News Nation Logo

राहुल गांधी बोले- जिसने कहा गंगा ने उसे पुकारा, उसने गंगा मां को रुलाया

उत्तर प्रदेश के कई शहरों में गंगा नदी में कई सड़ी-गली लाशें मिलने के बाद कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को परोक्ष रूप से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि मां गंगा ने पुकारा है, रुलाया है.

News Nation Bureau | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 15 May 2021, 01:14:28 PM
rahul gandhi

कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

उत्तर प्रदेश के कई शहरों में गंगा नदी में कई सड़ी-गली लाशें मिलने के बाद कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने शनिवार को परोक्ष रूप से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM narendra Modi) पर निशाना साधते हुए कहा कि मां गंगा ने पुकारा है, रुलाया है. राहुल गांधी ने हिंदी में ट्वीट करते हुए कहा कि जिसने कहा गंगा ने उसे पुकारा, उसने गंगा मां को रुलाया. उन्होंने अपने ट्वीट में एक समाचार रिपोर्ट भी संलग्न की जिसमें दावा किया गया था कि गंगा नदी के 1,140 किलोमीटर लंबे तट पर लगभग 2,000 शव मिले हैं. पिछले कुछ दिनों में उत्तर प्रदेश और बिहार के कई जिलों में शव नदी में तैरते या उसके किनारे के पास दफन पाए गए हैं.

यूपी : वाराणसी, चंदौली में और शव तैरते मिले

आपको बता दें कि वाराणसी में गंगा नदी और उससे सटे चंदौली जिले में आंशिक रूप से जले हुए एक शव सहित सात और शव बरामद किए गए हैं. एक शव वाराणसी के सुजाबाद इलाके के पास और छह चंदौली जिले के धानापुर इलाके में गुरुवार को मिला. सुजाबाद इलाके में लोगों ने शवों को मोड़ पर तैरते देखा और रामनगर पुलिस को सूचना दी. गोताखोरों को मौके पर बुलाया गया.

काशी अंचल के पुलिस उपायुक्त अमित कुमार भी मौके पर पहुंचे और तलाशी अभियान पर नजर रखी. छह शव और आंशिक रूप से जले हुए एक शव को बाहर लाया गया और अंतिम संस्कार किया गया. इस बीच, चंदौली के धनापुर में छह सड़े-गले शव बरामद किए गए और उनका अंतिम संस्कार किया गया.

चंदौली के जिला मजिस्ट्रेट संजीव सिंह ने कहा कि धनापुर में बरामद सभी शव बुरी तरह सड़ चुके थे और ऐसा लगता है कि एक सप्ताह पहले उनका निस्तारण कर दिया गया था. उन्होंने कहा कि किसी भी शव को पीपीई किट में पैक नहीं किया गया था और उन पर पत्थर बंधे थे.

संभागीय आयुक्त दीपक अग्रवाल ने कहा, "हमने ग्रामीण क्षेत्रों में श्मशान घाटों पर टीमों को तैनात किया है ताकि लोगों को नदियों में शवों का निपटान न करने के लिए कहा जाए और अगर वे अंतिम संस्कार करने में असमर्थ हैं तो पुलिस को सूचित करें." बिहार के अधिकारियों ने दावा किया कि उत्तरप्रदेश से 71 शव बहकर राज्य में आ गए थे. अधिकारियों ने इसके बाद नदी में नेट लगा दिया है.

विपक्ष ने राज्य में कोविड की मौतों को कम बताने का आरोप लगाते हुए राज्य सरकार पर हमला किया है. समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट किया, "गंगा में तैरती लाशें महज आंकड़े नहीं हैं, वे किसी के पिता, मां, भाई और बहन हैं. सरकार की जवाबदेही होनी चाहिए जिसने अपने लोगों को इतनी बुरी तरह विफल कर दिया है."

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी ट्वीट किया, "बलिया और गाजीपुर में गंगा में शव तैर रही हैं. रिपोर्ट में उन्नाव में नदी के किनारे बड़े पैमाने पर शव दफनाने की खबरें आ रही हैं. लखनऊ, गोरखपुर, झांसी और कानपुर जैसे शहरों से आधिकारिक संख्या कम बताई जा रही है."

उन्होंने उच्च न्यायालय के न्यायाधीश द्वारा न्यायिक जांच की मांग करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में जो हो रहा है, वह अमानवीय और आपराधिक है. उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार छवि निर्माण में व्यस्त है जबकि लोग परेशान हैं.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 15 May 2021, 01:14:28 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.