News Nation Logo

राजनाथ ने 75 BRO बुनियादी ढांचा परियोजनाएं राष्ट्र को की समर्पित

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 28 Oct 2022, 05:26:15 PM
BRO Project

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली:  

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को लद्दाख में सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) द्वारा निर्मित रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण 75 बुनियादी ढांचा परियोजनाओं को समर्पित किया. 75 परियोजनाएं, जिसमें 45 पुल, 27 सड़कें, 2 हेलीपैड और एककार्बन न्यूट्रल हैबिटेट शामिल है, छह राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेशों (यूटी) में फैली हुई हैं. इनमें से 20 परियोजनाएं जम्मू और कश्मीर में हैं. लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश में 18-18, उत्तराखंड में 5 और अन्य सीमावर्ती राज्यों सिक्किम, हिमाचल प्रदेश, पंजाब और राजस्थान में 14 है.

इन रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण परियोजनाओं का निर्माण बीआरओ द्वारा रिकॉर्ड समय में 2,180 करोड़ रुपये की कुल लागत से किया गया है, जिनमें से कई अत्याधुनिक तकनीक का उपयोग करके एक ही कार्य सत्र में पूरे किए गए हैं. चुनौतीपूर्ण मौसम की स्थिति के बावजूद उपलब्धि हासिल करने के लिए बीआरओ के साहस और ²ढ़ संकल्प की सराहना करते हुए, रक्षा मंत्री ने कहा कि परियोजनाओं से देश की रक्षा तैयारियों को बढ़ावा मिलेगा और सीमावर्ती क्षेत्रों का आर्थिक विकास सुनिश्चित होगा.

शुक्रवार को हुए कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण डी-एस-डीबीओ रोड पर 14,000 फीट की ऊंचाई पर 120 मीटर लंबे क्लास 70 श्योक सेतु का ऑनसाइट उद्घाटन रहा. पुल का सामरिक महत्व है, क्योंकि यह सशस्त्र बलों के रसद आंदोलन की सुविधा प्रदान करेगा. रक्षा मंत्री द्वारा उद्घाटन की गई अन्य परियोजनाओं में पूर्वी लद्दाख के हानले और थाकुंग में दो हेलीपैड शामिल हैं. ये हेलीपैड क्षेत्र में भारतीय वायु सेना की परिचालन क्षमताओं को बढ़ाएंगे.

अपने कर्मियों के लिए 19,000 फीट की ऊंचाई पर बीआरओ के पहले कार्बन न्यूट्रल हैबिटेट का भी हनले में उद्घाटन किया गया. यह लद्दाख के देश का पहला कार्बन न्यूट्रल केंद्र शासित प्रदेश बनने के संकल्प में योगदान देने की दिशा में बीआरओ का प्रयास है. इस अवसर पर बोलते हुए, राजनाथ सिंह ने देश की सुरक्षा जरूरतों को पूरा करने के लिए दूर-दराज के क्षेत्रों की प्रगति सुनिश्चित करने के लिए सरकार की प्रतिबद्धता की पुष्टि की. साथ ही इस बात पर बल दिया कि बुनियादी ढांचे के विकास के साथ-साथ सशस्त्र बलों की वीरता ने भारत को उत्तरी क्षेत्र में हाल की स्थिति से प्रभावी ढंग से निपटने में मदद की.

उन्होंने कहा, हमारा उद्देश्य देश के सभी राज्यों/ केंद्र शासित प्रदेशों का विकास जारी रखना है. जल्द ही, सभी दूरदराज के इलाकों को देश के बाकी हिस्सों से जोड़ा जाएगा और साथ में हम देश को प्रगति की नई ऊंचाइयों पर ले जाएंगे. इस उद्देश्य को प्राप्त करने में बीआरओ की महत्वपूर्ण भूमिका है.

इस अवसर पर रक्षा मंत्री ने चंडीगढ़ में बन रहे हिमांक एयर डिस्पैच कॉम्प्लेक्स और लेह में एक बीआरओ संग्रहालय की आधारशिला भी रखी. सर्दियों की शुरूआत के साथ, जब भारी बर्फबारी के कारण मार्ग बंद हो जाते हैं, तो बीआरओ व्यापक रूप से दूर-दराज के क्षेत्रों में पुरुषों, मशीनरी और सामग्री की आवाजाही के लिए हवाई प्रयास का उपयोग करता है. चंडीगढ़ स्थित मौजूदा एयर डिस्पैच सब यूनिट को पारगमन सैनिकों को आराम प्रदान करने और जमीन पर कार्यों के निष्पादन के लिए आवश्यक दुकानों और उपकरणों की कुशल और निर्बाध डिलीवरी सुनिश्चित करने के लिए अपग्रेड किया जा रहा है.

First Published : 28 Oct 2022, 05:26:15 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.