News Nation Logo
अनन्या पांडे से सोमवार को फिर पूछताछ करेगी NCB अभिनेत्री अनन्या पांडे एनसीबी कार्यालय से रवाना हुईं, करीब 4 घंटे चली पूछताछ DRDO ने ओडिशा के चांदीपुर रेंज से हाई-स्पीड एक्सपेंडेबल एरियल टारगेट (HEAT) का सफल परीक्षण किया कल जम्मू-कश्मीर जाएंगे गृहमंत्री अमित शाह दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक 27 अक्टूबर को, छठ पूजा उत्सव के लिए ली जाएगी अनुमति 1971 के भारत-पाक युद्ध ने दक्षिण एशियाई उपमहाद्वीप के भूगोल को बदल दिया: सीडीएस जनरल बिपिन रावत माता वैष्णों देवी मंदिर में तीर्थयात्रियों के बीच कोरोना का प्रसार रोकने के लिए नए दिशा-निर्देश जारी दिल्ली जा रही फ्लाइट में एक आदमी की अचानक तबीयत ख़राब होने पर फ्लाइट की इंदौर में इमरजेंसी लैंडिंग 1971 का युद्ध, इसमें भारतीयों की जीत और युद्ध का आधार बेहद खास है: राजनाथ सिंह केंद्र सरकार की टीम उत्तराखंड में आपदा से हुई क्षति का आकलन कर रही है: पुष्कर सिंह धामी रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने आज बेंगलुरु में वैमानिकी विकास प्रतिष्ठान का दौरा किया शिवराज सिंह चौहान ने शोपियां मुठभेड़ में शहीद जवान कर्णवीर सिंह को सतना में श्रद्धांजलि दी मुंबई के लालबाग इलाके में 60 मंजिला इमारत में लगी भीषण आग उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव: कल शाम छह बजे सोनिया गांधी के आवास पर कांग्रेस सीईसी की बैठक

राजस्थान: बाल विवाह रजिस्ट्रेशन विधेयक पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, रद्द करने की मांग

बाल विवाह रजिस्ट्रेशन विधेयक (child marriage registration bill) पर विरोध बढ़ता जा रहा है, सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) मे इस कानून को रद्द करने की मांग को लेकर जनहित याचिका दायर की गई है.

Written By : Khushboo | Edited By : Nitu Pandey | Updated on: 23 Sep 2021, 11:39:46 PM
supreme court

सुप्रीम कोर्ट (Photo Credit: न्यूज नेशन ब्यूरो )

highlights

  • बाल विवाह रजिस्ट्रेशन विधेयक के खिलाफ पीआईएल दाखिल
  • सुप्रीम कोर्ट में विधेयक को रद्द करने के लिए पीआईएल दाखिल
  • NCPCR भी इस विधेयक का कर रहा विरोध, गहलोत सरकार को लिखा पत्र

नई दिल्ली :

बाल विवाह रजिस्ट्रेशन विधेयक (child marriage registration bill) पर विरोध बढ़ता जा रहा है, सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) मे इस कानून को रद्द करने की मांग को लेकर जनहित याचिका दायर की गई है. इस मामले में स्वाति गोयल शर्मा (पत्रकार) और संजीव नेवार (लेखक) ने सुप्रीम कोर्ट जनहित याचिका दायर की है. याचिकाकर्ताओ ने बाल विवाह रजिस्ट्रेशन विधेयक पर आपत्ती जताई है और साथ ही इस संशोधन को रद्द करने के लिए गुहार लगाई है. इस जनहित याचिका में भारत सरकार के कैबिनेट सचिव, राजस्थान सरकार और राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग को पक्षकार बनाया गया है, साथ ही जल्द सुनवाई की मांग की गई है. नेशनल कमिशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ चाइल्ड राइट्स (NCPCR) का कहना है कि वो राजस्थान सरकार के इस कानून का विरोध करेगा.

NCPCR ने गहलोत सरका को लिखा पत्र
 
NCPCR ने इस विधेयक मे संशोधन के खिलाफ गहलोत सरकार को पत्र भी लिखा है. NCPCR के पत्र में यह भी लिखा गया है, "आयोग इस बात से आशंकित है कि बाल विवाह रजिस्ट्रेशन संशोधन विधेयक राज्य में नाबालिगों के शारीरिक, मनोवैज्ञानिक, सामाजिक और शिक्षा पर गंभीर प्रभाव डाल सकता है."

विवादित विधेयक को 17 सितंबर को विधानसभा में पास कराया गया

राजस्थान सरकार ने इस विवादित विधेयक को 17 सितंबर को विधानसभा में पास कराया है. प्रदेश के संसदीय कार्य मंत्री शांति धारवाल ने इसे सदन मे पेश किया.

इसे भी पढ़ें:आज होगा महंत नरेंद्र गिरि का पोस्टमॉर्टम, 12 बजे दी जाएगी भू-समाधि

30 दिन के भीतर सूचना रजिस्ट्रेशन अधिकारी को देनी होगी

इस विधेयक में यह प्रावधान है कि अगर शादी के वक्त लड़की की उम्र 18 साल से कम और लड़के की उम्र 21 से कम है तो उसके माता-पिता को 30 दिन के भीतर इसकी सूचना रजिस्ट्रेशन अधिकारी को देनी होगी. 

बाल विवाह की दर बढ़ता जा रहा है

देशभर मे बाल विवाह के मामले साल दर साल बढ़ते ही जा रहे हैं. नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो (NCRB) की रिपोर्ट के अनुसार, 2019 के मुकाबले 2020 में बाल विवाह के मामलों में काफी बढ़ोतरी हुई है.

चाइल्ड मैरिज एक्ट के तहत 785 मामले सामने आए है

रिपोर्ट के मुताबिक साल 2020 में देशभर में प्रोहिबिशन ऑफ चाइल्ड मैरिज एक्ट के तहत 785 मामले सामने आए है, वहीं 2019 में 525 मामले प्रोहिबिशन ऑफ चाइल्ड मैरिज एक्ट के तहत दर्ज हुए थे.

First Published : 22 Sep 2021, 07:54:08 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो