News Nation Logo

मेवाती घराने से थे पंडित जसराज, तबला छोड़ ऐसे बने गायक

संगीत परंपरा के थाती कहे जाने वाले पंडित जसराज (Pandit Jasraj) का निधन हो गया है. पंडित जसराज का जाना सुरों की दुनिया से एक सितारे के टूटने जैसा है. उन्होंने सिर्फ भारत ही नहीं पूरी दुनिया में शास्त्रीय संगीत की परंपरा को पहुंचाने का काम किया.

News Nation Bureau | Edited By : Yogendra Mishra | Updated on: 17 Aug 2020, 11:20:30 PM
jasraj 97

पंडित जसराज। (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

संगीत परंपरा के थाती कहे जाने वाले पंडित जसराज का निधन हो गया है. पंडित जसराज का जाना सुरों की दुनिया से एक सितारे के टूटने जैसा है. उन्होंने सिर्फ भारत ही नहीं पूरी दुनिया में शास्त्रीय संगीत की परंपरा को पहुंचाने का काम किया. पंडित जसराज का जन्म 28 जनवरी 1930 को हरियाणा के हिसार में हुआ था.

उनके परिवार की चार पीढ़ियां शास्त्रीय संगीत परंपरा को लगातार आगे पहुंचाती आ रही थीं. खयाल शैली की गायकी के लिए मशहूर पंडित जसराज मेवाती घराने से ताल्लुक रखते थे. पंडित जसराज के पिता पंडित मोतीराम भी मेवाती घराने के संगीतज्ञ थे.

यह भी पढ़ें- जेल जाते वक्त विधायक विजय मिश्र ने सीएम योगी को हटाने की चुनौती दी है

जब पंडित जसराज तीन या चार साल के थे तभी उनके पिता का देहांत हो गया था. जानकारी के मुताबिक 14 साल की उम्र तक वह सिर्फ तबला सीखते थे. इसके बाद उन्होंने गायकी में कदम रखा और बाकायदा इसकी शिक्षा ली. पंडित जसराज की शादी फिल्म डायरेक्टर वी शांताराम की बेटी मधुरा शांताराम से हुई थी.

यह भी पढ़ें- नंदोलिया ऑर्गेनिक कैमिकल की फैक्ट्री में धमाका, एक की मौत, 3 घायल

पंडित जसराज ने एक इंटरव्यू में बताया था कि संगीत की राह में उनकी शुरुआत तबले से हुई थी. जब वह सिर्फ 14 साल के थे, तभी उनका गायकी की ओर रुझान हुआ. इसके पीछे वो एक घटना का जिक्र करते थे. उन्होंने बताया कि साल 1945 में लाहौर में कुमार गंधर्व के साथ वो तबले पर संगत कर रहे थे. कार्यक्रम के अगले दिन कुमार गंधर्व ने उन्हें डांटते हुए कहा कि जसरास तुम्हें तबला बजाना नहीं आता, तुम मरा हुआ चमड़ा पीटते हो. तुम्हें रागदारी के बारे में कुछ नहीं पता. उन्होंने बताया कि इसी घटना के बाद उन्होंने तबला छोड़कर गायकी की ओर अपना रुझान किया.

ऐसे पहुंचे घर-घर

पंडित जसराज को श्री वल्लभाचार्य जी द्वारा रचित भगवान कृष्ण की मधुर स्तुति मधुराष्टकम् ने घर-घर पहुंचा दिया. उनकी आवाज पर लोग मोहित हो गए. उनके हर कार्यक्रम में लोग मधुराष्टकम् गाने की मांग करते थे. उनका कोई भी कार्यक्रम बिना मधुराष्टकम् के अधूरा माना जाता था.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 17 Aug 2020, 11:20:30 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.