News Nation Logo
सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद किसानों ने दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर से टेंट हटाए एनएच 24 खुलने से आम जनता को मिली राहत मुर्गामंडी जाने वाली सड़क को किसान प्रदर्शनकारियों ने किया खाली उत्तराखंड के राज्यपाल, मुख्यमंत्री के साथ देवभूमि में आई आपदा का हवाई निरीक्षण किया: अमित शाह आपदा पर गृहमंत्री अमित शाह ने राज्य और केंद्र सरकार के उच्चस्तरीय अधिकारियों के साथ मीटिंग की शाहरुख खान और अनन्या पांडे के घर NCB की छापेमारी भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 18,454 नए मामले आए और 160 लोगों की कोरोना से मौत हुई पीएम मोदी ने RML अस्पताल में वैक्सीनेशन सेंटर पर स्वास्थ्य कर्मचारियों के साथ बातचीत की रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह अपने दो दिवसीय दौरे पर बेंगलुरु पहुंचे किसान सड़कों को अनिश्चित काल के लिए अवरुद्ध नहीं कर सकते: सुप्रीम कोर्ट किसानों को विरोध करने का अधिकार: सुप्रीम कोर्ट पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए एम्स में इंफोसिस फाउंडेशन विश्राम सदन का उद्घाटन किया हमारी सरकार ने कैंसर की 400 दवाओं की कीमतों को कम करने के लिए कदम उठाए हैं: पीएम मोदी बॉम्बे हाईकोर्ट आर्यन खान की जमानत याचिका पर 26 अक्टूबर को सुनवाई करेगा: आर्यन खान के वकील भिंड में भारतीय वायुसेना का ट्रेनर विमान क्रैश, हादसे में पायलट घायल: भिंड एसपी मनोज कुमार सिंह मरीज़ को आयुष्मान भारत योजना के तहत मुफ़्त में इलाज मिलता है, तो उसकी सेवा होती है: पीएम मोदी भारत ने वैक्सीन मैत्री के माध्यम से दुनिया के देशों में मदद पहुंचाने का काम किया: अनुराग ठाकुर दुनिया को भारत ने दिखाया है कि बड़े से बड़ा लक्ष्य भी प्राप्त किया जा सकता है: अनुराग ठाकुर 100 करोड़ वैक्सीनेशन डोज़ का आंकड़ा पार होने पर लोगों का आभार: केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर भारत में वैक्सीनेशन का आंकड़ा 100 करोड़ के पार, देशभर में मन रहा जश्न निजी भागीदारी से भी मेडिकल कॉलेज बन रहे हैं - पीएम मोदी FDA ने मॉडर्ना और जॉनसन एंड जॉनसन के मिक्‍स एंड मैच टीकाकरण को दी मंजूरी उत्तराखंड में भारी बारिश से अब तक 54 लोगों की मौत, 19 जख्मी और 5 लापता डोनाल्ड ट्रंप ने 'TRUTH Social' नामक अपना खुद का सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म लॉन्च किया

सीजेआई रमना आम लोगों को न्याय सुलभ कराने के मिशन पर

सीजेआई रमना आम लोगों को न्याय सुलभ कराने के मिशन पर

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 03 Oct 2021, 12:15:01 AM
NV Ramana

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: प्रधान न्यायाधीश ने एक हफ्ता पहले महिला वकीलों से कहा था, आप गुस्से में चिल्लाकर अपना हक मांग मांगिए, न्यायपालिका में 50 फीसदी प्रतिनिधित्व के लिए दबाव डालिए।

उन्होंने 21 महीने से चल रहे गतिरोध को तोड़ने के लिए मोर्चे का नेतृत्व किया और सुप्रीम कोर्ट में नौ न्यायाधीशों की नियुक्ति की सिफारिश की। वह उच्च न्यायालयों में सैकड़ों रिक्त पदों को भरने की अपनी प्रतिबद्धता के बारे में पूरे दिल से बोलते हैं।

जून में, उन्होंने कहा था कि हर कुछ वर्षो में एक बार शासक को बदलने का अधिकार, अत्याचार और सार्वजनिक प्रवचन के खिलाफ गारंटी नहीं होना चाहिए, यह मानवीय गरिमा का एक अंतर्निहित पहलू है और एक उचित रूप से कार्य करने वाले लोकतंत्र के लिए आवश्यक है।

मिलिए भारत के मुख्य न्यायाधीश एन.वी. रमना से, जिनका प्रणालीगत मुद्दों पर 360-डिग्री का दृष्टिकोण है, जो आम लोगों के लिए न्याय तक पहुंच को प्रभावित करता है और ऐसा लगता है कि वह लोगों को यह महसूस कराने के लिए अतिरिक्त मील जाने को तैयार हैं कि कानून और उसके संस्थान सभी के लिए हैं।

चाहे वह कोर्ट रूम हो या किसी समारोह का मंच, रमना इस बात पर बहुत जोर देते हैं कि कमजोर और दलितों को न्याय से वंचित नहीं किया जाना चाहिए।

शनिवार को एक समारोह में उन्होंने कहा कि न्याय तक समान पहुंच प्रदान किए बिना सामाजिक-आर्थिक न्याय प्राप्त करना असंभव होगा और एक लोकतांत्रिक देश में, यह लोगों का विश्वास है जो संस्थानों को बनाए रखता है।

शीर्ष अदालत में न्यायाधीशों की नियुक्ति के संबंध में सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम में लगभग दो साल से चल रहे गतिरोध को समाप्त करने के लिए उन्होंने प्रशासनिक पक्ष का नेतृत्व किया।

रमना ने एस.ए. बोबडे से देश में शीर्ष कानूनी पद ग्रहण किया था। बोबडे शीर्ष अदालत में नियुक्ति के लिए एक भी सिफारिश भेजे बिना सेवानिवृत्त हुए। अपने अब तक के छोटे से कार्यकाल में रमना ने केंद्र को नौ नाम भेजे, जिन्हें कुछ ही हफ्तों में मंजूरी मिल गई।

बताया गया कि न्यायमूर्ति आर.एफ. नरीमन ने राजस्थान उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति अकील कुरैशी का नाम शीर्ष अदालत में पदोन्नति के लिए अनुशंसित न्यायाधीशों की सूची में शामिल करने पर जोर दिया था।

हालांकि, जब रमना की अध्यक्षता वाले सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम द्वारा उनकी अनदेखी की गई, तो किसी भी बार निकाय द्वारा कोई औपचारिक विरोध दर्ज नहीं किया गया था।

न्यायमूर्ति कुरैशी ने गुजरात उच्च न्यायालय में न्यायाधीश के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान 2010 में एक फर्जी मुठभेड़ मामले में वर्तमान गृहमंत्री अमित शाह को सीबीआई हिरासत में भेज दिया था। नरीमन के 12 अगस्त को सेवानिवृत्त होने के बाद नौ जजों के नाम केंद्र को भेजे गए थे।

रमना ने न्यायपालिका में महिलाओं के लिए 50 प्रतिशत प्रतिनिधित्व की आवश्यकता के बारे में भी जोरदार ढंग से बात की है।

सुप्रीम कोर्ट की महिला अधिवक्ताओं ने शीर्ष अदालत में उनके और नवनियुक्त न्यायाधीशों के लिए एक सम्मान समारोह आयोजित किया था, जिसमें उन्हें संबोधित करते हुए सीजेआई ने कहा था, आप गुस्से के साथ, चिल्लाकर मांग कीजिए, बोलिए कि हमें 50 प्रतिशत प्रतिनिधित्व की आवश्यकता है। यह यह कोई छोटा मुद्दा नहीं है, यह हजारों साल के दमन का मामला है। आप हकदार हैं, यह अधिकार की बात है। यूं ही कोई भी दान देने वाला नहीं है।

रमना ने उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों के रूप में नियुक्ति के लिए शीर्ष अदालत के वकीलों के नामांकन के संबंध में सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन की लंबे समय से लंबित मांग को स्वीकार करने की इच्छा भी दिखाई है। उन्होंने एससीबीए को योग्य और मेधावी उम्मीदवारों की पहचान करने के लिए एक खोज समिति बनाने की अनुमति दी।

न्यायिक पक्ष में, सीजेआई की अध्यक्षता वाली एक पीठ ने कहा था कि वह पेगासस स्पाइवेयर का उपयोग करके नागरिकों, विशेष रूप से पत्रकारों, कार्यकर्ताओं, विपक्षी नेताओं आदि पर जासूसी के आरोपों की जांच के लिए एक तकनीकी समिति का गठन करने का इरादा रखती है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 03 Oct 2021, 12:15:01 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.