News Nation Logo
Banner

PMC Bank के पूर्व निदेशक रजनीत सिंह गिरफ्तार, बीजेपी से है इनका पुराना नाता

पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक (PMC Bank) घोटाला मामले में पूर्व निदेशक रजनीत सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया है.

By : Nitu Pandey | Updated on: 16 Nov 2019, 08:40:39 PM
PMC Bank के पूर्व निदेशक रजनीत सिंह गिरफ्तार, बीजेपी से है पुराना नाता

PMC Bank के पूर्व निदेशक रजनीत सिंह गिरफ्तार, बीजेपी से है पुराना नाता (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक (PMC Bank) घोटाला मामले में पूर्व निदेशक रजनीत सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया है. मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) ने इन्हें गिरफ्तार किया है. रजनीत सिंह बीजेपी के पूर्व विधायक तारा सिंह के बेटे हैं. मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने पीएमसी बैंक घोटाले में संलिप्त दो ऑडिटरों को सोमवार को गिरफ्तार किया है.

बैंक में गड़बड़ी को लेकर रंजीत सिंह का कहना है कि वो बैंक के रोजमर्रा की गतिविधियों में शामिल नहीं रहे हैं. बैंक द्वारा किसी को लोन देने की मुझे कोई जानकारी नहीं है. पूर्व निदेशक रजनीत खुद भी बीजेपी के सदस्य हैं . वो मुलुंड से 2017 का बीएमसी चुनाव लड़ने के लिए बीजेपी का टिकट लेने को लेकर पूरा जोर लगाया था, लेकिन वह टिकट बीजेपी के तत्कालीन सांसद किरीट सोमैया के बेटे नील सोमैया को मिल गया था.

इधर, पंजाब एवं महाराष्ट्र सहाकारिता बैंक (पीएमसी) के दो निदेशक परमीत सोढ़ी और सुरजीत सिंह नारंग की अग्रिम जमानत याचिका खारिज हो गया है. अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश एसटी सूर ने याचिका खारिज करते हुए कहा कि उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ करना आवश्यक है.

बता दें कि आरबीआई ने पीएमसी बैंक के ग्राहकों को राहत दी है. भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने बैंक जमाकर्ताओं के लिए निकासी की सीमा मंगलवार को 40,000 रुपये से बढ़ाकर 50,000 रुपये कर दी. केंद्रीय बैंक ने पिछले महीने बैंकिंग नियमन अधिनियम के प्रावधानों के तहत नियामकीय प्रतिबंध लागू करने के बाद से यह चौथी बार निकासी सीमा बढ़ाई है.आरबीआई ने कहा कि इस राहत के साथ बैंक के 78 प्रतिशत जमाकर्ता अपनी पूरी राशि की निकासी करने में सक्षम होंगे.

इसे भी पढ़ें:प्रेमदासा बनाम राजपक्षेः श्रीलंका के नए राष्ट्रपति बतौर भारत के लिए क्या रहेगा मुफीद

गौरतलब है कि पीएमसी बैंक उस समय संकट में आ गया, जब बैंक से कर्ज लेने वाली हाउसिंग डेवलपमेंट एंड इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (एचडीआईएल) ने दिवालिया बोल दिया. बैंक द्वारा दिए गए कुल कर्ज का 73 प्रतिशत हिस्सा अकेले एचडीआईएल को दिया गया था.

इस घोटाले के सामने आने के बाद मुंबई में कोहराम मच गया, और जमाकर्ता विरोध प्रदर्शन पर उतर आए.

First Published : 16 Nov 2019, 08:37:25 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.