News Nation Logo

किसानों को आत्मनिर्भर बनाना है, वेबनार में बोले पीएम नरेन्द्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कृषि को लेकर आयोजित एक वेबिनार में कहा कि बढ़ते हुए कृषि उत्पादन के बीच, 21वीं सदी में भारत को पोस्ट हार्वेस्ट क्रांति या फिर फूड प्रोसेसिंग क्रांति और वेल्यू एडीशन की आवश्यकता है. देश के लिए बहुत अच्छा होता अगर ये काम दो-तीन दशक पहले ही कर लिया गया होता.

News Nation Bureau | Edited By : Kuldeep Singh | Updated on: 01 Mar 2021, 11:14:01 AM
narendra modi

किसानों को आत्मनिर्भर बनाना है, वेबनार में बोले पीएम नरेन्द्र मोदी (Photo Credit: ANI)

नई दिल्ली:

कृषि कानूनों को लेकर देशभर में किसान आंदोलन कर रहे हैं. केंद्र सरकार तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसान पिछले तीन महीने से प्रदर्शन कर रहे हैं. जगह-जगह महापंचायत का आयोजन किया जा रहा है. इस बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कृषि को लेकर आयोजित एक वेबिनार में कहा कि बढ़ते हुए कृषि उत्पादन के बीच, 21वीं सदी में भारत को पोस्ट हार्वेस्ट  क्रांति या फिर फूड प्रोसेसिंग क्रांति और वेल्यू एडीशन की आवश्यकता है. देश के लिए बहुत अच्छा होता अगर ये काम दो-तीन दशक पहले ही कर लिया गया होता.

LIVE TV NN

NS

NS

किसानों को ऋण, बीज और बाजार, खाद ये किसान की प्राथमिक जरूरत है, जो उसे समय पर चाहिए. बीते वर्षों में किसान क्रेडिट कार्ड छोटे से छोटे किसानों तक, पशुपालकों से लेकर मछुआरों तक इसका दायरा बढ़ाया है.

हमारे यहां कॉन्ट्रेक्ट फार्मिंग लंबे समय से किसी न किसी रूप में की जा रही है. हमारी कोशिश होनी चाहिए की कॉन्ट्रेक्ट फार्मिंग सिर्फ व्यापार बनकर न रहे. बल्कि उस जमीन के प्रति हमारी जिम्मेदारी को भी हम निभाएं.

मोटे अनाज के लिए भारत की एक बड़ी जमीन बहुत उपयोगी है. मोटे अनाज की डिमांड पहले ही दुनिया में बहुत अधिक थी, अब कोरोना के बाद ये इम्यूनिटी बूस्टर के रूप में बहुत प्रसिद्ध हो चुका है. इस तरफ किसानों को प्रोत्साहित कराना भी फूड इंडस्ट्री के साथियों की बहुत बड़ी जिम्मेदारी है.

एग्रीकल्चर सेक्टर में रिसर्च एंड डेवलपमेंट को लेकर ज्यादातर योगदान पब्लिक सेक्टर का ही है. अब समय आ गया है कि इसमें प्राइवेट सेक्टर की भागीदारी बढ़े. हमें अब किसानों को ऐसे विकल्प देने हैं जिसमें वो गेहूं-चावल उगाने तक ही सीमित न रहे. 

खेती से जुड़ा एक और अहम पहलू सॉइल टेस्टिंग का है. बीते वर्षों में केंद्र सरकार द्वारा करोड़ों किसानों को सॉइल हेल्थ कार्ड दिए गए हैं. अब हमें देश में सॉइल हेल्थ कार्ड की टेस्टिंग की सुविधा गांव-गांव तक पहुंचानी है.

ऑपरेशन ग्रीन्स योजना के तहत किसान रेल के लिए सभी फलों और सब्जियों के परिवहन पर 50 प्रतिशत सब्सिडी दी जा रही है. किसान रेल भी आज देश के कोल्ड स्टोरेज नेटवर्क का सशक्त माध्यम बनी है. 

पीएम मोदी ने कहा कि हमें देश के एग्रीकल्चर सेक्टर का, प्रोसेस्ड फूड के वैश्विक मार्केट में विस्तार करना ही होगा. हमें गांव के पास ही Agro-Industries Clusters की संख्या बढ़ानी ही होगी ताकि गांव के लोगों को गांव में ही खेती से जुड़े रोजगार मिल सकें.

पीएम मोदी ने कहा कि हमें कृषि के हर सेक्टर में हर खाद्यान्न, फल, सब्जी, मत्स्य सभी में प्रोसेसिंग पर विशेष ध्यान देना है. इसके लिए जरूरी है कि किसानों को अपने गांवों के पास ही स्टोरेज की आधुनिक सुविधा मिले. खेत से प्रोसेसिंग यूनिट तक पहुंचने की व्यवस्था सुधारनी ही होगी.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि बढ़ते हुए कृषि उत्पादन के बीच, 21वीं सदी में भारत को पोस्ट हार्वेस्ट  क्रांति या फिर फूड प्रोसेसिंग क्रांति और वेल्यू एडीशन की आवश्यकता है. देश के लिए बहुत अच्छा होता अगर ये काम दो-तीन दशक पहले ही कर लिया गया होता.

First Published : 01 Mar 2021, 11:09:08 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.