News Nation Logo
Banner

पाकिस्तान ने सऊदी अरब से उसके बैंक को दी गई जमा राशि न निकालने की अपील की

पाकिस्तान ने सऊदी अरब से उसके बैंक को दी गई जमा राशि न निकालने की अपील की

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 05 May 2022, 09:05:01 PM
Pakitan urge

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

इस्लामाबाद:   पाकिस्तान के वित्त मंत्री मिफ्ता इस्माइल ने कहा है कि सरकार ने सऊदी अरब से स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान (एसबीपी) को दी गई अपनी जमा राशि वापस नहीं लेने और इस्लामाबाद के लिए अपनी तेल सुविधा का विस्तार करने का अनुरोध किया है।

द एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, कराची में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) से वादे करने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान की सरकार पर की आलोचना की, क्योंकि उनके अनुसार वे वादे राष्ट्र के हितों के खिलाफ थे।

उन्होंने कहा, वे वादे बारूदी सुरंगों से कम नहीं हैं।

उन्होंने कहा कि खान पाकिस्तान के इतिहास में सबसे तेजी से बढ़ती महंगाई देकर गए हैं। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) सरकार ने अपने कार्यकाल के दौरान ऐतिहासिक भारी-भरकम ऋण लिया।

वित्त मंत्री ने कहा कि पिछली सरकार के कार्यकाल में भ्रष्टाचार चरम पर था।

उन्होंने कहा, बुशरा बीबी की दोस्त फराह गोगी और शहजाद अकबर पीटीआई सरकार का कार्यकाल खत्म होने के तुरंत बाद देश छोड़कर चले गए।

उन्होंने सवाल किया कि पंजाब में फराह के निर्देश पर ट्रांसफर और पोस्टिंग क्यों की गई?

उन्होंने आरोप लगाया कि पूर्व प्रधानमंत्री ने चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) को नष्ट कर दिया है। मिफ्ता ने कहा कि खान ने आईएमएफ से कहा था कि वे डीजल की कीमतों पर नुकसान नहीं उठाएंगे।

वित्त मंत्री मिफ्ता ने आगे कहा, अब, हम पिछली सरकार के आईएमएफ के साथ किए गए वादों के साथ फंस गए हैं।

बता दें कि आर्थिक रूप से तंगहाल पाकिस्तान लंबे समय से सऊदी अरब की मदद पर निर्भर रहा है। पिछले कुछ सालों के दौरान पाकिस्तान का कोई भी प्रधानमंत्री रहा हो, उसने सऊदी जाकर मदद जरूर मांगी है।

पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था जब-जब संकट में आती है, सऊदी अरब उसकी मदद के लिए आगे आता है। पिछले साल जब पाकिस्तान बुरी तरह से आर्थिक संकट में फंस गया था और डॉलर के मुकाबले उसका रुपया टूट रहा था और विदेशी मुद्रा भंडार भी खत्म हो रहा था, तब भी सऊदी ने ही उसकी मदद की थी।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 05 May 2022, 09:05:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.