News Nation Logo
भारत का लगातार तीसरा झटका, सूर्य कुमार यादव भी आउट प्रकाश झा की अपकमिंग मूवी आश्रम-3 की शूटिंग के दौरान बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने तोड़फोड़ भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 13 ओवर में 4 विकेट खोकर 87 रन बनाए T20: पाकिस्तान के खिलाफ भारत के 100 रन पूरे ICC T20 World Cup: विराट कोहली ने दिखाई बल्लेबाजी की क्लास, 18 गेंदों पर ठोके नाबाद 20 रन ICC T20 World Cup: 4 ओवर में 2 विकेट के नुकसान पर भारत ने बनाए 21 रन रोहित बिना खाता खोले आउट प्रभाकार कोर्ट में जवाब दें, सोशल मीडिया पर नहीं: एनसीबी प्रभाकर का एफिडेविट एनसीबी के डीजी को भेजा गया: एनसीबी आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव पहुंचे पटना, बेटों ने किया स्वागत जम्मू-कश्मीर: अमित शाह ने मकवाल में स्थानीय निवासियों के साथ बातचीत की 70 साल तीन परिवार वालों ने जम्मू-कश्मीर पर राज किया, आपने क्या दिया हिसाब दो: गृहमंत्री अमित शाह

ओडिशा ने पंचायती राज संस्थाओं में सीटों के आरक्षण के लिए दिशा-निर्देश जारी किए

ओडिशा ने पंचायती राज संस्थाओं में सीटों के आरक्षण के लिए दिशा-निर्देश जारी किए

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 02 Oct 2021, 04:00:01 PM
Odiha iue

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

भुवनेश्वर: पंचायत राज कानूनों में आवश्यक संशोधन करने के बाद, ओडिशा सरकार ने त्रिस्तरीय पंचायती राज संस्थानों (पीआरआई) में सीटों के आरक्षण के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं।

पंचायती राज एवं पेयजल विभाग के प्रधान सचिव ए.के. मीणा ने गाइडलाइंस जारी कर सभी कलेक्टरों को अक्टूबर अंत तक आरक्षण की प्रक्रिया पूरी करने को कहा है। ओडिशा में निर्वाचित ग्रामीण निकायों का कार्यकाल फरवरी, 2022 में समाप्त होगा।

संशोधित ओडिशा ग्राम पंचायत अधिनियम, 1964, ओडिशा पंचायत समिति अधिनियम, 1959 और ओडिशा जिला परिषद अधिनियम, 1991 और पेसा अधिनियम, 1996 के तहत उचित प्रावधानों के अनुरूप वार्ड सदस्यों, पंचायत समिति (पीएस) के सदस्यों, जिला परिषद (जेडपी) के सदस्यों और सरपंच, पीएस अध्यक्ष और जेडपी अध्यक्ष के कार्यालयों के आरक्षण के लिए सीटों के आरक्षण के लिए दिशानिर्देश जारी किए गए।

गैर-अनुसूचित क्षेत्रों में, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और पिछड़े वर्ग के नागरिकों (बीसीसी) के पक्ष में सीटों का कुल आरक्षण कुल सीटों के 50 प्रतिशत के भीतर रखा जाएगा और बीसीसी के लिए आरक्षण, जो भिन्न हो सकता है, उसे दिशानिर्देशों के अनुसार कुल सीटों का 27 प्रतिशत के भीतर रखा जाएगा।

कुल सीटों का 27 प्रतिशत तक बीसीसी वर्ग के लिए आरक्षित किया जाएगा और जब भी आवश्यक होगा, बीसीसी के लिए आरक्षण की मात्रा को इस हद तक कम कर दिया जाएगा कि एससी, एसटी और बीसीसी को प्रदान किए गए आरक्षण को प्रभावित किए बिना, एक साथ 50 प्रतिशत के भीतर के पक्ष में सीटों के कुल आरक्षण को सीमित कर दिया जाए।

अनुसूचित क्षेत्रों में सीटों का आरक्षण संबंधित पंचायत में समुदायों की जनसंख्या के अनुपात में होगा। बशर्ते कि अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षण अनुसूचित जनजातियों की कुल संख्या के 50 प्रतिशत से कम नहीं होगा।

संबंधित जीपी/ब्लॉक/जिले में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लोगों का जनसंख्या प्रतिशत 2011 की जनगणना के अनुसार लिया जाएगा।

पीआरआई, 2022 के आम चुनाव के लिए पीआरआई के विभिन्न सीटों/कार्यालयों की आरक्षण स्थिति का निर्धारण करते समय, अवरोही क्रम में रोटेशन के सिद्धांत का पालन 2002, 2007, 2012 और 2017 में हुए पिछले पीआरआई चुनावों की आरक्षण स्थिति को ध्यान में रखते हुए किया जाएगा।

दिशा-निर्देशों के अनुसार अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति एवं अन्य पिछड़ा वर्ग की सीटों के आरक्षण के बाद महिलाओं के लिए आरक्षण वार्ड/ग्राम पंचायत/निर्वाचनक्षेत्रों को पंचायत कानूनों के अनुसार उड़िया वर्णानुक्रम में व्यवस्थित करने के बाद किया जाएगा ताकि कुल आरक्षण के लिए महिलाएं कुल सीटों/कार्यालयों के आधे से कम नहीं होंगी।

आरक्षण की प्रक्रिया शुरू करते समय पहली वरीयता एससी, फिर एसटी, बीसीसी को तीसरी और महिलाओं को आखिरी में दी जाएगी।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 02 Oct 2021, 04:00:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.