News Nation Logo
Banner

चार में से एक ट्रेन सोलर पैनल से डायरेक्ट सप्लाई पर चल सकती है

चार में से एक ट्रेन सोलर पैनल से डायरेक्ट सप्लाई पर चल सकती है

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 01 Sep 2021, 11:55:02 AM
One in

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: भारतीय रेलवे लाइनों को सौर ऊर्जा की सीधी आपूर्ति - ग्रिड के माध्यम से जुड़ने की आवश्यकता के बिना - सालाना लगभग सात मिलियन टन कार्बन की बचत होगी, जबकि चार में से कम से कम एक ट्रेन को बिजली भी मिलेगी। प्रतिस्पर्धी शर्तों पर राष्ट्रीय नेटवर्क, दिल्ली स्थित क्लाइमेट ट्रेंड्स और यूके स्थित ग्रीन टेक स्टार्ट-अप राइडिंग सनबीम्स के एक नए अध्ययन से बुधवार को सामने आई।

भारतीय रेलवे 2019/2020 की वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार, उस अवधि में 8 अरब से ज्यादा का यात्री यातायात था, जिसका मतलब यह होगा कि 2 अरब यात्री सीधे सौर ऊर्जा द्वारा संचालित ट्रेनों में यात्रा कर सकते हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने हाल ही में घोषणा की थी कि भारत में रेलवे का विद्युतीकरण तेजी से आगे बढ़ रहा है और रेलवे का लक्ष्य 2030 तक शुद्ध-शून्य कार्बन उत्सर्जक बनना है।

इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए विद्युतीकरण, ऊर्जा दक्षता और नवीकरणीय ऊर्जा के मिश्रण की आवश्यकता होगी।

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भारतीय रेलवे को कंपनी की नेट जीरो प्रतिबद्धता के तहत सौर विकास के लिए अनुत्पादक भूमि के विशाल क्षेत्रों को चिह्न्ति करने का निर्देश जारी किया है। ट्रेनों को चलाने के लिए ऊर्जा की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए 20 जीडब्ल्यू सौर उत्पादन देने की योजना पहले से ही चल रही है।

नए विश्लेषण में इस बात पर प्रकाश डाला गया है कि इस नई सौर क्षमता का लगभग एक चौथाई - 5,272 मेगावाट तक बिजली नेटवर्क पर खरीदे जाने, ऊर्जा के नुकसान को कम करने और रेल ऑपरेटर के लिए पैसे बचाने के बजाय सीधे रेलवे की ओवरहेड लाइनों में फीड किया जा सकता है।

शोधकर्ताओं ने पाया कि सौर से निजी-तार आपूर्ति के लिए कोयला-प्रभुत्व वाले ग्रिड से आपूर्ति की गई ऊर्जा को भी कानपुर के पूरे वार्षिक उत्सर्जन पर हर साल 68 करोड़ टन सीओ 2 तक तेजी से कटौती कर सकता है।

रिपोर्ट के सह-लेखक, राइडिंग सनबीम्स के संस्थापक और इनोवेशन के निदेशक लियो मुरे ने कहा, अभी भारत दो महत्वपूर्ण जलवायु सीमाओं - रेल विद्युतीकरण और सौर ऊर्जा परिनियोजन पर दुनिया का नेतृत्व कर रहा है। हमारे विश्लेषण से पता चलता है कि इन दो कीस्टोन लो-कार्बन प्रौद्योगिकियों को जोड़ना भारतीय रेलवे एक साथ मिलकर कोविड-19 महामारी से भारत की आर्थिक सुधार और जलवायु संकट से निपटने के लिए जीवाश्म ईंधन को बंद करने के प्रयासों दोनों को आगे बढ़ा सकता है।

रिपोर्ट की सह-लेखक और क्लाइमेट ट्रेंड्स की निदेशक आरती खोसला ने आईएएनएस को बताया, भारतीय रेलवे प्रत्येक भारतीय के जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह न केवल परिवहन का सबसे व्यावहारिक साधन है, बल्कि देश में यह सबसे प्रसिद्ध और सबसे बड़ा नियोक्ता भी है ।

विश्लेषण किया गया है कि सभी डीजल इंजनों को इलेक्ट्रिक में परिवर्तित करने से वास्तव में उत्सर्जन में वृद्धि होगी। हालांकि, यह रिपोर्ट लोकोमोटिव सिस्टम का सोलर पीवी इंस्टालेशन से सीधा कनेक्शन बनाकर, कुल मांग के एक चौथाई से अधिक को पूरा करके, इसे पहली बार सही तरीके से करने का जबरदस्त अवसर दिखाती है।

हालांकि, शोधकर्ताओं ने यह भी चेतावनी दी कि 2023 तक सभी मार्गों के पूर्ण विद्युतीकरण के लक्ष्य को प्राप्त करने के साथ-साथ अल्पावधि में सीओ2 उत्सर्जन में वृद्धि हो सकती है क्योंकि बिजली उत्पादन के लिए कोयले पर भारत की वर्तमान निर्भरता है।

टीम ने भारत के प्रत्येक रेलवे जोन पर कर्षण ऊर्जा की मांग का विश्लेषण किया और सभी क्षेत्र में संभावित सौर संसाधन के साथ इसका मिलान किया ताकि सौर ऊर्जा की कुल मात्रा का एक आंकड़ा तैयार किया जा सके जिसे रेलगाड़ियों को चलाने के लिए सीधे रेलवे से जोड़ा जा सकता है।

अध्ययन में यह पता लगाया गया है कि कैसे समर्पित फ्रेट कॉरिडोर और नए उच्च गति मार्गों में रणनीतिक निवेश यात्रियों और माल ढुलाई को बढ़ावा देने के लिए भारतीय रेलवे का समर्थन कर सकता है और यह भारत की राष्ट्रीय जलवायु परिवर्तन प्रतिबद्धताओं को प्राप्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।

रिपोर्ट में भारतीय रेलवे की कोयले पर निर्भरता की समस्या पर भी प्रकाश डाला गया है, दोनों ऊर्जा स्रोत के रूप में और इसकी प्रमुख माल ढुलाई वस्तु के रूप में, 2018-19 में इसके राजस्व का लगभग एक तिहाई हिस्सा है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 01 Sep 2021, 11:55:02 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

LiveScore Live IPL 2021 Scores & Results

वीडियो

×