News Nation Logo
Banner

जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान के नापाक मंसूबे जारी (एक्सक्लूसिव)

जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान के नापाक मंसूबे जारी (एक्सक्लूसिव)

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 08 Sep 2021, 10:20:01 PM
Pakitan continuing

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: अफगानिस्तान में तालिबान द्वारा हाल के अधिग्रहण के साथ, स्थिति गतिशील हो गई है और हालिया रिपोर्ट्स से जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) की गतिविधियों में वृद्धि का संकेत मिला है, जिसमें तालिबान के साथ जैश के शीर्ष नेताओं की पाकिस्तान (क्वेटा) और अफगानिस्तान (कंधार) में बैठकों की एक श्रृंखला भी शामिल है।

जेईएम कथित तौर पर अफगानिस्तान में एक जिम्मेदार भूमिका के लिए तालिबान का साथ चाह रहा है और साथ ही साथ वह कश्मीर में अपने संचालन में भी इसकी मदद मांग रहा है।

यह उम्मीद की जा रही थी कि पाकिस्तान तालिबान पर किए गए एहसान की वापसी की मांग करेगा और आतंकी प्रशिक्षण शिविरों सहित पूरे आतंकी पारिस्थितिकी तंत्र को अफगानिस्तान में स्थानांतरित कर देगा। एफएटीएफ द्वारा पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में डालने से प्रतिष्ठान लगातार तनाव में आ गया है। सूची में लंबे समय तक रहना इसकी दीर्घकालिक स्थिरता के लिए हानिकारक है।

दूसरी ओर, दुनिया ने महसूस किया है कि एफएटीएफ रूपी तलवार को इस्लामाबाद के ऊपर रखना ही पाकिस्तान पर जिहादी/आतंकवादी समूहों पर लगाम लगाने के लिए दबाव बनाने का एकमात्र प्रभावी तरीका है।

पाकिस्तान के स्थायी नियंत्रण में तालिबान निश्चित रूप से वह ²ष्टिकोण नहीं है, जो उनके नेताओं के पास अफगानिस्तान के लिए होगा। यह एक और कारण है कि अगर पाकिस्तान अपने हितों के खिलाफ जाने का फैसला करता है तो पाकिस्तान अपने उग्रवादी समूहों को अफगानिस्तान की धरती पर रखना चाहेगा, ताकि वह नवजात तालिबान सरकार को तरीके से नियंत्रित कर सके। इस्लामाबाद आतंकवादी/जिहादी समूहों को बनाने और प्रबंधित करने और एक को दूसरे के खिलाफ खड़ा करने की कला में माहिर रहा है। यह याद किया जा सकता है कि यह अच्छे तालिबान-बुरे तालिबान के विचार के साथ सामने आया है, ताकि उन तत्वों से छुटकारा मिल सके, जिन्होंने इसके अधिकार को चुनौती दी थी।

आईएस खुरासान और एक्यू जैसे और भी कट्टरपंथी समूहों की उपस्थिति, जिन्होंने पाकिस्तान के लिए अन्य प्रॉक्सी के रूप में कार्य करने के लिए पर्याप्त रूप से प्रदर्शित किया है, काबुल को अपनी कार्यात्मक स्वायत्तता की सीमाओं का एहसास करने के लिए भी एक अनुस्मारक है। यह इस पृष्ठभूमि में है कि हमें जम्मू-कश्मीर में आतंकवादी और घुसपैठ की गतिविधियों में वृद्धि देखने की जरूरत है।

पाक इंटर सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) ने पीओजेके, खैबर पख्तूनख्वा और पंजाब में कई आतंकवादी प्रशिक्षण शिविर स्थापित किए हैं। आतंकवादी कैडरों को मुख्य रूप से पंजाब के पाक प्रांतों और खैबर पख्तूनख्वा से भर्ती किया जाता है, इसके अलावा पीओजेके के लोगों को कश्मीर में जिहाद के लिए आतंकवादी समूहों में शामिल होने के लिए मजबूर किया जाता है। 2019 में पुलवामा हमले के जवाब में बालाकोट जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी शिविर पर भारतीय हवाई हमले ने पाकिस्तान में चल रही खुली आतंकी गतिविधियों और उस प्रतिष्ठान के संरक्षण को सामने ला दिया था, जिसका वह जमकर फायदा उठाता है।

इसके अलावा, जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों/जिहादियों की घुसपैठ को सुविधाजनक बनाने के लिए, इसने पीओजेके और पाकिस्तान में एलओसी और भारत के साथ अंतरराष्ट्रीय सीमा पर कई लॉन्च पैड (एलपी) स्थापित किए हैं, जो कश्मीर में उच्च पहुंच से लेकर पुंछ में पीर पंजाल के दक्षिण, राजौरी और आगे सांबा तथा जम्मू क्षेत्र तक फैले हुए हैं। लगभग 250-300 आतंकवादी एलओसी के विभिन्न लॉन्चिंग पैड्स पर घुसपैठ का इंतजार कर रहे हैं। पाकिस्तानी सेना घुसपैठ के मार्गों पर इनपुट प्रदान करने के साथ-साथ आतंकवादियों को कवरिंग फायर देकर भारतीय क्षेत्र में आतंकवादियों की घुसपैठ की सुविधा प्रदान करती है। फिलहाल जम्मू-कश्मीर में करीब 200 आतंकी सक्रिय हैं, जिनमें से करीब 90 पाकिस्तान के हैं।

पाकिस्तान ने कश्मीरियों को पीओजेके में ले जाने, उनका ब्रेनवॉश करने और आतंकवादी प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए रचनात्मक तरीके भी ईजाद किए हैं। इसने पाकिस्तान और पीओजेके में चिकित्सा और इंजीनियरिंग शिक्षा प्राप्त करने के लिए कई छात्रों को प्रायोजित करना शुरू कर दिया है। एक बार जब ये छात्र कानूनी रास्ते से पार हो जाते हैं, तो उन्हें प्रशिक्षण शिविरों में ले जाया जाता है और हथियारों और विस्फोटकों का प्रशिक्षण दिया जाता है। लौटने पर वे जिहाद छेड़ने के लिए आतंकवादी रैंक में शामिल हो जाते हैं। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने ऐसे 50 से अधिक छात्रों को सूचीबद्ध किया है जो पढ़ने के लिए पाकिस्तान गए थे लेकिन बाद में आतंकवादी रैंक में शामिल हो गए। इनमें से कई सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारे गए हैं।

आईएसआई जम्मू-कश्मीर में हथियारों और गोला-बारूद की भी आक्रामक रूप से तस्करी कर रही है, जिसमें आईबी/एलओसी के पास थ्र्रूडोन/क्वाड-कॉप्टर शामिल हैं। हाल ही में एलओसी और आईबी के पास हथियारों/गोला-बारूद की बरामदगी की गई है, जिसमें नौशेरा, हीरानगर और अखनूर में की गई बरामदगी शामिल है।

हाल के दिनों में जम्मू क्षेत्र में और साथ ही पंजाब के गुरदासपुर सेक्टर में आईबी के साथ लगते क्षेत्र में कई बार पाकिस्तानी ड्रोन भी देखे गए हैं। यह ड्रोन मुख्य रूप से हथियारों की सप्लाई के लिए काम में लाए जा रहे हैं। गिराए गए हथियारों में एके राइफल्स, कार्बाइन के साथ ही पिस्टल और अन्य गोला-बारूद शामिल हैं। इस काम में इस्तेमाल होने वाले ड्रोन काफी उन्नत और महंगे हैं।

इस प्रकार यह स्पष्ट रूप से इस्लामाबाद की आतंकवाद को प्रायोजित करने की नीति के अनुसरण में हथियारों को आगे बढ़ाने में आईएसआई की संलिप्तता का संकेत है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 08 Sep 2021, 10:20:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

LiveScore Live IPL 2021 Scores & Results

वीडियो

×