News Nation Logo
महाराष्ट्र के गृहमंत्री दिलीप वासले हुए कोरोना पॉजिटिव कोरोना अपडेटः पिछले 24 घंटे में देश में 16,156 केस आए, 733 मरीजों की मौत हुई सेंसेक्स 62.33 प्वाइंट की कमजोरी के साथ 61,081 के स्तर पर खुला नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 23.3 प्वाइंट की नरमी के साथ 18,187.65 के स्तर पर खुला आर्य़न खान ड्रग्स केस में गवाह किरण गोसावी पुणे से गिरफ्तार पेट्रोल और डीजल के दामों में 35 पैसे की बढ़ोतरी कैप्टन अमरिंदर सिंह आज फिर मुलाकात करेंगे गृह मंत्री अमित शाह से क्रूज ड्रग्स मामले में आर्यन खान की जमानत पर आज फिर दोपहर में सुनवाई पीएम नरेंद्र मोदी आज आसियान-भारत शिखर वार्ता को करेंगे संबोधित दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पंजाब के दो दिवसीय दौरे पर आज जाएंगे

अब बिहार में दिहाड़ी मजदूरों के बैंक खाते में 9.99 करोड़ रुपये!

अब बिहार में दिहाड़ी मजदूरों के बैंक खाते में 9.99 करोड़ रुपये!

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 24 Sep 2021, 12:50:01 PM
Now daily

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

पटना: गरीब ग्रामीणों के बैंक खातों में करोड़ों रुपये आने के कई मामलों के बाद, एक दिहाड़ी मजदूर को पता चला कि यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, सुपौल शाखा में उसके पास 9.99 करोड़ रुपये मौजूद हैं। दिलचस्प बात यह है कि विपिन चौहान नाम के मजदूर का दावा है कि उसने कभी किसी बैंक में खाता नहीं खोला।

बिहार के सुपौल शहर के सिसौनी इलाके के मूल निवासी चौहान गुरुवार को मनरेगा के लिए जॉब कार्ड खोलने के लिए यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के ग्राहक सेवा केंद्र (सीएसपी) आउटलेट पर गए थे।

जब सीएसपी आउटलेट के अधिकारी ने अपने आधार कार्ड नंबर का उपयोग करके विपिन चौहान की वित्तीय स्थिति की जांच की, तो उन्होंने पाया कि उनके (विपिन चौहान) नाम पर एक खाता पहले से बना हुआ है और उनके नाम पर बचत खाते में 9.99 करोड़ रुपये जमा हैं।

चौहान ने कहा, मैंने संबंधित बैंक शाखा से संपर्क किया है और अधिकारियों ने खाते के विवरण की जांच की है। इसे 13 अक्टूबर 2016 को खोला गया था और फरवरी 2017 में खाते में करोड़ों रुपये का लेनदेन हुआ। बैंक अधिकारी को मेरा और मेरे फोटोग्राफ, हस्ताक्षर या अंगूठे के निशान का पता नहीं चला। केवल आधार कार्ड नंबर मेरा है। वर्तमान में, खाते में 9.99 करोड़ रुपये अभी भी बाकी हैं।

बैंक अधिकारियों ने खाता खोलने के फार्म की तलाशी ली लेकिन वह शाखा में नहीं मिला।

यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के एक अधिकारी ने कहा, हमारे संज्ञान में आने के बाद हमने बैंक खाते को फ्रीज कर दिया है। यह पता लगाने के लिए आंतरिक जांच चल रही है कि क्या इस खाते के साथ लेनदेन में अन्य खातों का इस्तेमाल किया गया था।

बिहार में यह पहला मामला नहीं है। बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के कटरा थाना क्षेत्र के सिंगारी गांव के एक बुजुर्ग राम बहादुर शाह के बैंक खाते में 52 करोड़ रुपये आए थे।

एक और घटना कटिहार जिले में सामने आई जब कक्षा 6 के दो स्कूली छात्रों आशीष कुमार और गुरुचरण विश्वास को 15 सितंबर को उनके बैंक खातों में क्रमश: 6,20,11,100 रुपये और 90,52,21,223 रुपये मिले।

दोनों बच्चे बघौरा पंचायत के पस्तिया गांव के रहने वाले हैं। इनके बैंक खाते उत्तर बिहार ग्रामीण बैंक में हैं।

इसके अलावा रंजीत दास नाम के शख्स के बैंक खाते में भी साढ़े पांच लाख रुपये आए। दास ने राशि वापस करने से इनकार कर दिया। उन्होंने दावा किया कि पीएम नरेंद्र मोदी ने हर देशवासी को 15 लाख रुपये देने का वादा किया और यह 5.5 लाख रुपये की पहली किस्त है।

उन्होंने पैसे नहीं लौटाए तो बैंक ने उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली थी। वह फिलहाल जेल में बंद है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 24 Sep 2021, 12:50:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो