News Nation Logo

गरीबों को डेढ़ करोड़ एलपीजी सिलेंडर नि:शुल्क दिए गए : धर्मेंद्र प्रधान

सरकार ने लॉकडाउन के दौरान गरीबों को 1.5 करोड़ रसोई गैस सिलेंडर (एलपीजी) मुफ्त दिए हैं. पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बृहस्पतिवार को कहा कि बंद के दौरान गरीबों को राहत के उपाय के तहत पिछले दो सप्ताह में डेढ़ करोड़ एलपीजी सिलेंडर दिए गए हैं.

Bhasha | Updated on: 16 Apr 2020, 11:42:12 PM
Gas

प्रतीकात्मक फोटो। (Photo Credit: फाइल फोटो।)

दिल्ली:

सरकार ने लॉकडाउन के दौरान गरीबों को 1.5 करोड़ रसोई गैस सिलेंडर (एलपीजी) मुफ्त दिए हैं. पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बृहस्पतिवार को कहा कि बंद के दौरान गरीबों को राहत के उपाय के तहत पिछले दो सप्ताह में डेढ़ करोड़ एलपीजी सिलेंडर दिए गए हैं. प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (पीएमजीकेवाई के तहत केंद्र ने कई राहत उपायों की घोषणा की थी.

यह भी पढ़ें- हजारों लोगों की जिंदगी खतरे में डालने वाला मौलाना साद जीता है आलीशान जिंदगी, देखें हैरान करने वाली कुछ तस्वीरें

इनमें एक उपाय प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (पीएमयूवाई) के तहत आठ करोड़ लाभार्थियों को अप्रैल से जून के दौरान 14.2 किलोग्राम के तीन रसोई गैस सिलेंडर मुफ्त उपलब्ध कराना है. एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि इस योजना के सुचारू क्रियान्वयन के लिए पेट्रोलियम विपणन कंपनियां सिलेंडर के खुदरा बिक्री मूल्य के बराबर राशि अग्रिम में लाभार्थियों के खातों में डाल रही हैं.

यह भी पढ़ें- दिल्ली में लॉकडाउन के बावजूद बदमाशों ने युवक को गोली मारी, 24 घंटे में दूसरी हत्या

लाभार्थी इस राशि का इस्तेमाल एलपीजी सिलेंडर ले सकेंगे. इस योजना के क्रियान्वयन की समीक्षा बैठक में प्रधान ने कहा कि पीएमयूवाई के लाभार्थियों कोअब तक 1.51 करोड़ से अधिक एलपीजी सिलेंडर मुफ्त दिए गए हैं. पेट्रोलियम विपणन कंपनियां प्रतिदिन 50 से 60 लाख सिलेंडर वितरित कर रही हैं.

इनमें पीएमयूवाई लाभार्थियों के लिए लगभग 18 लाख मुफ्त सिलेंडर शामिल हैं. प्रधान करीब 800 एलपीजी सिलेंडर घर-घर पहुंचाने वाले कर्मचारियों के साथ वेबिनार में शामिल हुए. उन्होंने इन डिलिवरी करने वाले कर्मचारियों को संकट के इस समय आगे बढ़ाकर लड़ने वाला सैनिक और कोरोना फाइटर बताया.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 16 Apr 2020, 11:42:12 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.