News Nation Logo
Banner

ओवैसी ने भारत में महिलाओं पर हो रहे अत्याचार पर चुप्पी साधे रखने पर उठाया सवाल

ओवैसी ने भारत में महिलाओं पर हो रहे अत्याचार पर चुप्पी साधे रखने पर उठाया सवाल

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 20 Aug 2021, 06:25:01 PM
Owaii quetion

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

हैदराबाद: ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि अफगानिस्तान में महिलाओं के साथ अन्याय की बात करने वाले तथाकथित मानवाधिकार समर्थक भारत में हो रहे अत्याचारों पर चुप हैं।

उन्होंने उत्तर प्रदेश में हाल ही में कानपुर की घटना पर उनकी चुप्पी पर सवाल उठाया, जहां एक लड़की रहम की भीख मांग रही थी, जब उसके पिता को पुलिस की मौजूदगी में पीटा जा रहा था।

हैदराबाद के सांसद औवेसी इमाम हुसैन की शहादत का प्रतीक यम-ए-आशूरा की पूर्व संध्या पर गुरुवार देर रात पुराने शहर की एक मस्जिद में एक सभा को संबोधित कर रहे थे।

ओवैसी ने कहा कि पिछले कुछ दिनों से सभी टीवी चैनल अफगानिस्तान के बारे में बात कर रहे हैं। उन्होंने कहा, जब मुझसे अफगानिस्तान के बारे में पूछा गया, तो मैंने कहा कि कानपुर की बात करो, काबुल की नहीं। कानपुर में नौ साल की बच्ची रहम की भीख मांग रही थी, जब उसके पिता को पुलिस की मौजूदगी में पीटा जा रहा था। ये तथाकथित मानवाधिकार समर्थक काबुल में लड़कियों के बारे में चिंतित हैं और वहां महिलाओं पर अत्याचार के बारे में बात कर रहे हैं, लेकिन कानपुर की लड़की के बारे में किसी को परवाह नहीं है। वे अखलाक, तबरेज, पहलू खान और अलीमुद्दीन अंसारी की विधवाओं के बारे में बात नहीं करते हैं।

औवेसी ने गौरक्षकों की भीड़ द्वारा कथित तौर पर उन पुरुषों की हत्या का जिक्र किया, जिनकी पत्नी अब विधवा हैं।

हैदराबाद के सांसद ने कहा कि एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में नौ लड़कियों में से एक लड़की पांच साल की उम्र तक पहुंचने से पहले ही मर जाती है, लेकिन किसी को इसकी चिंता नहीं है।

ओवैसी ने पूछा, यहां महिलाओं के खिलाफ अत्याचार और अपराध होते हैं। लेकिन वे (मानवाधिकार समर्थक) इस बात से चिंतित हैं कि अफगानिस्तान में महिलाओं के साथ क्या हो रहा है। क्या यह यहां नहीं हो रहा है?

एआईएमआईएम प्रमुख ने कहा कि वाजपेयी, मनमोहन सिंह और मोदी की सरकारों ने अफगानिस्तान में तीन अरब डॉलर का निवेश किया। अफगान संसद का निर्माण 700 करोड़ रुपये की लागत से किया गया था और इसका उद्घाटन नरेंद्र मोदी और अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति अशरफ गनी ने संयुक्त रूप से किया था। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान में भारत द्वारा खर्च किए गए करदाताओं के पैसे के बारे में सवाल का कोई जवाब नहीं देता है।

ओवैसी ने कहा कि 2013 से वह लगातार भारत की सरकारों का ध्यान आकर्षित कर रहे हैं कि तालिबान पुनर्गठन करेगा और सत्ता में वापस आ सकता है और इसलिए उनके साथ बातचीत होनी चाहिए। उन्होंने कहा, अफगानिस्तान या तालिबान से हमारा कोई लेना-देना नहीं है, लेकिन हमने भविष्य में भारत की सुरक्षा के लिए संभावित खतरे को देखते हुए उनका ध्यान आकर्षित किया, जिस पर किसी ने ध्यान नहीं दिया।

उन्होंने कहा कि तालिबान के सत्ता में आने के बाद अलकायदा और आईएसआईएस के आतंकवादी अफगानिस्तान के सुदूर इलाकों में जाने लगे हैं। उन्होंने दावा किया कि आईएसआई, जो भारत का दुश्मन है, तालिबान को नियंत्रित कर रहा है और चीन इस स्थिति का फायदा उठाने की कोशिश कर रहा है। उन्होंने दोहराया कि चीन ने भारतीय क्षेत्र पर कब्जा कर लिया है लेकिन सत्ता में बैठे लोगों को चिंता नहीं है।

ओवैसी ने कहा कि तालिबान के बारे में बयान देने के लिए समाजवादी पार्टी के एक सांसद पर देशद्रोह का मामला दर्ज किया गया है, लेकिन उनकी अपनी पार्टी के प्रमुख और अन्य नेता चुप हैं। एआईएमआईएम नेता ने कहा, हम उनके बयान से सहमत नहीं हैं, लेकिन उनके दोहरे मापदंड दुर्भाग्यपूर्ण हैं। उन्हें मुसलमानों के वोट चाहिए, लेकिन वे किसी भी अन्याय की स्थिति में उनके साथ खड़े नहीं होंगे।

औवेसी ने कहा कि वह जानना चाहते हैं कि हाल ही में दिल्ली में मुसलमानों की हत्या के नारे लगाने वालों या अखलाक, पहलू खान और अन्य की हत्या करने वालों या कानपुर के व्यक्ति की पिटाई करने वालों के खिलाफ देशद्रोह का मामला क्यों दर्ज नहीं किया गया।

ओवैसी ने कहा कि इमाम हुसैन ने कर्बला से संदेश दिया कि हम अपनी जान कुर्बान कर देंगे लेकिन झूठ के आगे नहीं झुकेंगे।

उन्होंने कहा कि इमाम हुसैन का पवित्र जीवन यह संदेश देता है कि हमें किसी भी हाल में हिम्मत नहीं हारनी चाहिए और कभी भी दमन का समर्थन नहीं करना चाहिए।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 20 Aug 2021, 06:25:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.