News Nation Logo
सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद किसानों ने दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर से टेंट हटाए एनएच 24 खुलने से आम जनता को मिली राहत मुर्गामंडी जाने वाली सड़क को किसान प्रदर्शनकारियों ने किया खाली उत्तराखंड के राज्यपाल, मुख्यमंत्री के साथ देवभूमि में आई आपदा का हवाई निरीक्षण किया: अमित शाह आपदा पर गृहमंत्री अमित शाह ने राज्य और केंद्र सरकार के उच्चस्तरीय अधिकारियों के साथ मीटिंग की शाहरुख खान और अनन्या पांडे के घर NCB की छापेमारी भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 18,454 नए मामले आए और 160 लोगों की कोरोना से मौत हुई पीएम मोदी ने RML अस्पताल में वैक्सीनेशन सेंटर पर स्वास्थ्य कर्मचारियों के साथ बातचीत की रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह अपने दो दिवसीय दौरे पर बेंगलुरु पहुंचे किसान सड़कों को अनिश्चित काल के लिए अवरुद्ध नहीं कर सकते: सुप्रीम कोर्ट किसानों को विरोध करने का अधिकार: सुप्रीम कोर्ट पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए एम्स में इंफोसिस फाउंडेशन विश्राम सदन का उद्घाटन किया हमारी सरकार ने कैंसर की 400 दवाओं की कीमतों को कम करने के लिए कदम उठाए हैं: पीएम मोदी बॉम्बे हाईकोर्ट आर्यन खान की जमानत याचिका पर 26 अक्टूबर को सुनवाई करेगा: आर्यन खान के वकील भिंड में भारतीय वायुसेना का ट्रेनर विमान क्रैश, हादसे में पायलट घायल: भिंड एसपी मनोज कुमार सिंह मरीज़ को आयुष्मान भारत योजना के तहत मुफ़्त में इलाज मिलता है, तो उसकी सेवा होती है: पीएम मोदी भारत ने वैक्सीन मैत्री के माध्यम से दुनिया के देशों में मदद पहुंचाने का काम किया: अनुराग ठाकुर दुनिया को भारत ने दिखाया है कि बड़े से बड़ा लक्ष्य भी प्राप्त किया जा सकता है: अनुराग ठाकुर 100 करोड़ वैक्सीनेशन डोज़ का आंकड़ा पार होने पर लोगों का आभार: केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर भारत में वैक्सीनेशन का आंकड़ा 100 करोड़ के पार, देशभर में मन रहा जश्न निजी भागीदारी से भी मेडिकल कॉलेज बन रहे हैं - पीएम मोदी FDA ने मॉडर्ना और जॉनसन एंड जॉनसन के मिक्‍स एंड मैच टीकाकरण को दी मंजूरी उत्तराखंड में भारी बारिश से अब तक 54 लोगों की मौत, 19 जख्मी और 5 लापता डोनाल्ड ट्रंप ने 'TRUTH Social' नामक अपना खुद का सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म लॉन्च किया

पप्पू यादव 3 दशक पुराने अपहरण के मामले में बरी

पप्पू यादव 3 दशक पुराने अपहरण के मामले में बरी

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 04 Oct 2021, 09:05:01 PM
Patna Jan

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

पटना: बिहार के मधेपुरा की एक स्थानीय अदालत ने सोमवार को चार बार के सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव को 32 साल पुराने अपहरण के एक मामले में बरी कर दिया।

पप्पू यादव पिछले पांच महीनों से जेल में बंद थे। उन्हें उस समय गिरफ्तार किया गया था, जब वह कोविड महामारी की दूसरी लहर के दौरान लोगों के कल्याण कार्यो में लगे हुए थे। सूत्र इस घटनाक्रम को कुशेश्वर स्थान और तारापुर विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव से जोड़ रहे हैं।

बरी होने के बाद बड़ी संख्या में जन अधिकार पार्टी के समर्थक मधेपुरा कोर्ट में जमा हो गए और उन्होंने पप्पू यादव के पक्ष में नारेबाजी की।

पप्पू यादव ने कहा, मैं पिछले 5 महीने से एक ऐसे मामले में जेल में बंद हूं, जिसमें आम लोगों को एक दिन के लिए भी बंद नहीं किया जा सकता। देश में आपातकाल जैसी स्थिति है। आम लोगों की हत्या हो रही है। यह तानाशाही शासन है, जहां किसानों की हत्या की जा रही है। इन सबके बावजूद, सच्चाई की हमेशा जीत होती है।

उन्होंने और उनके जेएपी ने आरोप लगाया कि उनकी गिरफ्तारी सत्तारूढ़ गठबंधन द्वारा भाजपा के सारण सांसद राजीव प्रताप रूडी के आवास परिसर में कोरोना की दूसरी लहर के दौरान लगभग 40 एंबुलेंस अप्रयुक्त स्थिति में रखे होने की बात उजागर करने पर राजनीतिक प्रतिशोध का नतीजा थी।

पप्पू यादव को 29 जनवरी, 1989 को मधेपुरा के मुरलीगंज पुलिस स्टेशन में एक प्राथमिकी दर्ज होने के तीन दशक बाद अपहरण के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। इस मामले में शैलेंद्र यादव ने दावा किया था कि उनके चचेरे भाई राजकुमार यादव और पप्पू यादव के करीबी सहयोगी उमाकांत यादव के लोगों ने अपहरण कर लिया था।

हालांकि, पीड़ित राजकुमार यादव ने दावा किया - पप्पू यादव को पांच महीने पहले जो गिरफ्तार किया गया था, वह भ्रम का मामला था।

उसने कहा, मुझे और उमाकांत को 28 जनवरी 1989 को पप्पू यादव की गाड़ी में बिठाया गया था। कुछ घंटों के बाद, हम उनके घर से निकले और मधेपुरा पहुंचे। हमें शुरू में लगा कि हमारा अपहरण कर लिया गया है .. लेकिन वह भ्रम था।

जेएपी के राज्य प्रमुख राघवेंद्र कुशवाहा ने कहा, पूरे तथाकथित अपहरण का कानूनी पहलू बेहद चौंकाने वाला था। इस मामले में पप्पू यादव को 1989 में गिरफ्तार किया गया था। कानूनी कार्यवाही के अनुसार, पुलिस को प्राथमिकी के 90 दिनों के भीतर आरोपपत्र दाखिल करना था। मधेपुरा पुलिस चार्जशीट दाखिल नहीं कर पाई और पप्पू को जमानत मिल गई।

उन्होंने कहा, पप्पू यादव 2014 का संसदीय चुनाव मधेपुरा से जीते थे और केंद्र सरकार ने उन्हें वाई श्रेणी की सुरक्षा मुहैया कराई थी। इसका मतलब है कि जब भी वह देश के किसी भी स्थान पर जाते थे, तो संबंधित जिले की पुलिस और संबंधित जिलों के पुलिस प्रशासन को सूचित करते थे। उन्हें उनकी वाई श्रेणी की सुरक्षा के अलावा अतिरिक्त सुरक्षा देनी पड़ती थी, जिसमें सीआरपीएफ के 6 जवान शामिल होते थे।

कुशवाहा ने कहा, उन्होंने कई बार मधेपुरा और बिहार के अन्य जिलों का दौरा किया। वह विधानसभा चुनाव 2020 में खुले तौर पर प्रचार में शामिल थे। राज्य पुलिस ने अपहरण के मामले में उन्हें उस समय गिरफ्तार क्यों नहीं किया, जबकि उन्हें उस मामले में भगोड़ा घोषित किया गया था।

पप्पू यादव के वकील विशाल ठाकुर ने कहा, उस 32 साल पुराने तथाकथित अपहरण के मामले में 11 लोगों पर मामला दर्ज किया गया था और उनमें से 4 को बरी कर दिया गया था। पप्पू यादव उन 7 आरोपियों में से थे, जिन्हें बिहार पुलिस द्वारा भगोड़ा घोषित किया गया था।

उन्होंने कहा, जब वह तिहाड़ जेल में बंद थे, तब क्या बिहार पुलिस को पता नहीं था? जब वह 2014 से 2019 तक सांसद थे और मधेपुरा, पटना और दिल्ली में आधिकारिक आवास था, तो बिहार पुलिस ने उन्हें भगोड़ा क्यों घोषित किया था। उन्होंने मधेपुरा का दौरा किया था। बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के दौरान भी कई बार वहां गए तो भगोड़ा कैसे हो गए।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 04 Oct 2021, 09:05:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.