News Nation Logo
Breaking
Banner

NHRCL अन्य बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के लिए डीपीआर में लाएगी तेजी

गलियारों के लिए डीपीआर को अंतिम रूप दिया जाएगा, तो उन्होंने कहा कि यह 2021 और 2022 तक चरणबद्ध तरीके से पूरा हो जाएगा.

IANS/News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 18 Jan 2021, 12:38:48 PM
Bullet Train

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिंजो आबे के साथ रखी थी आधारशिला. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

नई दिल्ली:  

नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (एनएचएसआरसीएल) ने 800 किलोमीटर के दिल्ली-वाराणसी हाई स्पीड रेल कॉरिडोर का एक हवाई लिडार सर्वे किया, दिल्ली-अहमदाबाद और मुंबई-नागपुर के लिए सर्वेक्षण का काम भी जल्द ही शुरू किया जाना है क्योंकि निविदाएं प्रदान की गई हैं. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. एनएचएसआरसीएल की प्रवक्ता सुषमा गौड़ ने बताया, 'डेटा संग्रह और लिडार सर्वेक्षण सहित विभिन्न अन्य गतिविधियों से संबंधित निविदाएं, दिल्ली-वाराणसी के लिए डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार करने के लिए आवश्यक है, जिसके लिए डीपीआर का पहला मसौदा पहले ही प्रस्तुत किया जा चुका है.'

उन्होंने कहा, 'दिल्ली-अहमदाबाद हाई स्पीड रेल कॉरिडोर और मुंबई-नागपुर हाई स्पीड रेल कॉरिडोर के लिए, निविदाएं पहले ही प्रदान की जा चुकी हैं और कार्य प्रगति पर है. उन्होंने कि कहा कि इन दोनों गलियारों पर लिडार सर्वे जल्द ही शुरू हो सकता है. गौड़ ने आगे कहा कि मुंबई-हैदराबाद और दिल्ली-अमृतसर पर लिडार सर्वे से संबंधित निविदाओं को भी प्रदान किया गया है. उन्होंने कहा, 'हम चेन्नई-मैसूर और वाराणसी-हावड़ा जैसे अन्य गलियारों के लिए डीपीआर तैयार करने के लिए निविदाओं को अंतिम रूप देने पर काम कर रहे हैं.'

जब इन गलियारों के लिए डीपीआर को अंतिम रूप दिया जाएगा, तो उन्होंने कहा कि यह 2021 और 2022 तक चरणबद्ध तरीके से पूरा हो जाएगा. पिछले साल, एनएचएसआरसीएल ने 711 किलोमीटर लंबे मुंबई-हैदराबाद हाई-स्पीड रेल कॉरिडोर के लिए विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) जारी करने का फैसला किया, जो पुणे से होकर गुजरेगी, 459 किलोमीटर लंबा दिल्ली-अमृतसर-चंडीगढ़, 800 किलोमीटर लंबा दिल्ली-वाराणसी, 753 किलोमीटर लंबा मुंबई-नागपुर, 886 किलोमीटर लंबा दिल्ली-अहमदाबाद खंड, साथ ही 711 किलोमीटर लंबा मुंबई-हैदराबाद बुलेट ट्रेन कॉरिडोर है. डीपीआर की तैयारी के लिए एनएचआरसीएल इन नए प्रस्तावित गलियारों पर डेटा एकत्र कर रहा है.

यह वर्तमान में 508 किलोमीटर लंबी मुंबई-अहमदाबाद हाई-स्पीड रेल परियोजना का निर्माण कर रहा है, जिसे बुलेट ट्रेन परियोजना के रूप में जाना जाता है. 10 जनवरी को नेशनल हाई-स्पीड रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (एनएचआरसीएल) ने उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा से दिल्ली-वाराणसी मार्ग के लिए लिडार सर्वे शुरू किया, जिसमें अत्याधुनिक हवाई लिडार और इमेजरी सेंसरों के साथ एक हेलीकॉप्टर फिट किया जाएगा. एनएचआरसीएल को अभी तक 435 किलोमीटर लंबे चेन्नई-मैसूर और 760 किलोमीटर लंबे वाराणसी-हावड़ा हाई स्पीड रेल कॉरिडोर के लिए निविदाएं आमंत्रित करनी हैं. उन्होंने आगे कहा कि मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना पर भी काम जोरों पर है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने तत्कालीन जापानी समकक्ष शिंजो आबे के साथ 14 सितंबर 2017 को एमएएचएसआर गलियारे की आधारशिला रखी थी.

First Published : 18 Jan 2021, 12:23:05 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.