News Nation Logo

राजस्थान में चौथी राज्यसभा सीट के लिए घमासान, कांग्रेस के लिए मुसीबत बना जी-6 समूह

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 04 Jun 2022, 03:25:01 PM
Now, G-6

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

जयपुर:   मीडिया कारोबारी सुभाष चंद्रा को राजस्थान की चौथी राज्यसभा सीट से निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर उतारने से सत्तारूढ़ दल तनाव में है। कांग्रेस तीन सीटों पर आसान जीत के बारे में सोच रही है, जबकि भाजपा के लिए कम से कम एक राज्यसभा सीट सुनिश्चित दिखाई दे रही है।

अपने विधायकों को विपक्षी पार्टी के प्रलोभन से बचाने के प्रयास में, कांग्रेस सरकार उन्हें उदयपुर ले गई है।

आखिरकार, सोशल मीडिया पर नए शब्द ट्रेंड कर रहे हैं, इनमें से कुछ हैं हॉर्स ट्रेडिंग, एलिफेंट ट्रेडिंग, बाड़ाबंदी (राजनीतिक बाड़ लगाना), बाड़ा-बंक (विधायक बंकिंग फेंसिंग) और जी 6 समूह।

कुल मिलाकर, बसपा के चार और कांग्रेस के दो विधायक कांग्रेस सरकार के लिए मुसीबत बने हुए हैं।

इन छह विधायकों के समूह को जी-6 कहा जा रहा है क्योंकि वे कांग्रेस सरकार के खिलाफ मुखर हो रहे हैं। यह उसी तर्ज पर है, जिस तरह जी-23 नेताओं का समूह एक बार कांग्रेस नेतृत्व के खिलाफ गया था।

दरअसल, उनमें से कई को तब सरिस्का में सफारी का मजा लेते देखा गया, जब कांग्रेस विधायक उदयपुर कैंप में जा रहे थे।

बसपा के एक असंतुष्ट नेता वाजिब अली ने कहा, हमने सरिस्का में एक बाघ देखा है और अब हम बाड़टाबंडी के इच्छुक नहीं हैं।

एक अन्य विधायक गिरिराज मलिंगा ने खुलकर कहा है कि उन्होंने कांग्रेस के साथ 7 फेरे (हमेशा का साथ नहीं है) नहीं लिए हैं। यह पूछे जाने पर कि क्या वह उदयपुर में राजनीतिक फेंसिंग में शामिल होने जा रहे हैं, उन्होंने कहा, हम गुलाम नहीं हैं।

एक अन्य विधायक राजेंद्र गुडा ने कहा, सीएम मीडिया से बहुत कुछ बोलते हैं। गहलोत साहब बोलते बहुत हैं, कि ये किया, मीडिया में बोलते हैं। कभी बैठा के चिंता करते तो ज्यादा ठीक होता।

एक अन्य विधायक खिलाड़ी लाल बैरवा ने कहा, हम गुलाम नहीं हैं। हमसे बड़ा वादा किया गया था जब एक गुट ने विद्रोह किया था, जब सरकार खतरे में थी और अब हम गुलाम नहीं होंगे।

इस बीच बीजेपी ने भी अपने विधायकों के लिए बाड़ेबंदी का ऐलान किया है जिसे ट्रेनिंग कैंप कहा जा रहा है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा, हम उन्हें जयपुर के होटल में ले जाएंगे। अरुण सिंह, नरेंद्र सिंह तोमर जैसे केंद्रीय नेता 6 जून से इन विधायकों के साथ रहेंगे। हमारे विधायकों को प्रशिक्षण दिया जाएगा।

चंद्रा को मैदान में उतारने के बाद से ही कांग्रेस बीजेपी पर खरीद-फरोख्त का आरोप लगा रही है। हालांकि बीजेपी ने बदले में कांग्रेस पर एलिफेंट ट्रेडिंग का आरोप लगाया है।

सतीश पूनिया ने कहा, उन्होंने दो बार एलिफेंट ट्रेडिंग किया, एक बार 2008 में और दूसरा 2018 में बसपा के सभी विधायकों का कांग्रेस में विलय करके।

वहीं गहलोत ने कहा है कि उन्होंने चंद्रा को मैदान में उतारा है, लेकिन वे वोट कहां से लाएंगे। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा, वे खरीद-फरोख्त में शामिल होंगे।

इस बीच, एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि राजनीति में कुछ भी हो सकता है। उन्होंने आईएएनएस से बात करते हुए अप्रत्यक्ष रूप से कहा, नई दुनिया की राजनीति राजनीतिक शब्दावली में पिक्च र अभी बाकी है के रूप में नए शब्द ला सकती है, यानी अंत अभी बाकी है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 04 Jun 2022, 03:25:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.