News Nation Logo
Banner

अफगानिस्तान में सिर्फ एक माह का राशन. भुखमरी के कगार पर

यूनाइटेड नेशन के अधिकारी ने बताया कि अफगानिस्तान आतंकवाद के बाद अब भुखमरी की ओर तेजी से बढ़ रहा है. वहां इस माह के बाद राशन लगभग समाप्त हो जाएगा. जिसके चलते वहां के लोगों को खाने के लाले पड़ने लगेंगे.

News Nation Bureau | Edited By : Sunder Singh | Updated on: 01 Sep 2021, 11:30:16 PM
Afghan woman

ration in Afghanistan (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • तालिबान के खौफ से कराह रहा अफगानिस्तान 
  • यूएन के वर्ल्ड फूड प्रोग्राम के तहत हुआ खुलासा
  • अगर जल्द ही इंतजाम नहीं हुआ तो भूख से भी मरने लगेगी जनता 

New delhi:

अफगानिस्तान( Afghanistan) की स्थिति अब किसी से छिपी नहीं है. हर तरह तनाव भरा माहौल है. तालिबानी लड़ाकों के खौफ से जनता रोजाना दूसरे देशों में पलायन कर रही है. इसी के बीच एक और अहम खबर आ रही है कि अफगानिस्तान में सिर्फ एक माह का ही राशन बचा है. यदि समय रहते कुछ इंतजाम नहीं हुआ तो वहां लोग भुख से भी मरने लगेंगे. यूएन के वर्ल्ड फूड प्रोग्राम के मुताबिक ज्यादातर स्थानों पर खाने की सामग्री खत्म हो चुकी है. सर्दी का मौसम आ रहा है और देश सूखे का सामना कर रहा है ऐसे में अफगानिस्तान को काफी पैसों की जरुरत पड़ेगी ताकि लोगों को यहां भुखमरी से बचाया जा सके.

ये भी पढ़ें :सब्जी बेचने का तरीका देख रह जाएंगे हैरान, ग्राहकों लुभाने के लिए..

 यूनाइटेड नेशन के अधिकारी  ने बताया कि अफगानिस्तान आतंकवाद के बाद अब भुखमरी की ओर तेजी से बढ़ रहा है. वहां इस माह के बाद राशन लगभग समाप्त हो जाएगा. जिसके चलते वहां के लोगों को खाने के लाले पड़ने लगेंगे. स्थानीय मानवीय समन्वयक रमीज़ अलाकबारोव ने कहा कि देश की एक तिहाई आबादी आपातकालीन स्थिति का सामना कर रही है. यदि बहुत जल्द कुछ राशन का इंतजाम नहीं हुआ तो लोग भूख से भी दम तोड़ने लगेंगे. यूएन अधिकारी के अनुसार हमने यहां हजारों के बीच खाने का सामान वितरित किया है. लेकिन अभी यहां एक बड़ी आबादी भुखमरी के कगार पर पहुंच चुकी है.

सितंबर के अंत तक खत्म हो सकता है राशन
यूनाइटेड नेशन अधिकारी के मुताबिक खाने की समस्या के अलावा चिंता की बात यह भी है कि यहां सरकारी कर्मचारियों को पेमेंट भी नहीं मिल रहा है. साथ ही देश की करेंसी की कीमत भी काफी निचले स्तर पर पहुंच गई है. वर्ल्ड फूड प्रोग्राम के कार्यालय ने अपनी रिपोर्ट में बताया था कि 39 मिलियन लोगों वाले इस देश के 14 मिलियन लोगों के सामने खाने का गंभीर संकट खड़ा हो गया है. जिसकी भरपाई करना बहुत ही आवश्यक है. नहीं देश के नागरिक इससे भी बुरी स्थिति से गुजरेंगे.

First Published : 01 Sep 2021, 11:30:16 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.