News Nation Logo
Breaking
Banner

आज से ही देशभर में मिलेगा सस्ता पेट्रोल-डीजल, जानें कहां कितना रेट?

केंद्र की मोदी सरकार ने देशवासियों को दिवाली का बड़ा तोहफा दिया है. सरकार ने दिवाली की पूर्व संध्या पर पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क में कमी की घोषणा की है. जिसके चलते पेट्रोल और डीजल के दामों में 5 रुपये और 10 रुपये की कमी हो जाएगी

News Nation Bureau | Edited By : Mohit Sharma | Updated on: 03 Nov 2021, 11:56:22 PM
Petrol Diesel

Petrol Diesel (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

केंद्र ने बुधवार को दिवाली के जश्न ( Diwali Celebrations ) को और आकर्षक बनाने की घोषणा करते हुए कहा कि वह पेट्रोल और डीजल ( Petrol Diesel Latest News ) दोनों ईंधनों पर उत्पाद शुल्क में कमी करेगा, जिससे खुदरा दरों में कमी आएगी. 4 नवंबर से पेट्रोल पर 5 रुपये और डीजल पर 10 रुपये एक्साइज ड्यूटी ( Excise duty on Petrol and Diesel  ) कम हो जाएगी. कच्चे तेल की कीमतों में भारी वृद्धि के कारण दोनों ईंधनों की घरेलू कीमतें रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गई हैं.  बिहार, असम, त्रिपुरा और कर्नाटक ने पेट्रोल डीजल पर वैट घटाने की घोषणा की है. दोनों राज्यों ने पेट्रोल डीजल पर 7 रुपए वैट घटाया है. इसके साथ ही केंद्र सरकार ने अन्य राज्यों से भी वैट घटाने की अपील की है.

डीजल पर उत्पाद शुल्क में भारी कमी

कई शहरों में पेट्रोल पहले ही 100 रुपये प्रति लीटर और उससे अधिक के स्तर को पार कर चुका है, जबकि डीजल भी पीछे नहीं है. परिवहन ईंधन में वृद्धि ने मुद्रास्फीति के दबाव के निर्माण पर चिंता जताई थी, जिसने आरबीआई को भी चिंतित कर दिया था. वित्त मंत्रालय ने दिवाली से एक दिन पहले बुधवार रात एक बयान में कहा, "डीजल पर उत्पाद शुल्क में कमी पेट्रोल की तुलना में दोगुनी होगी. भारतीय किसानों ने अपनी कड़ी मेहनत के माध्यम से आर्थिक विकास की गति को जारी रखा है. लॉकडाउन चरण के दौरान और डीजल पर उत्पाद शुल्क में भारी कमी आगामी रबी सीजन के दौरान किसानों के लिए एक प्रोत्साहन के रूप में आएगी."

मुद्रास्फीति के दबाव में वृद्धि हुई थी

"हाल के महीनों में, कच्चे तेल की कीमतों में वैश्विक उछाल देखा गया है. नतीजतन, हाल के हफ्तों में पेट्रोल और डीजल की घरेलू कीमतों में मुद्रास्फीति के दबाव में वृद्धि हुई थी. दुनिया ने सभी प्रकार की ऊर्जा की कमी और कीमतों में वृद्धि देखी है." बयान के अनुसार, केंद्र ने यह सुनिश्चित करने के प्रयास किए हैं कि देश में ऊर्जा की कोई कमी न हो और पेट्रोल और डीजल जैसी वस्तुएं आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए पर्याप्त रूप से उपलब्ध हों.

कोविड-19 प्रेरित मंदी के बाद एक उल्लेखनीय बदलाव

"भारत की महत्वाकांक्षी आबादी की उद्यमी क्षमता से प्रेरित, भारतीय अर्थव्यवस्था ने कोविड-19 प्रेरित मंदी के बाद एक उल्लेखनीय बदलाव देखा है. अर्थव्यवस्था के सभी क्षेत्रों - चाहे वह विनिर्माण, सेवा या कृषि हो महत्वपूर्ण आर्थिक गतिविधि का अनुभव कर रहे हैं. "अर्थव्यवस्था को और गति देने के लिए, भारत सरकार ने डीजल और पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क को उल्लेखनीय रूप से कम करने का निर्णय लिया है." इसके अलावा, केंद्र ने राज्य सरकारों से पेट्रोल और डीजल पर वैट कम करने का आग्रह किया.

First Published : 03 Nov 2021, 11:09:54 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.