logo-image
लोकसभा चुनाव

करोड़ों की परियोजनाओं का लोकार्पण.. विपक्ष पर जोरदार हमला, पढ़ें PM Modi के वाराणसी दौरे की बड़ी बातें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज वाराणसी में थे, जहां उन्होंने 13202 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास किया. लोकसभा चुनाव से पूर्व उन्होंने विपक्ष पर भी जमकर हमला बोला.

Updated on: 23 Feb 2024, 06:29 PM

नई दिल्ली :

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज वाराणसी में थे, जहां उन्होंने 13202 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास किया. लोकसभा चुनाव से पूर्व उन्होंने विपक्ष पर भी जमकर हमला बोला. खासतौर पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी को निशाना बनाते हुए कहा कि, जिनके खुद के होश ठिकाने पर नहीं है, वे मेरे काशी के बच्चों को नशेड़ी कह रहे हैं. पीएम मोदी ने कहा कि, ये लोग परिवार और वोटबैंक से आगे सोचते हैं. उन्होंने कहा कि, यहां इंडी गठबंधन का पैतरा नहीं चलेगा...

यहां है पीएम मोदी के वाराणसी दौर की बड़ी बातें...

  • 1. पीएम नरेंद्र मोदी ने वाराणसी में 13,000 करोड़ रुपये से अधिक की परियोजनाओं की शिलान्यास किया. इस दौरान उन्होंने बनास डेयरी प्लांट समेत ₹10,972 करोड़ की 23 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण और ₹3,344 करोड़ की एक दर्जन से अधिक परियोजनाओं का शिलान्यास किया.
  • पीएम मोदी के वाराणसी आगमन पर बोलते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि, मोदी ने देश को एक नई पहचान दी है. रामलाल के आगमन पर देश अभिभूत है. उनके मार्गदर्शन पर यूपी का विकास हो रह हा है. 
  • सीएम योगी ने कहा कि, पीएम पिछले 10 वर्ष के भीतर वाराणसी को हजारों करोड़ की सौगात दी है. पीएम के हाथों बीएचयू के बाद एक और मेडिकल कॉलेज की सौगात देने जा रहे हैं.
  • पीएम नरेंद्र मोदी ने वाराणसी में रोड शो भी किया. उनके साथ सीएम योगी आदित्यनाथ भी मौजूद हैं. कार्यकर्ता उन पर फूलों की बारिश करते नजर आ रहे हैं.
  • इस दौरान पीएम मोदी ने विपक्ष पर भी जमकर हमला बोला- उन्होंने कहा कि, परिवारवाद ने यूपी को पीछे रखा. नौजवानों से उनका विकास छीना. मोदी को गाली देते-देते 2 दशक बीता दिये और अब ये जनता जनार्दन को गाली दे रहे हैं. परिवारवाद यूपी हमेशा युवा शक्ति से डरते हैं. 
  • इसके साथ राजधानी के इर्द-गिर्द चल रहे किसान आंदोलन के बीच पीएम मोदी ने कहा कि, दो दिन पहले ही सरकार ने गन्ने के न्यूनतम मूल्य को बढ़ाकर 340 रुपए प्रति क्विंटल कर दिया है. इससे पहले की सरकार मिन्नत करवाती थी, लेकिन अब किसानों के बकाये का भुगतान तो हो ही रहा है, फसलों के दाम भी बढ़ाए जा रहे हैं.