News Nation Logo
प्रभावित देशों से आने वाले यात्रियों का एयरपोर्ट पर RT-PCR टेस्ट किया जा रहा है: सत्येंद्र जैन कोविड का नया वेरिएंट ओमीक्रॉन चिंता का विषय है: दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन दिल्ली में पिछले कुछ महीनों से कोविड मामले और पॉजिटिविटी रेट काफी कम है: सत्येंद्र जैन आंदोलनकारी किसानों की मौत और बढ़ती महंगाई के मुद्दे पर विपक्षी सांसदों ने राज्यसभा में नारेबाजी की गृहमंत्री अमित शाह आज यूपी दौरे पर रहेंगे दिल्ली में आज भी प्रदूषण का स्तर काफी खराब, AQI 342 पर पहुंचा बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने बैठकर गाया राष्ट्रगान, मुंबई BJP के एक नेता ने दर्ज कराई FIR यूपी सरकार ने भी ओमीक्रॉन को लेकर कसी कमर, बस स्टेशन- रेलवे स्टेशन पर होगी RT-PCR जांच

जेल में क्षमता से अधिक क़ैदी रखे जाने पर SC की टिप्पणी- ठीक से नहीं रख सकते तो छोड़ दें

कोर्ट ने टिप्पणी उस समय किया जब अदालत में बताया गया कि देश भर में 1300 जेलों में कैदियों की संख्या क्षमता से ज्यादा है।

News Nation Bureau | Edited By : Abhiranjan Kumar | Updated on: 31 Mar 2018, 09:47:56 AM
सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

जेल में क्षमता से अधिक कैदी रखने के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने संज्ञान लेते हुए कहा है कि जेल में कैदियों को जानवरों की तरह नहीं रखा जा सकता है।

कोर्ट ने यह टिप्पणी उस समय किया जब अदालत में बताया गया कि देश भर में 1300 जेलों में कैदियों की संख्या क्षमता से ज्यादा है। कोर्ट को इस बात की भी जानकारी दी गई कि कई जेलों में क्षमता से 600 फीसदी ज्यादा कैदी हैं।

जेल में कैदियों की हालत को लेकर जस्टिस मदन बी लोकूर की अगुवाई वाली बेंच सुनवाई कर रही थी। बेंच ने कहा कि अगर कैदियों को सही तरह से रखा नहीं जा सकता तो उन्हें सुधारने की क्या बात की जाए।

कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा कि अगर उन्हें सही तरह से जेल में रखा नहीं जा सकता तो उन्हें छोड़ दिया जाना चाहिए। अदालत ने कहा कि यह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है।

राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश के डीजी को चेतावनी देते हुए कहा गया कि अगर आदेश का सही तरीके से पालन नहीं किया गया तो नोटिस जारी किया जाएगा।

सभी राज्यों की खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

First Published : 31 Mar 2018, 09:06:33 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.