News Nation Logo
Banner

मेवात में हिंदुओं के जबरन धर्मांतरण की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर

मेवात में रह रहे हिंदू समुदाय के मूल अधिकारों की रक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई है. मेवात कोर्ट में दायर याचिका में मेवात को लेकर न्यूज नेशन की विशेष रिपोर्ट का भी हवाला दिया गया है.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 30 Oct 2020, 07:44:06 AM
Supreme Court

मेवात में हिंदुओं के जबरन धर्मांतरण की जांच के लिए SC में याचिका दायर (Photo Credit: फ़ाइल फोटो)

नई दिल्ली:

मेवात में रह रहे हिंदू समुदाय के मूल अधिकारों की रक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई है. मेवात में लगातार हिंदू समुदाय के लोगों का उत्पीड़न और जबरन धर्मपरिवर्तन कराया जा रहा है. कोर्ट में दायर याचिका में मेवात को लेकर न्यूज नेशन की विशेष रिपोर्ट का भी हवाला दिया गया है. याचिका में आरोप लगाया गया है कि नूह इलाके में हिंदुओं के जीवन, व्यक्तिगत स्वतंत्रता और धार्मिक अधिकारों का वहां ‘दबदबा रखने वाली स्थिति’ में मौजूद अल्पसंख्यक समुदाय के सदस्यों द्वारा लगातार क्षरण किया जा रहा है.

यह भी पढ़ें: बल्लभगढ़ मर्डर केस: बड़े राजनीतिक परिवार से है मुख्य आरोपी तौसिफ, हुड्डा सरकार में मंत्री रह चुका है चचेरा भाई 

यह याचिका उत्तर प्रदेश के वकीलों और सामाजिक कार्यकर्ताओं के एक समूह ने दायर की है. याचिकाकर्ताओं में रंजना अग्निहोत्री, जितेंद्र सिंह, शिशिर चतुर्वेदी, आशुतोष मिश्रा और करुणेश कुमार शुक्ला शामिल हैं. याचिका में कहा गया है कि इस इलाके में मुस्लिम समुदाय की बहुतायत होने के चलते यहां रहने वाले हिंदुओं की दशा दयनीय है. उन्हें इस्लाम में जबरदस्ती तब्दील किया जा रहा है.

याचिका में दावा किया गया है कि राज्य सरकार, जिला प्रशासन और पुलिस अपनी शक्तियों का इस्तेमाल करने में नाकाम रही है, जिसके चलते हिंदुओं का जीवन एवं स्वतंत्रता, खासतौर पर महिलाओं और दलितों का, जोखिम में है तथा वे लोग वहां दबदबा रखने वाले समूह के दहशत में जीने को मजबूर हैं. याचिका के जरिए नागरिकों की जानमाल की सुरक्षा के लिये केंद्र को नूह जिले में अर्द्धसैनिक बल तैनात करने का निर्देश देने का अनुरोध भी किया गया है.

यह भी पढ़ें: निकिता मर्डर: अनिल विज ने कहा- कांग्रेस नेताओं का रिश्तेदार है आरोपी, 2018 से होगी जांच 

याचिका में कहा गया है कि हत्या, बलात्कार, अपहरण और घरों में जबरन घुसने की घटनाओं के सिलसिले में हिंदू समुदाय के लोगों द्वारा दर्ज कराई गई प्राथमिकी की जांच करने तथा कार्रवाई करने का भी निर्देश दिया जाना चाहिए. उच्चतम न्यायालय में याचिका दायर कर हिंदुओं के कथित जबरन धर्मांतरण की जांच के लिए एक विशेष जांच दल (एसआईटी) गठित करने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया है. याचिका में इस इलाके में रहने वाले हिंदू समुदाय को उनकी सम्पति, जमीन, मंदिर और शमशान घाट वापस दिलाए जाने की मांग की गई है.

First Published : 30 Oct 2020, 07:44:06 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.