिए वापस बुला लिया जाएगा।

एक दिन पहले रविवार को नई दिल्ली में राजनाथ सिंह ने जीजेएम नेताओं और जीएमसीसी के सदस्यों के साथ दो घंटे तक बैठक की थी, जिसमें उन्होंने हिंसा बंद करने और कानून के दायरे में बातचीत के जरिए समाधान हासिल करने का आग्रह किया था।

इसे भी पढ़ें: भीषण बाढ़ की चपेट में बिहार, 41 की मौत, नीतीश कुमार ने लिया जायजा

First Published : 14 Aug 2017, 09:23:58 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो