News Nation Logo
Banner

राहुल गांधी का पीएम मोदी पर हमला, बोले- कोरोना वायरस के संकट को पहले ही गंभीरता से लेना चाहिए था

गांधी ने कहा, 'हमारे पास तैयारी का समय था. हमें इस खतरे को ज्यादा गंभीरता से लेना चाहिए था और बेहतर तैयारी कर लेनी चाहिए थी.'

Bhasha | Updated on: 24 Mar 2020, 03:41:39 PM
rahul gandhi

राहुल गांधी (Photo Credit: फाइल फोटो)

दिल्ली:

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कोरोना वायरस की वजह से उत्पन्न संकट से निपटने के लिए सरकार की तैयारियों पर सवाल खड़े करते हुए मंगलवार को कहा कि इस वायरस के खतरे को पहले ही गंभीरता से लेना चाहिए था. उन्होंने मास्क एवं ग्लव्स की कमी से जुड़े, एक चिकित्सक के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए कहा, 'मुझे दुख हो रहा है क्योंकि इस स्थिति से बचा जा सकता था.'

गांधी ने कहा, 'हमारे पास तैयारी का समय था. हमें इस खतरे को ज्यादा गंभीरता से लेना चाहिए था और बेहतर तैयारी कर लेनी चाहिए थी.' पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इस चिकित्सक के ट्वीट का हवाला देते हुए कहा, 'प्रधानमंत्री जी, कोरोना वायरस से लड़ने की आपकी रणनीति में यही गलती है. चिकित्सकों एवं नर्सों को ताली नहीं, स्वास्थ्य सुरक्षा से जुड़े उपकरणों की जरूरत है.' उन्होंने कहा कि सरकार को चिकित्सा कर्मियों की आवाज सुननी चाहिए.

यह भी पढ़ें: Corona Virus Updates: ब्रिटेन से लौटी छात्रा पर मुकदमा दर्ज, नहीं किया था इस नियम का पालन

इससे पहले शिवसेना ने मंगलवार को कहा कि कोरोना वायरस से निपटने के काम में लगे लोगों की सराहना करने के लिए ताली बजाने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील के कारण लोग इस वैश्विक महामारी को रोकने के लिए लागू लॉकडाउन की गंभीरता को समझ नहीं रहे. पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ के एक संपादकीय में कहा गया है कि देश के लोग किसी चीज को तभी गंभीरता से लेते हैं जब उसे लेकर भय या आतंक महसूस हो.

यह भी पढ़ें: कोरोना को लेकर भारत को मिली बड़ी सफलता, बनाई पहली स्वदेशी किट, एक दिन में हो सकेंगे 1000 टेस्ट

मराठी दैनिक में कहा गया, “जब लोगों में डर बढ़ने लगा था, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोगों से स्वास्थ्य कर्मियों का मनोबल बढ़ाने के लिए बालकनी में निकल कर ताली और थाली बजाने के लिए कहा.” इसमें कहा गया कि अपील पर प्रतिक्रिया देते हुए लोग बड़ी संख्या में बाहर आए और सड़कों पर नाचने लगे जिससे स्थिति “उत्सव” जैसी लगने लगी. उद्धव ठाकरे नीत पार्टी ने कहा, “इस पूरे मुद्दे को किसने गैर-गंभीर नजरिया दिया? राजनीतिक पार्टी के कार्यकर्ता सड़कों पर उतर आए और नारेबाजी करने लगे. हमने निषधाज्ञाओं का उल्लंघन किया. यह नागरिकों का कर्तव्य है कि वे बंद के संबंध में राज्य सरकार के आदेश का पालन करें.”

First Published : 24 Mar 2020, 03:35:05 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×