News Nation Logo
Banner

Nirbhaya Justice : पिछले 15 सालों में इन लोगों को लटकाया गया फांसी के फंदे पर

बीते 15 सालों में केवल चार लोगों को फांसी की सजा दी गई है.

News Nation Bureau | Edited By : Sushil Kumar | Updated on: 07 Jan 2020, 07:14:30 PM
प्रतीकात्मक फोटो

प्रतीकात्मक फोटो (Photo Credit: न्यूज स्टेट)

नई दिल्ली:

दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने निर्भया के दोषियों को फांसी का डेथ वारंट जारी कर दिया है. चारों दोषियों को 22 जनवरी सुबह सात बजे फांसी से लटकाया जाएगा. चारों को फांसी मेरठ के पवन जल्लाद देंगे. सात साल बाद निर्भया को न्याय मिला है. कोर्ट के फैसले पर निर्भया के माता-पिता ने खुशी जताई है. उन्होंने कहा कि हमारे लिए आज का दिन बहुत बड़ा है. बीते 15 सालों में केवल चार लोगों को फांसी की सजा दी गई है. क्या आप जानते हैं अबतक कितने लोगों को फांसी पर लटकाया गया है.

याकूब मेमन

1993 बंबई बम धमाकों में दोषी याकूब मेमन को 30 जुलाई 2015 को फांसी की सजा दी गई थी. मुंबई में 12 मार्च 1993 को भीड़ भरे 12 स्थानों पर हुए सिलसिलेवार विस्फोटों में 257 लोग मारे गए और 700 से अधिक घायल हो गए थे. बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज की 28 मंजिला इमारत की बेसमेंट में दोपहर डेढ़ बजे धमाका हुआ. इसमें करीब 50 लोग मारे गए थे. इन हमलों का मुख्य साज़िशकर्ता टाइगर मेमन के भाई याकूब मेमन को बताया गया.

अफजल गुरु

2013 में संसद हमले के दोषी अफजल गुरू को फांसी की सजा दी गई थी.

अजमल कसाब

2012 में मुंबई हमलों के दोषी अजमल कसाब को 21 नवंबर को फांसी की सजा दी गई थी.

धनंजय चटर्जी

अगस्त 2004 में बलात्कार और हत्या के दोषी धनंजय चटर्जी को कोलकाता में फांसी पर लटकाया गया था.

ऑटो शंकर

चटर्जी से पहले 1995 में सीरियल किलर ऑटो शंकर को फांसी दी गई थी.

निर्भया के चारों दोषियों को 22 जनवरी की सुबह 7 बजे फांसी से लटका जाएगा. दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने डेथ वारंट जारी किया है. निर्भया को 7 साल के बाद न्याय मिला. उन्हें 7 साल से अधिक का समय लग गया. अब जब फांसी का डेथ वारंट जारी हो गया है, तो सबसे बड़ा सवाल यह है कि इन चारों दोषियों को कौन फांसी देगा. इन दोषियों को मेरठ के पवन जल्लाद फांसी पर लटकाएगा. क्या आप जानते हैं आखिर पवन जल्लाद कौन है?

यह भी पढ़ें- निर्भया के दोषियों को फांसी देने यहां से आया फंदा, ये जल्लाद देगा मौत

निर्भया के चारों गुनहगारों मुकेश, पवन, अक्षय और विनय को फांसी से लटकाया जाएगा. पवन मेरठ के रहने वाले हैं और उनके परिवार में जल्लाद का काम पीढ़ी-दर-पीढ़ी होता आ रहा है. पवन के परिवार में चार पीढ़ियों से जल्लाद का काम होता आ रहा है. जल्लाद की पारिवारिक विरासत को निभाने वाले पवन परिवार की चौथी पीढ़ी है. करीब पचास साल से इनका परिवार इस काम को करता आ रहा है. पवन का कहना है कि वह दोषियों को फांसी देने के लिए तैयार है.

यह भी पढ़ें- निर्भया केस: दोषियों के वकील ने कहा- सुप्रीम कोर्ट में दाखिल करेंगे क्यूरेटिव पिटीशन

वहीं इससे पहले पवन के पिता मामू जल्लाद ने दो दोषियों को फांसी दी थी. जबकि पवन के दादा ने कई लोगों को फांसी के फंदे पर लटकाया था. पवन के पड़ दादा लक्ष्मण राम इस काम को करने वाले पहली पीढ़ी थे. पवन के परिवार में नौ सदस्य हैं. बताया गया कि उनके सात बच्चे हैं. जिनमें पांच बेटी और दो बेटे हैं. वह चार बेटियों की शादी कर चुके हैं. अभी एक बेटी और दो बेटों की शादी होनी है.

First Published : 07 Jan 2020, 06:36:10 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.