News Nation Logo

Exclusive : ...देर होती तो एक और 26/11 हो जाता! 

जिन दहशतगर्दों पर शिकंजा कसा गया है, उनका प्लान इतना खौफनाक था कि एक ही धमाके से दिल्ली से लेकर मुंबई तक दहशत पसर जाती.

Written By : Pramod Pandey | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 15 Sep 2021, 07:49:02 PM
terrorist

...देर होती तो एक और 26/11 हो जाता!  (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

जिन दहशतगर्दों पर शिकंजा कसा गया है, उनका प्लान इतना खौफनाक था कि एक ही धमाके से दिल्ली से लेकर मुंबई तक दहशत पसर जाती. आतंक का ये प्लान 26/11 से भी ज्यादा भयानक होने वाला था, लेकिन ये खौफनाक साजिश मुकम्मल होती उससे पहले ही ये दहशतगर्द पकड़े गए और इसी के साथ इनका आतंकी प्लान EXPOSED हो गया. मुंबई से गिरफ्तार आतंकी जान मोहम्मद शेख उर्फ समीर कालिया ने पुलिस से पूछताछ में कई बड़े खुलासे किए हैं, जिससे उसके मंसूबों की तस्दीक हो रही है. न्यूज नेशन की स्पेशल इनवेस्टिगेशन टीम को जो जानकारी हाथ लगी है, वो बेहद चौकाने वाली है.

यह भी पढ़ें : चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने हरित विकास की रणनीति को अभूतपूर्व ऊंचाई पर रखा है

आतंकियों ने पूछताछ में खुलासा किया कि मुंबई की लाइफ लाइन यानी लोकल ट्रेनें उनके निशाने पर थीं. इसके अलावा महाराष्ट्र के महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों को भी दहलाने की साजिश रची गई थी. गिरफ्तार आतंकियों ने पूछताछ में बताया है कि आंतकियों की प्लानिंग ऐसे मौके की तलाश थी जब ज्यादा से ज्यादा नुकसान पहुंचाकर बड़े पैमाने पर दहशत फैलाया जा सके. नवरात्र समेत अन्य त्योहारों के दौरान बम धमाके का नापाक प्लान बनाया गया था. गिरफ्तार आतंकियों ने कबूला है कि महाराष्ट्र के अलावा, देश की राजधानी दिल्ली और उत्तर प्रदेश में भी कई जगहों की रेकी की गई थी. गिरफ्तार दहशतगर्द यूपी में चुनाव से पहले दहशत फैलाने के लिए खून खराबे की साजिश रच रहे थे. 

पकड़े गए आतंकियों से पूछताछ में जो जानकारी सामने आई है वो काफी चौंकाने वाली है, क्योंकि आतंकियों के पास ड्रोन से गिराए गए विस्फोटक की तरह हथियार मिले हैं. ये हथियार 9 अगस्त को अमृतसर में गिराए थे और ड्रोन से हथियार गिराने के पीछे पाकिस्तान का हाथ है. गिरफ्तार आतंकियों में से दो दहशतगर्दों को पाकिस्तान में ट्रेनिंग दी गई थी.

दिल्ली के ओखला से गिरफ्तार ओसामा उर्फ समीर ने पाकिस्तान के टेरर कैंप में ट्रेनिंग ली. इसके अलावा प्रयागराज से दबोचे गए जीशान कमर ने भी आतंक की तालीम पाकिस्तान में हासिल की. पाकिस्तानी हैंडलर आतंकी ओसामा और जीशान को दो दर्जन लोगों के साथ ट्रेनिंग के लिए, मस्कट से समुद्री रास्ते से थट्टा टेरर कैंप ले गया था. आतंकी कसाब और जीशान को पाकिस्तान के उसी टेरर कैंप में ट्रेनिंग मिली थी, जहां से आईएसआई और लश्कर ए तैयबा ने मिलकर मुंबई हमले के लिए अजमल कसाब को तैयार किया था. पाकिस्तान में ट्रेनिंग लेकर ये आतंकी पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के इशारे पर दहशतगर्दी का प्लान बना रहे थे. ISI ने इन आतंकियों को आईईडी लगाने के लिए टारगेट ढूंढने की जिम्मेदारी दी थी.

यह भी पढ़ें : अब संसद टीवी में देखें पार्लियामेंट की कार्यवाही, PM मोदी ने कही ये बातें

आतंकियों ने पूछताछ में खुलासा किया है कि दाऊद के भाई अनीस इब्राहिम ने पकड़े गए आतंकी ओसामा उर्फ समीर को IED, हथियार और हथगोले की डिलीवरी करने का काम सौंपा था. इन खुलासों से साफ है कि आतंक की कितनी बड़ी साजिश चल रही थी... जिसे वक्त रहते भारतीय एजेंसियों ने नाकाम कर दिया और देश पर मंडरा रहे एक बड़े खतरे को टाल दिया. 

सुरक्षा एजेंसियों ने ऑपरेशन चलाकर आतंक के बड़े मॉड्यूल का भंडाफोड़ कर दिया. 6 आतंकियों को एक साथ पकड़कर देश को दहलाने की साजिश फेल कर दी और अब इन आतंकियों के मददगार और बाकी साथी भी सुरक्षा एजेंसियों के रडार पर हैं.

मुंबई के धारावी से आतंकी जान मोहम्मद शेख शिकंजे में आया तो मुंबई क्राइम ब्रांच हरकत में आ गई. जान मोहम्मद के घर वालों से पूछताछ की गई तो साथ ही उसके घर और ठिकानों की तलाशी ली गई है. वहीं यूपी से गिरफ्तार आतंकी जीशान, आमिर जावेद और मूलचंद उर्फ साजू ने पूछताछ में उन आतंकियों के नाम बताए जो सीमा पार रची जा रही साजिश का हिस्सा है. तीनों दहशतगर्दों से मिले सुराग की बिनाह पर यूपी एटीएस की टीम ने पश्चिमी यूपी के अमरोहा, मेरठ और मुजफ्फरनगर के साथ बहराइच, आजमगढ़ और बस्ती में तड़के एक साथ छापा मारा और 5 संदिग्धों को हिरासत में लिया है. गिरफ्तार 6 आतंकियों में से एक के तार बहराइच से जुड़े हैं. बताया जा रहा है कि दिल्ली के सराय काले खां से गिरफ्तार मोहम्मद अबू बकर बहराइच के कैसरगंज का रहने वाला है. 

अब सुरक्षा एजेंसियां उससे जुड़ी जानकारी खंगालने में जुटी हैं. हालांकि, अबू बकर के परिवार वाले उसे बेगुनाह बता रहे हैं. वहीं दिल्ली के ओखला के अबुल फजल इलाके से पकड़ा गया आतंकी ओसामा अपने परिवार के साथ दो महीने पहले D-71 के इसी मकान में शिफ्ट हुआ था. इलाके के लोगों के मुताबिक वो दिखावे के लिए खजूर बेचने का काम करता था पर पुलिस के मुताबिक उसका असली मकसद आतंक फैलाना था. 

आतंक का जाल कहां तक फैला है और हिंदुस्तान में रहकर पाकिस्तान के इशारे पर कौन कौन दहशतगर्दी के प्लान पर काम कर रहा है. उनकी कड़ियों को जोड़ने में जांच एजेंसियां लगी हैं.

First Published : 15 Sep 2021, 07:45:33 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.