News Nation Logo
Banner

राहुल गांधी के दावे को J&K पुलिस ने किया खारिज, कहा-पिछले 6 दिनों में एक गोली नहीं चली

राज्य के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने कहा कि पथराव की मामूली घटना को छोड़कर किसी तरह की अप्रिय घटना नहीं हुई है. पिछले एक हफ्ते से घाटी में शांति है.

By : Nihar Saxena | Updated on: 11 Aug 2019, 07:44:26 AM
जम्मू कश्मीर के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने बताई सच्चाई.

जम्मू कश्मीर के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने बताई सच्चाई.

highlights

  • जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक ने राहुल गांधी की बात गलत ठहराई.
  • उन्होंने कहा कि पिछले छह दिनों में एक भी गोली नहीं चली.
  • ईद पर भी जुमे की ही तरह रहेगी कुछ सख्ती.

नई दिल्ली.:

कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक से बाहर आते ही भूतपूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने जम्मू कश्मीर मसले पर मोदी सरकार को घेरते हुए कहा था कि राज्य में हालात बिगड़े हैं. इसके साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस पर जवाब मांगा था. पीएम मोदी तो नहीं, लेकिन उनके हालात बिगड़ने के दावे को जम्मू-कश्मीर पुलिस ने ही सिरे से खारिज कर दिया है. राज्य के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने कहा कि पथराव की मामूली घटना को छोड़कर किसी तरह की अप्रिय घटना नहीं हुई है. पिछले एक हफ्ते से घाटी में शांति है.

यह भी पढ़ेंः सोनिया गांधी बनीं कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष, CWC की बैठक में लिया गया बड़ा फैसला

ट्वीट कर किया हिंसा का खंडन
डीजीपी दिलबाग सिंह ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी के बयान के बाद राज्य की स्थिति के संबंध में यह स्पष्टीकरण दिया. राहुल गांधी ने नई दिल्ली में पत्रकारों से शनिवार को कहा था कि स्थिति बहुत खराब है. राहुल ने कहा, 'जो खबरें आ रही हैं उससे हम बहुत चिंतित हैं. बहुत जरूरी है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्र सरकार देश को बताए कि जम्मू-कश्मीर में क्या हो रहा है, वहां हालात कैसे हैं, सब नियंत्रण में है या नहीं.' गांधी के बयान के कुछ ही मिनट बाद श्रीनगर पुलिस ने ट्वीट किया कि स्थिति शांतिपूर्ण है. ट्वीट में कहा गया, 'घाटी में स्थिति आज (शनिवार) सामान्य थी. किसी अप्रिय घटना की खबर नहीं मिली. कुछ चुनिंदा स्थानों पर प्रतिबंध अस्थायी रूप से हटाए गए थे.'

यह भी पढ़ेंः 'क्रिमिनल' थे नेहरू, उन्होंने दो बड़े अपराध किए, Article 370 पर शिवराज सिंह ने कांग्रेस को घेरा

विदेशी न्यूज एजेंसी की रिपोर्ट भी मनगढ़ंत
गौरतलब है कि ब्रिटेन की एक न्यूज एजेंसी ने भी शनिवार को एक रिपोर्ट में दावा किया था कि जम्मू कश्मीर में बड़े पैमाने पर लोगों ने धारा 370 हटाए जाने के विरोध में प्रदर्शन किया. साथ ही एक 47 से गोलियां चलने की भी बात की गई थी. इस दावे को खारिज करते हुए पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने कहा, 'पथराव की मामूली घटना को छोड़ कर किसी तरह की अप्रिय घटना की कोई खबर नहीं है. इस घटना से भी तत्काल निपट लिया गया था.' उन्होंने लोगों से मनगढ़ंत खबरों पर यकीन नहीं करने को कहा. डीजीपी ने कहा कि कश्मीर में पिछले छह दिनों में गोलीबारी की कोई घटना नहीं हुई है.

यह भी पढ़ेंः तो इस वजह से NSA Ajit Doval से डरता है पाकिस्तान, जानिए अजित डोभाल से जुड़ी कुछ खास बातें

घाटी में एक हफ्ते से शांति
कश्मीर के आईजी एसपी पाणी ने भी पुलिस फायरिंग की खबरों को पूरी तरह खारिज कर दिया है. उन्होंने कहा, 'कुछ इंटरनेशनल मीडिया रिपोर्ट्स में पुलिस फायरिंग का दावा किया गया है, जो पूरी तरह गलत है. ऐसी कोई घटना नहीं हुई है. पिछले एक हफ्ते से घाटी में शांति है.' इससे पहले गृह मंत्रालय ने भी ऐसी खबरों को मनगढ़ंत और आधारहीन करार दिया. गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने बयान जारी कर कहा कि हजारों लोगों के विरोध करने की खबरें गलत हैं.

यह भी पढ़ेंः पाकिस्तान के आतंकी रच रहे 'समुद्री जिहाद' की साजिश, करारा जवाब देने को तैयार नौसेना

ईद पर भी रहेगी कुछ सख्ती
इस बीच सरकार ने ईद के मौके पर भी जुमे की तरह ही कुछ हद तक सख्ती बनाए रखने का फैसला लिया गया है. घाटी में ईद के मौके पर चरणबद्ध तरीके से धारा 144 को हटाया जाएगा. हालांकि पाबंदियों को पूरी तरह से हटाने की स्थिति 15 अगस्त के बाद ही पैदा होगी. इसकी वजह यह है कि यही वह दौर होता है, जब घाटी में अलगाववादी अपना आंदोलन तेज करते हैं.

First Published : 11 Aug 2019, 07:44:26 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×