News Nation Logo
मुंबई भी पहुंचा ओमीक्रॉन वैरिएंट, एक और मरीज मिला प्रियंका गांधी का बड़ा आरोप- UP TET घोटाले में दाल में कुछ काला ही नहीं, पूरी दाल ही काली है BJP योगी के नेतृत्व में लड़ेगी यूपी चुनाव: अमित शाहRead More » IPL 2022 : RCB के साथ फिर जुड़ेंगे एबी डिविलियर्स, विराट कोहली के साथ...!Read More » नवजोत सिंह सिद्धू ने फिर की भारत-पाक बार्डर खोलने की मांग ओमीक्रॉन को लेकर केंद्र की राज्यों को चिट्ठी, Omicron पर ट्रेसिंग और टेस्टिंग बढ़ाना जरूरी MSP गारंटी पर कमेटी के लिए 5 नामों पर बनी सहमति PM मोदी ने देवभूमि को किया प्रणाम, पढ़ी ये कविता 'जहां पर्वत गर्व सिखाते हैं...'Read More » ओमीक्रॉन खौफ के बीच टीम इंडिया का दक्षिण अफ्रीका दौरा टला न्यूजीलैंड में शामिल मुंबई के लड़के एजाज पटेल ने किया कमाल. लिए 10 विकेट

पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई राज्यसभा जाएंगे, राष्ट्रपति कोविंद ने किया मनोनीत

पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई को राष्ट्रपति ने राज्यसभा के लिए किया नामित

News Nation Bureau | Edited By : Nitu Pandey | Updated on: 16 Mar 2020, 09:44:47 PM
ranjan gogoi

पूर्व जीसेआई रंजन गोगोई (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई (Ranjan gogoi) राज्यसभा जाएंगे. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (Ram nath kovind) ने उन्हें राज्यसभा के लिए मनोनित किया है. 17 नवंबर 2019 को रंजन गोगोई रिटायर चीफ जस्टिस के पद से रिटायर हो गए थे. चीफ जस्टिस के रूप में रंजन गोगोई का कार्यकाल करीब साढ़े 13 महीने का रहा.इस दौरान उन्होंने कुल 47 फैसले सुनाए, जिनमें से राम जन्मभूमि, तीन तलाक जैसे ऐतिहासिक फैसले भी शामिल हैं

रंजन गोगोई 3 अक्टूबर 2018 को भारत के 46वें चीफ जस्टिस बने. वो असम के पूर्व मुख्यमंत्री केशब चंद्र गोगोई के बेटे हैं. उन्होंने 1978 में वकालत शुरु की. 2001 में गुवाहाटी हाईकोर्ट के स्थाई जज बने. 2011 में पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस बने और 23 अप्रैल 2012 को सुप्रीम कोर्ट के जज नियुक्त हुए. 

इसे भी पढ़ें:पंजाब के CM अमरिंदर सिंह ने कहा- जरूर लड़ूंगा विधानसभा चुनाव, अभी तो मैं जवान हूं

रंजन गोगोई के ऐतिहासिक फैसले

राम जन्मभूमि, तीन तलाक, असम में एनआरसी, राफेल, सीजेआई ऑफिस आरटीआई के दायरे में आएगा जैसे फैसले सुनाए.

और पढ़ें:Corona virus: देश भर में 31 मार्च तक स्कूल-कॉलेज बंद, नया हेल्पलाइन नंबर जारी

विवादों में भी रहे थे रंजन गोगोई

गोगोई पर यौन उत्पीड़न का आरोप भी लगा. सुप्रीम कोर्ट की एक पूर्व कर्मचारी ने 19 अप्रैल को जस्टिस रंजन गोगोई पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे. लेकिन बाद में आरोपों से वो मुक्त हो गए.

ये लोग भी पहले राज्सभा के लिए हो चुके हैं मनोनीत

इससे पहले क़ानून के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए फली नरीमन, के परासरन और के टी एस तुलसी राज्यसभा के लिए मनोनीत हुए है.

First Published : 16 Mar 2020, 09:22:04 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.