logo-image
लोकसभा चुनाव

PM मोदी पोखरण में 'भारत शक्ति' युद्धाभ्यास का बनेंगे हिस्सा, स्वदेशी हथियारों की ताकत देखेगी दुनिया

PM Modi: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पोखरण में होने जा रहे 'भारत शक्ति' युद्धाभ्यास में भाग लेने के लिए 12 मार्च को राजस्थान जाएंगे.

Updated on: 03 Mar 2024, 09:54 AM

highlights

  • 12 मार्च को राजस्थान जाएंगे पीएम मोदी
  • 'भारत शक्ति' युद्धाभ्यास के बनेंगे हिस्सा
  • पोखरण में देखने को मिलेगी स्वदेशी हथियारों की ताकत

नई दिल्ली:

PM Modi: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 12 मार्च को राजस्थान के पोखरण जाएंगे. जहां वह वॉरगेम 'भारत शक्ति' में शामिल होंगे. इस कार्यक्रम में सिर्फ स्वदेशी तरीके से विकसित किए गए वेपन प्लेटफॉर्म (हथियार) और सिस्टम को शामिल किया जाएगा. पोखरण में होने जा रहे युद्धाभ्यास में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल अनिल चौहान  समेत तीनों सेनाओं के शीर्ष अधिकरी शामिल होंगे. इस युद्धभ्यास के दौरान 'आत्मनिर्भर भारत' की अवधारणा देखने को मिलेगी.

ये भी पढ़ें: Ambani Pre-Wedding: जामनगर में अंबानी परिवार संग झूम उठे सेलेब्स, जश्न मनाते हुए वीडियो वायरल

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस युद्धाभ्यास के दौरान पीएम मोदी सैन्य नेतृत्व को सैन्य मामलों रणनीति-आधारित क्रांति विकसित करने को कह सकते हैं, जिसमें केंद्र में भारत, भारतीय भूगोल एवं इसके सुरक्षा खतरों से निपटने की रणनीति शामिल हो. ऐसा कहा जा रहा है कि 'भारत शक्ति' नाम के इस युद्धाभ्यास में भारत में तैयार डिफेंस प्लेटफॉर्म और नेटवर्क आधारित सिस्टम को टेस्ट किया जाएगा. इससे युद्धाभ्यास से स्वदेशी हथियारों की ताकत के बारे में भी पता चलेगा.

भारतीय सेना के बाद नौसेना-वायुसेना को स्वदेशी बनाने पर जोर

बता दें कि भारतीय सेना सौ फीसदी स्वदेशी बन चुकी है. वह अब मोदी सरकार भारतीय नौसेना और वायुसेना को भी स्वदेशी बनाने पर जोर दे रही है. केंद्र सरकार का उद्देश्य है कि पनडुब्बी निर्माण और एयरक्राफ्ट इंजन मैन्युफेक्चरिंग में भी स्वदेशी तकनीकी का इस्तेमाल किया जाए. गौरतलब है कि वर्तमान में सरकार को एयरक्राफ्ट इंजन या फिर कुछ सबसे बेहतरीन लड़ाकू विमानों के लिए विदेशों पर निर्भर रहना पड़ता है. लेकिन आने वाले सालों में देश इस दिशा में आत्मनिर्भर बनने की कोशिश कर रहा है.

ये भी पढ़ें: Lok Sabha Election 2024: पीएम मोदी की अध्यक्षता में आज कैबिनेट की बैठक, लोकसभा चुनाव पर होगी चर्चा

खास होगा ये युद्धाभ्यास

पोखरण में होने वाले युद्धाभ्यास में स्वदेशी कम्युनिकेशन और नेटवर्क की क्षमता का परीक्षण किया जाएगा. जिससे इस बात का पता लगाया जा सके कि क्या दुश्मन देश युद्ध के हालात में उन्हें हैक कर सकता है या नहीं. इसके साथ ही 'भारत शक्ति' युद्धाभ्यास में तीनों सेनाओं को एक साथ काम करने का मौका मिलेगा. बता दें कि आमतौर पर तीनों सेनाएं अलग-अलग तरीके से काम करती हैं.

ये भी पढ़ें: Red Sea: हूती विद्रोहियों के हमले का बाद लाल सागर में डूबा जहाज, समुद्री जीवों पर मंडराया ये खतरा

युद्धाभ्यास में देखने को मिलेंगे ये हथियार

पोखरण में होने वाले युद्धाभ्यास में तेजस लड़ाकू विमान के अलावा के-9 आर्टिलरी गन, स्वदेशी ड्रोन, पिनाका मल्टी-बैरल रॉकेट लॉन्चर्स और शॉर्ट रेंज की मिसाइलें देखने को मिलेंगी. गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 'आत्मनिर्भर भारत' के आह्वान के बाद से ही देश की तीनों सेनाएं भारतीय सेना के जरिए विकसित सुरक्षित मोबाइल टेलीफोनी जैसी टेक्नोलॉजी के विकास पर केंद्रित हो गई हैं.