News Nation Logo

जफरुल इस्लाम के घर समेत टेरर फंडिंग में NIA के श्रीनगर और दिल्ली में छापे

कुछ गैर सरकारी संगठनों और ट्रस्टों द्वारा धर्मार्थ गतिविधियों के नाम पर भारत और विदेशों से धन जुटाने और फिर कश्मीर में अलगाववादी गतिविधियों के लिए उपयोग करने के मामले में यह छापेमार कार्रवाई की जा रही है.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 29 Oct 2020, 11:33:51 AM
NIA Raids Delhi Srinagar

लगातार दो दिनों से एनआईए कर रही है छापेमारी. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

नई दिल्ली:

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने गुरुवार को टेरर फंडिंग केस में जम्मू और कश्मीर (Jammu Kashmir) की राजधानी श्रीनगर और दिल्ली में नौ स्थानों पर छापे मारे. कुछ गैर सरकारी संगठनों और ट्रस्टों द्वारा धर्मार्थ गतिविधियों के नाम पर भारत और विदेशों से धन जुटाने और फिर कश्मीर में अलगाववादी गतिविधियों के लिए उपयोग करने के मामले में यह छापेमार कार्रवाई की जा रही है. जांच में शामिल एनआईए के एक अधिकारी ने बताया कि एजेंसी श्रीनगर और दिल्ली में छह एनजीओ और ट्रस्टों के 9 ठिकानों पर छापेमारी कर रही है.

यह भी पढ़ेंः मायावती का सपा पर हमला, जून 1995 वाला केस नहीं लेना चाहिए था वापस

बुधवार को भी हुई थी छापेमारी
जिन ट्रस्टों और एनजीओ के ठिकानों पर छापेमार कार्रवाई चल रही है उनमें फलाह-ए-आम ट्रस्ट, चैरिटी अलायंस, ह्यूमन वेलफेयर फाउंडेशन, जेएंडके यतेम फाउंडेशन, साल्वेशन मूवमेंट और जेएंडके वॉयस ऑफ विक्टिम्स (जेकेवीवीवी) के दफ्तर शामिल हैं. एनआईए ने बुधवार को श्रीनगर और बांदीपुर में 11 स्थानों पर और बेंगलुरु में एक स्थान पर छापा मारा था.

यह भी पढ़ेंः गुरुग्राम के नामी अस्पताल में वेंटिलेटर पर रखी गई मरीज से दुष्कर्म

अक्टूबर में दर्ज केस पर अब छापेमारी
एनआईए ने जम्मू और कश्मीर सिविल सोसाइटी के कोर्डिनेटर खुर्रम परवेज के निवास और दफ्तर में तलाशी ली. इसके अलावा खुर्रम परवेज के साथी परवेज अहमद बुखारी, परवेज अहमद मटका और बेंगलुरु स्थित सहयोगी स्वाति शेषाद्रि, परवीना अहंगर के ठिकानों पर भी तलाशr ली गई. एनआईए ने 8 अक्टूबर को आईपीसी और गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम की कई धाराओं के तहत केस दर्ज किया था. उसी के तहत ये कार्रवाई की जा रही है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 29 Oct 2020, 11:24:30 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.