News Nation Logo

'मन की बात' : पीएम ने VOCAL FOR LOCAL की दिलाई याद, कहा- ड्रोन तकनीक में भारत बनेगा सबसे ताकतवर देश Live

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) 24 अक्टूबर यानी रविवार को 82वीं बार मन की बात ( Mann Ki Baat) कार्यक्रम के जरिये देशवासियों को कुछ देर में संबोधित करेंगे. इससे पहले पीएम मोदी इस कार्यक्रम के जरिये अब तक 81 बार देशवासियों को संबोधित कर चुके हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Vijay Shankar | Updated on: 24 Oct 2021, 11:42:13 AM
man ki baat

man ki baat (Photo Credit: Twitter)

नई दिल्ली:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) 24 अक्टूबर यानी रविवार को 82वीं बार मन की बात ( Mann Ki Baat) कार्यक्रम के जरिये देशवासियों को कुछ देर में संबोधित करेंगे.  इससे पहले पीएम मोदी इस कार्यक्रम के जरिये अब तक 81 बार देशवासियों को संबोधित कर चुके हैं. यह कार्यक्रम ऑल इंडिया रेडियो के पूरे नेटवर्क, दूरदर्शन, एआईआर न्यूज और मोबाइल ऐप, ऑफिशियल यूट्यूब चैनल और ट्विटर पर भी सुने जा सकते हैं. मन की बात कार्यक्रम के प्रसारण के तुरंत बाद और फिर से प्रसारण रात्रि 8 बजे किया जाएगा. मन की बात कार्यक्रम का पिछला एपिसोड 26 सितंबर को प्रसारित किया गया था.  

 

अगले महीने हम फिर मिलेंगे, और फिर ऐसे ही ढ़ेर सारे विषयों पर बात करेंगे |

"मुझे पूरा भरोसा है जो मुहिम हम सबने मिलकर शुरू की है, इस बार त्योहारों में और भी मजबूत होगी | आप अपने यहाँ के जो local products खरीदें, उनके बारे में social media पर share भी करें | अपने साथ के लोगों को भी बताएं |"

"आप local खरीदेंगे तो आपका त्योहार भी रोशन होगा और किसी गरीब भाई-बहन, किसी कारीगर, किसी बुनकर के घर में भी रोशनी आएगी |"

आपको याद है न, खरीदारी मतलब ‘VOCAL FOR LOCAL’!

अक्टूबर का पूरा महीना ही त्योहारों के रंगों में रंगा रहा है....

और हाँ मैं जब स्वच्छता की बात करता हूँ तब कृपा कर के Single Use Plastic से मुक्ति की बात हमें कभी भी भूलना नहीं है | तो आइये, हम संकल्प लें कि स्वच्छ भारत अभियान के उत्साह को कम नहीं होने देंगे |"

स्वच्छता के प्रयास तभी पूरी तरह सफल होते हैं जब हर नागरिक स्वच्छता को अपनी जिम्मेदारी समझे |

यू.पी. के गाज़ियाबाद के 'Pond Man' रामवीर तंवर जी की कहानी!

"मैं आपको छत्तीसगढ़ के देऊर गाँव की महिलाओं के बारे में भी बताना चाहता हूँ | यहाँ की महिलाएँ एक स्वयं सहायता समूह चलाती हैं और मिलजुल कर गाँव के चौक-चौराहों, सड़कों और मंदिरों की सफाई करती हैं |"

राँची से सटे एक गाँव सपारोम नया सराय की प्रेरणादायक कहानी!

जहाँ सफाई है, वहाँ स्वास्थ्य है, जहाँ स्वास्थ्य है, वहाँ सामर्थ्य है और जहाँ सामर्थ्य है, वहाँ समृद्धि है | इसलिए तो देश स्वच्छ भारत अभियान पर इतना जोर दे रहा है |

हमें Drone Technology में अग्रणी देश बनना है | इसके लिए सरकार हर संभव कदम उठा रही है | मैं देश के युवाओं से भी कहूँगा कि आप Drone Policy के बाद बने अवसरों का लाभ उठाने के बारे में जरूर सोचें, आगे आएं |"

और ये तो अभी शुरुआत है | हमें यहीं नहीं रुकना है....

हमने तय किया कि इस Mindset को बदला जाए और नए Trends को अपनाया जाए | इसीलिए इस साल 25 अगस्त को देश एक नई Drone नीति लेकर आया | ये नीति Drone से जुड़ी वर्तमान और भविष्य की संभावनाओं के हिसाब से बनाई गई है |"

साथियों, पहले इस Sector में इतने नियम, कानून और प्रतिबंध लगाकर रखे गए थे कि Drone की असली क्षमता का इस्तेमाल भी संभव नहीं था | जिस Technology को अवसर के तौर पर देखा जाना चाहिए था, उसे संकट के तौर पर देखा गया |"

बहुत समय नहीं है जब हम देखेंगे कि Drone हमारी इन सब जरूरतों के लिए तैनात होंगे | इनमें से ज़्यादातर की तो शुरुआत भी हो चुकी है |

Drone का दायरा, उसकी ताकत, सिर्फ इतनी ही नहीं है !

आज मैं ऐसे ही एक विषय की चर्चा आपसे करना चाहता हूँ, जो हमारे देश, विशेषकर हमारे युवाओं और छोटे-छोटे बच्चों तक की कल्पनाओं में छाया हुआ है | ये विषय है, Drone का, Drone Technology का |"

"मैं आशा करता हूं कि आगे और भी ज्यादा संख्या में महिलाएं पुलिस सेवा में शामिल होंगी, हमारे देश की New Age Policing को Lead करेंगी |"

"मैं महिला पुलिसकर्मियों से अनुरोध करना चाहूंगा कि वे स्कूलों के खुलने के बाद अपने क्षेत्रों के स्कूलों में Visit करें, वहां बच्चियों से बात करें | मुझे विश्वास है कि इस बातचीत से हमारी नई पीढ़ी को एक नई दिशा मिलेगी।"

हमारी ये महिला पुलिसकर्मी देश की लाखों और बेटियों के लिए भी Role Model बन रही हैं!

"महिला सुरक्षाकर्मियों की मौजूदगी से लोगों में, विशेषकर महिलाओं में सहज ही एक विश्वास पैदा होता है | वे उनसे स्वाभाविक रूप से खुद को जुड़ा महसूस करती हैं | महिलाओं की संवेदनशीलता की वजह से भी लोग उन पर ज्यादा भरोसा करते हैं |"

आज देश की बेटियाँ कठिन से कठिन Duty भी पूरी ताकत और हौसले से कर रही हैं |

"उदाहरण के लिए, कई बेटियां अभी सबसे कठिन मानी जाने वाली Trainings में से एक Specialized Jungle Warfare Commandos की Training ले रही हैं | ये हमारी Cobra Battalion का हिस्सा बनेंगी |"

"Bureau of Police Research and Development के आंकड़े बताते हैं कि पिछले कुछ वर्षों में महिला पुलिसकर्मियों की संख्या Double हो गई है ,दोगुनी हो गई है |"

पहले ये धारणा बन गई थी कि सेना और पुलिस जैसी सेवा केवल पुरुषों के लिए ही होती है | लेकिन आज ऐसा नहीं है |"

परिवार के सहयोग और त्याग के बिना पुलिस जैसी कठिन सेवा बहुत मुश्किल है!

मेरे प्यारे देशवासियो, अभी कुछ दिन पहले ही 21 अक्टूबर, को हमने पुलिस स्मृति दिवस मनाया है | पुलिस के जिन साथियों ने देश सेवा में अपने प्राण न्योछावर किए हैं, इस दिन हम उन्हें विशेष तौर पर याद करते हैं |"

"मैं आज अपने इन पुलिसकर्मियों के साथ ही उनके परिवारों को भी याद करना चाहूंगा |"

"साथियो, सयुंक्त राष्ट्र के बारे में बात करते हुए आज मुझे अटल जी के शब्द भी याद आ रहे हैं | 1977 में उन्होंने सयुंक्त राष्ट्र को हिंदी में संबोधित कर इतिहास रच दिया था | आज मैं ‘मन की बात’ के श्रोताओं को, अटल जी के उस संबोधन का एक अंश सुनाना चाहता हूँ |"

साथियों, अटल जी की ये बातें हमें आज भी दिशा दिखाती हैं | इस धरती को एक बेहतर और सुरक्षित Planet बनाने में भारत का योगदान, विश्व भर के लिए बहुत बड़ी प्रेरणा है |"

इसके अलावा योग और आयुष को लोकप्रिय बनाने के लिए भारत WHO यानि World Health Organisation के साथ मिलकर काम कर रहा है | मार्च, 2021 में WHO ने घोषणा की थी कि भारत में पारंपरिक चिकित्सा के लिए एक Global Centre स्थापित किया जाएगा |"

भारत ने सदैव विश्व शांति के लिए काम किया है | हमें इस बात का गर्व है कि भारत 1950 के दशक से लगातार सयुंक्त राष्ट्र शांति मिशन का हिस्सा रहा है |"

ॐ द्यौ: शान्तिरन्तरिक्षॅं शान्ति:, पृथ्वी शान्तिराप: शान्तिरोषधय: शान्ति:। वनस्पतय: शान्तिर्विश्र्वे देवा: शान्तिर्ब्रह्म शान्ति:, सर्वॅंशान्ति:, शान्तिरेव शान्ति:, सा मा शान्तिरेधि।। ॐ शान्ति: शान्ति: शान्ति:।।

"यही नहीं, 1953 में श्रीमती विजया लक्ष्मी पंडित, UN General Assembly की पहली महिला President भी बनी थीं |"

क्या आप जानते हैं कि श्रीमती हंसा मेहता वो Delegate थी जिनकी वजह से ये संभव हो पाया, उसी दौरान, एक अन्य Delegate श्रीमती लक्ष्मी मेनन ने Gender Equality के मुद्दे पर जोरदार तरीके से अपनी बात रखी थी?"

सयुंक्त राष्ट्र से जुड़ा एक अनोखा पहलू ये है कि सयुंक्त राष्ट्र का प्रभाव और उसकी शक्ति बढ़ाने में, भारत की नारी शक्ति ने, बड़ी भूमिका निभाई है |

क्या आप जानते हैं कि भारत ने आजादी से पहले 1945 में ही सयुंक्त राष्ट्र के Charter पर हस्ताक्षर किए थे ?

"मेरे प्यारे देशवासियो, आज 24 अक्टूबर, को UN Day यानि ‘सयुंक्त राष्ट्र दिवस’ मनाया जाता है | ये वो दिन है जब सयुंक्त राष्ट्र का गठन हुआ था, सयुंक्त राष्ट्र की स्थापना के समय से ही भारत इससे जुड़ रहा है |"

मैं ‘धरती आबा’ बिरसा मुंडा को नमन करता हूं और युवाओं से आग्रह करता हूं कि उनके बारे में और पढ़ें | भारत के स्वतंत्रता संग्राम में हमारे आदिवासी समूह के विशिष्ट योगदान के बारे में आप जितना जानेंगे, उतनी ही गौरव की अनुभूति होगी |"

जनमानस में तो भगवान बिरसा मुंडा हमेशा-हमेशा के लिए रचे-बसे हुए हैं | लोगों के लिए उनका जीवन एक प्रेरणा शक्ति बना हुआ है |"

गरीब और मुसीबत से घिरे लोगों की मदद करने में भगवान बिरसा मुंडा हमेशा आगे रहे | उन्होंने सामाजिक बुराइयों को खत्म करने के लिए समाज को जागरूक भी किया | उलगुलान आंदोलन में उनके नेतृत्व को भला कौन भूल सकता है!"

"इस आंदोलन ने अंग्रेजो को झकझोर कर रख दिया था | जिसके बाद अंग्रेजों ने भगवान बिरसा मुंडा पर बहुत बड़ा इनाम रखा था |"

British हुकूमत ने उन्हें जेल में डाला, उन्हें इस कदर प्रताड़ित किया गया कि 25 साल से भी कम उम्र में वो हमें छोड़ गए | वो हमें छोड़कर गए, लेकिन केवल शरीर से |"

प्रकृति और पर्यावरण से अगर हमें प्रेम करना सीखना है, तो उसके लिए भी धरती आबा भगवान बिरसा मुंडा हमारी बहुत बड़ी प्रेरणा हैं | उन्होंने विदेशी शासन की हर उस नीति का पुरजोर विरोध किया, जो पर्यावरण को नुकसान पहुचाने वाली थी |"

भगवान बिरसा मुंडा को ‘धरती आबा’ भी कहा जाता है | क्या आप जानते हैं कि इसका अर्थ क्या होता है ?

"भगवान बिरसा मुंडा ने जिस तरह अपनी संस्कृति, अपने जंगल, अपनी जमीन की रक्षा के लिय संघर्ष किया, वो धरती आबा ही कर सकते थे |"

उन्होंने हमें अपनी संस्कृति और जड़ों के प्रति गर्व करना सिखाया | विदेशी हुकूमत ने उन्हें कितनी धमकियाँ दीं, कितना दबाव बनाया, लेकिन उन्होनें आदिवासी संस्कृति को नहीं छोड़ा |"

"प्यारे देशवासियो, इस समय हम अमृत महोत्सव में देश के वीर बेटे-बेटियों को उन महान पुण्य आत्माओं को याद कर रहे हैं | अगले महीने, 15 नवम्बर को हमारे देश के ऐसे ही महापुरुष, वीर योद्धा, भगवान बिरसा मुंडा जी की जन्म-जयंती आने वाली है |"

"प्यारे देशवासियो, इस समय हम अमृत महोत्सव में देश के वीर बेटे-बेटियों को उन महान पुण्य आत्माओं को याद कर रहे हैं | अगले महीने, 15 नवम्बर को हमारे देश के ऐसे ही महापुरुष, वीर योद्धा, भगवान बिरसा मुंडा जी की जन्म-जयंती आने वाली है |"

साथियो, ये तीनों प्रतियोगिताएं 31 अक्तूबर को सरदार साहब की जयंती से शुरू होने जा रही हैं | आने वाले दिनों में संस्कृति मंत्रालय इससे जुड़ी सारी जानकारी देगा |" - पीएम श्री



.

"ये जानकारी मंत्रालय की website पर भी रहेगी, और social media पर भी दी जाएगी | मैं चाहूँगा कि आप सभी इससे जुड़े | हमारे युवा-साथी जरुर इसमें अपनी कला का, अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करें |"

इससे आपके इलाके की कला और संस्कृति भी देश के कोने-कोने तक पहुंचेगी, आपकी कहानियाँ पूरा देश सुनेगा |"

"तो क्यों न हम, अमृतकाल में, इस कला को भी पुनर्जीवित करें और देशभक्ति से जुड़ी ऐसी लोरियां लिखें, कविताएं, गीत, कुछ-न-कुछ जरुर लिखें जो बड़े आसानी से, हर घर में माताएँ अपने छोटे-छोटे बच्चों को सुना सके ?"

"इन लोरियों में आधुनिक भारत का संदर्भ हो, 21वीं सदी के भारत के सपनों का दर्शन हो | आप सब श्रोताओं के सुझाव के बाद मंत्रालय ने इससे जुड़ी प्रतियोगिता भी कराने का निर्णय लिया गया है |"

"साथियो, एक और विधा हमारे यहाँ लोरी की भी है | हमारे यहाँ लोरी के जरिए छोटे बच्चों को संस्कार दिए जाते हैं, संस्कृति से उनका परिचय करवाया जाता है | लोरी की भी अपनी विविधता है |"

"आप कल्पना करिए, जब आजादी के आंदोलन से जुड़ी रंगोली बनेगी, लोग अपने द्वार पर, दीवार पर, किसी आजादी के मतवाले का चित्र बनाएंगे, आजादी की किसी घटना को रंगों से दिखाएंगे, तो, अमृत महोत्सव का भी रंग और बढ़ जाएगा |"

हमारे यहाँ रंगोली के जरिए त्योहारों में रंग भरने की परंपरा तो सदियों से है | रंगोली में देश की विविधता के दर्शन होते हैं | संस्कृति मंत्रालय इससे भी जुड़ा एक National Competition करने जा रहा है |

देशभक्ति के गीतों से जुड़ी प्रतियोगिता!

अमृत महोत्सव में भी अपनी कला, संस्कृति, गीत, संगीत के रंग अवश्य भरने चाहिये |"

"मानव मन के अंतर्मन को विकसित करने में, हमारे अंतर्मन की यात्रा का मार्ग बनाने में भी, गीत-संगीत और विभिन्न कलाओं की, बड़ी भूमिका होती है, और, इनकी एक बड़ी ताकत ये होती है कि इन्हें न समय बांध सकता है, न सीमा बांध सकती है और न ही मत-मतांतर बांध सकता है |"

गीत-संगीत, कला, नाट्य-नृत्य, साहित्य.. ये सभी विधाएं, हमारे जीवन में एक catalyst का काम करती हैं, हमारी ऊर्जा बढ़ाने का काम करती हैं |

प्यारे देशवासियो, जीवन निरंतर प्रगति चाहता है, विकास चाहता है, ऊँचाइयों को पार करना चाहता है |"

हम सरदार पटेल जी के जीवन से, उनके विचारों से, बहुत कुछ सीख सकते हैं!

राष्ट्रीय एकता है तो ऊँचाई है, विकास है |

आपको भी, भारत की एकता के लिए, भारत की श्रेष्ठता के लिए कुछ-न-कुछ जरुर करना चाहिए | देखिएगा, आपके मन को कितनी संतुष्टि मिलती है |"

"जम्मू-कश्मीर के ही कुपवाड़ा जिले की कई बहनों के बारे में भी मुझे पता चला है | ये बहनें कश्मीर में सेना और सरकारी दफ्तरों के लिए तिरंगा सिलने का काम कर रही हैं | ये काम देशभक्ति की भावना से भरा हुआ है | मैं इन बहनों के जज़्बे की सराहना करता हूँ |"

"आपने देखा होगा, हाल ही में गुजरात पुलिस ने कच्छ के लखपत किले से Statue of Unity तक Bike Rally निकाली है | त्रिपुरा पुलिस के जवान तो एकता दिवस मनाने के लिए त्रिपुरा से Statue of Unity तक Bike Rally कर रहे हैं |"

यानी, पूरब से चलकर पश्चिम तक देश को जोड़ रहे हैं | जम्मू-कश्मीर पुलिस के जवान भी उरी से पठानकोट तक ऐसी ही Bike Rally निकालकर देश की एकता का संदेश दे रहे हैं | मैं इन सभी जवानों को salute करता हूँ |"

साथियो, 31 अक्तूबर को हम ‘राष्ट्रीय एकता दिवस’ के रूप में मनाते हैं | हम सभी का दायित्व है कि हम एकता का संदेश देने वाली किसी-ना-किसी गतिविधि से जरुर जुड़ें |"

"मेरे प्यारे देशवासियो, आप जानते हैं कि अगले रविवार, 31 अक्तूबर को, सरदार पटेल जी की जन्म जयंती है | ‘मन की बात’ के हर श्रोता की तरफ से, और मेरी तरफ से, मैं, लौहपुरुष को नमन करता हूँ |"

हमारे स्वास्थ्य-कर्मियों ने अपने अथक परिश्रम और संकल्प से एक नई मिसाल पेश की, उन्होंने Innovation के साथ अपने दृढ़ निश्चय से मानवता की सेवा का एक नया मानदंड स्थापित किया |"

साथियो, ये बागेश्वर उत्तराखंड की उस धरती से है जिस उत्तराखंड ने शत-प्रतिशत पहला dose लगाने का काम पूरा कर दिया है | उत्तराखंड सरकार भी इसके लिए अभिनन्दन की अधिकारी है, क्योंकि, बहुत दुर्गम क्षेत्र है, कठिन क्षेत्र है |"

पीएम श्री नरेन्द्र मोदी और पूनम नौटियाल जी का संवाद -

"हमने कई बार अख़बारों में पढ़ा है, बाहर भी सुना है इस काम को करने के लिए हमारे इन लोगों ने कितनी मेहनत की है, एक से बढ़कर एक अनेक प्रेरक उदाहरण हमारे सामने हैं |"

"हमारे स्वास्थ्य-कर्मियों ने अपने अथक परिश्रम और संकल्प से एक नई मिसाल पेश की, उन्होंने Innovation के साथ अपने दृढ़ निश्चय से मानवता की सेवा का एक नया मानदंड स्थापित किया |"

साथियो, 100 करोड़ vaccine dose का आंकड़ा बहुत बड़ा जरुर है, लेकिन इससे लाखों छोटी-छोटी प्रेरक और गर्व से भर देने वाली अनेक अनुभव, अनेक उदाहरण जुड़े हुए हैं |"

हमारे vaccine कार्यक्रम की सफलता, भारत के सामर्थ्य को दिखाती है, सबके प्रयास के मंत्र की शक्ति को दिखाती है |"

First Published : 24 Oct 2021, 11:00:32 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.