News Nation Logo

निर्भया के दोषियों को फांसी देने के लिए पवन जल्लाद (Pawan Jallad) को मिले 60,000 रुपये

तिहाड़ जेल में डेथ वारंट में तय समय के अनुसार ठीक 5:30 बजे पवन जल्‍लाद (Pawan Jallad) ने फांसी का लीवर खींच दिया. लीवर खिंचते ही निर्भया के हत्‍यारे फंदे पर लटक गए.

News Nation Bureau | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 20 Mar 2020, 10:40:15 AM
Pawan Jallad

पवन जल्लाद (Pawan Jallad) (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

निर्भया (Nirbhaya Gangrape and Murder Case) के चारों हत्‍यारों मुकेश सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय शर्मा (26) और अक्षय कुमार सिंह (31) को 7 साल की लंबी कानूनी लड़ाई के बाद फांसी पर लटका दिया गया. तिहाड़ जेल में डेथ वारंट में तय समय के अनुसार ठीक 5:30 बजे पवन जल्‍लाद ने फांसी का लीवर खींच दिया. लीवर खिंचते ही निर्भया के हत्‍यारे फंदे पर लटक गए. इसके साथ ही फांसी की प्रक्रिया पूरी हो गई. मेरठ के रहने वाले पवन जल्लाद (Pawan Jallad) ने चारों दोषियों को फांसी दी.

यह भी पढ़ें: हफ्ते के आखिरी कारोबारी दिन हरे निशान में खुला बाजार, सेंसेक्स 300 प्वाइंट से ज्यादा बढ़ा

कड़ी सुरक्षा के बीच मेरठ के लिए किया गया रवाना

जानकारी के मुताबिक तिहाड़ जेल प्रशासन की ओर से पवन जल्लाद को चारों दोषियों को फांसी देने के लिए 60,000 रुपये का भुगतान किया गया. पवन जल्लाद को हर एक दोषी को फांसी देने के लिए 15,000 रुपये दिए गए. अदालत द्वारा दिए गए मृत्युदंड के फैसले को क्रियान्वित करने वाले पवन जल्लाद को कड़ी सुरक्षा के बीच तिहाड़ जेल से मेरठ के लिए रवाना कर दिया गया है. निर्भया कांड के चारों दोषियों को फांसी के फंदे पर लटकाने के बाद पवन जल्लाद ने कहा, "जिंदगी में पहली बार चार फांसी देकर मैं खुश हूं. इस दिन के लिए मैं इंतजार करते-करते बूढ़ा हो गया. भगवान और तिहाड़ जेल प्रशासन का धन्यवाद."

यह भी पढ़ें: Gold Rate Today: सोने और चांदी में आज ट्रेडिंग से कैसे कमाएं मोटा पैसा, जानिए दिग्गज एक्सपर्ट्स की राय

पवन जल्लाद को 2 बार बगैर फांसी दिए लौटना पड़ा था

जानकारी के मुताबिक पिछली दोनों बार सजा टलने की वजह से दोषियों को बगैर फांसी दिए पवन जल्लाद को वापस लौटना पड़ा था. इससे पहले पवन जल्लाद दोषियों को फांसी देने के लिए दो बार तिहाड़ जेल आया था. निर्भया सामूहिक दुष्कर्म और हत्याकांड के दोषियों को तिहाड़ जेल में शुक्रवार सुबह 5.30 बजे फांसी दे दी गई, जिसके बाद जेल के बाहर इकट्ठा हुई भीड़ ने आखिरकार दोषियों को फांसी दिए जाने के निश्चित समय पर मिठाई बांटकर जश्न मनाया और 'निर्भया जिंदाबाद' के नारे लगाए.

First Published : 20 Mar 2020, 10:40:15 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.