News Nation Logo

तमिलनाडु में बारिश के कारण चिकन की कीमतों में गिरावट के बाद पोल्ट्री किसान परेशान

तमिलनाडु में बारिश के कारण चिकन की कीमतों में गिरावट के बाद पोल्ट्री किसान परेशान

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 24 Nov 2021, 09:40:02 PM
Poultry farm

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

चेन्नई: तमिलनाडु के पोल्ट्री किसान, (जो दक्षिण भारतीय राज्यों केरल, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक को बड़ी मात्रा में चिकन और अंडे सप्लाई करते थे) चिकन की कीमत में भारी गिरावट के कारण काफी संकट में हैं।

चिकन की कीमत जून में 123 रुपये प्रति किलो, जुलाई में 133, अगस्त में 116 और सितंबर में 120 रुपये थी, जो अक्टूबर में 110 रुपये और अंत में 100 रुपये पर पहुंच गई है। हालांकि, अब चिकन की कीमतें 72 रुपये प्रति किलोग्राम हो गई हैं, जिससे बड़ी मात्रा में मुर्गी पालन करने वाले पोल्ट्री किसानों को परेशानी हो रही है।

कोयंबटूर के एक पोल्ट्री किसान सुमेश गोपालन ने आईएएनएस को बताया, कीमत 72 रुपये प्रति किलोग्राम हो गई है और हम इसे वहन नहीं कर सकते, क्योंकि हम वर्तमान दर पर अधिक खर्च करते हैं। मुझे दुकान बंद करनी होगी, क्योंकि मेरे पास 60 से अधिक कर्मचारी काम कर रहे हैं। जबकि मेरा फार्म, जो एक हफ्ते में 25,000 से ज्यादा मुर्गियां बेचता है।

किसान कीमतों में गिरावट का श्रेय भारी बारिश को दे रहे हैं, जिसके कारण सड़कें टूट गई हैं और परिवहन की आवाजाही ठप हो गई है। अधिकांश मुर्गियों को पड़ोसी राज्यों में नहीं ले जाया जा रहा है।

पोल्ट्री फार्म के मालिक पुरंदरनाथन ने तिरुपुर जिले के पल्लादम से आईएएनएस से बात करते हुए कहा, मुर्गियां आमतौर पर सोया और मक्का खाती है और इन दोनों वस्तुओं की कीमत बढ़ गई है। सड़कों के टूट जाने और लगातार बारिश जारी रहने के कारण मुर्गे का माल नहीं ले जाया जा रहा है। परिवहन की कमी ने हमारे संकट को दोगुना कर दिया है, क्योंकि हमें उस मुर्गे को खिलाना होगा, जो दूसरी जगह नहीं ले जाया जाता है और हमें उसके पैसे नहीं मिलते हैं।

प्रमुख पोल्ट्री किसानों के अलावा, चिकन बेचने वाली छोटी-छोटी दुकानों को भी गर्मी का सामना करना पड़ रहा है। इरोड में एक चिकन की दुकान के मालिक मुरुगेसन ने आईएएनएस को बताया, मैं एक दिन में 30 से 50 मुर्गियां बेचता था और प्रत्येक का वजन तीन से चार किलोग्राम होता था। सबरीमाला सीजन चालू होने के कारण मैं मुश्किल से पांच से दस ही मुर्गे बेच पा रहा हूं। साथ ही, आपूर्ति की कमी के कारण स्टॉक समाप्त हो गया है और पोल्ट्री किसान ने बताया है कि सड़कों की अच्छी स्थिति नहीं होने के कारण ट्रांसपोर्ट संभव नहीं है।

पश्चिमी तमिलनाडु में पल्लादम को राज्य में चिकन व्यवसाय का केंद्र माना जाता है और इस क्षेत्र में केवल 5,000 से अधिक फार्म संचालित होते हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 24 Nov 2021, 09:40:02 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.