News Nation Logo
Breaking
नवजोत सिद्धू ने सरेंडर के लिए SC से मांगी एक हफ्ते की मोहलत, दिया खराब सेहत का हवाला पेगासस मामला : सुप्रीम कोर्ट ने कमेटी को 4 हफ्ते में रिपोर्ट पेश करने कहा, जुलाई में अगली सुनवाई जम्मू कश्मीर: रामबन के खूनी नाला इलाके में मलबे से 1 मजदूर का शव बरामद, रेस्क्यू जारी पटना : राबड़ी देवी आवास में CBI की टीम, बाहर धरना पर बैठे राजद कार्यकर्ता यूपी में हो रहे विरोध के चलते 5 जून को होने वाला अयोध्या दौरा राज ठाकरे ने कैंसल किया ज्ञानवापी मामले में आज सुप्रीम कोर्ट में दोपहर बाद सुनवाई, फैसले पर सबकी नजर बेंगलुरु इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर बम की अफवाह, एक आरोपी गिरफ्तार पेगासस सॉफ्टवेयर मामला : अंतरिम जांच रिपोर्ट पर सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई
Banner

पंजाब में 93 लाख टन गेहूं की खरीद, 2021 के मुकाबले 25 फीसदी की गिरावट

पंजाब में 93 लाख टन गेहूं की खरीद, 2021 के मुकाबले 25 फीसदी की गिरावट

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 03 May 2022, 08:40:01 PM
Punjab procure

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

चंडीगढ़:   पंजाब ने चालू रबी मार्केटिंग सीजन में 93 लाख टन से अधिक गेहूं की खरीद की है, जो 2021 में 125 लाख टन की तुलना में 25 प्रतिशत कम है। अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी।

गेहूं की आवक में भारी गिरावट के साथ खाद्य, नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता मामलों के विभाग ने गेहूं खरीद पूरी करने की समय-सीमा की घोषणा की है।

खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री लाल चंद कटारुचक ने कहा कि राज्य में मंडियों को 5 मई से चरणबद्ध तरीके से बंद किया जाएगा। इस संबंध में मंडी बोर्ड द्वारा अधिसूचना जारी की जाएगी।

मंत्री ने कहा कि खराब मौसम के कारण राज्य के अधिकांश हिस्सों में अनाज के दाने सिकुड़ गए।

उन्होंने कहा कि वैश्विक गेहूं की कीमतों में तेजी के बाद अधिकांश राज्यों में गेहूं की सरकारी खरीद में भारी गिरावट देखी गई है, लेकिन पंजाब ने केंद्रीय पूल में 93 लाख टन से अधिक गेहूं की सबसे बड़ी मात्रा का योगदान करने में देश की अगुवाई की।

सिकुड़े हुए अनाज के लिए मानदंडों में छूट में देरी के बारे में उन्होंने कहा कि केंद्र ने मंडियों से नमूने लेने के लिए अधिकारियों का दूसरा दस्ता भेजने का फैसला किया है, ताकि अनाज के सिकुड़ने के कारण का पता लगाया जा सके।

लू चलने से पंजाब में गेहूं की फसल केंद्र द्वारा निर्दिष्ट छह प्रतिशत की सीमा से बहुत अधिक क्षतिग्रस्त हो गई। विशेषज्ञों का कहना है कि इससे उपज में कम से कम चार क्विंटल प्रति हेक्टेयर की गिरावट आई है।

शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने फरवरी में बेमौसम बारिश और मार्च में अत्यधिक तापमान के कारण 10,000 रुपये प्रति एकड़ नुकसान झेलने वाले किसानों को मुआवजा दिलाने के लिए केंद्र से संपर्क नहीं करने को लेकर राज्य की आप सरकार की आलोचना की है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 03 May 2022, 08:40:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.