News Nation Logo
भारत सभी देशों के अधिकारों का सम्मान करता है: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह हम अपने समुद्रों और विशेष आर्थिक क्षेत्र की रक्षा हर कीमत पर करेंगे: राजनाथ सिंह लालू ने सोनिया से समान विचारधारा वाले लोगों और पार्टियों को एक मंच पर लाने की बात कही सोनिया जी एक मजबूत विकल्प (सत्तारूढ़ पार्टी का) देने की दिशा में काम करें: लालू प्रसाद यादव मैंने सोनिया गांधी से बात की, उन्होंने मुझसे मेरी कुशलक्षेम पूछी: राजद नेता लालू प्रसाद यादव कांग्रेस महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी ने दिल्ली में बुलाई हाई लेवल बैठक पटना के गांधी मैदान बम ब्लास्ट मामले का एक आरोपी फखरुद्दीन को रिहा पटना के गांधी मैदान बम ब्लास्ट मामले में सजा 1 नवंबर को सुनाई जाएगी NIA की स्पेशल कोर्ट ने 10 आरोपियों में से नौ को दोषी करार दिया NCB के DDG ज्ञानेश्वर सिंह समेत NCB की 5 सदस्यीय टीम दिल्ली से मुंबई पहुंची NCB की टीम प्रभाकर के भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच करेगी प्रभाकर मुंबई के क्रूज़ ड्रग्स मामले में एक गवाह है सभी गवाहों के कॉल डिटेल की जांच हो: नवाब मलिक सीएम तीर्थयात्रा योजना में अयोध्या शामिल: अरविंद केजरीवाल, सीएम दिल्ली दिल्ली के लोग रामलला के दर्शन कर सकेंगे: अरविंद केजरीवाल, सीएम दिल्ली कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किया नई पार्टी बनाने का ऐलान, कहा- सभी 117 सीटों पर लड़ेंगे चुनाव पेगासस जासूसी मामले की जांच करेगी एक्सपर्ट कमेटी, सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश कोविड के चलते दक्षिण 24 परगना जिले के सोनारपुर इलाके में 3 दिन का लॉकडाउन बॉम्बे हाईकोर्ट में नवाब मलिक के खिलाफ PIL दायर, ड्रग्स केस में टिप्पणी से रोकने की मांग पंजाब में दिवाली पर 2 घंटे पटाखे चलाने की इजाजत, रात 8 से 10 बजे तक कर सकेंगे आतिशबाजी अक्टूबर महीने में 20वीं बार महंगा हुआ पेट्रोल और डीजल दिल्ली में पेट्रोल 35 पैसे और डीजल 35 पैसे प्रति लीटर महंगा हुआ पीएम मोदी आज ईस्ट एशिया समिट को संबोधित करेंगे, वर्चुअली होंगे शामिल

थोरियम परमाणु बिजली स्टेशन पर चीन-भारत सहयोग

थोरियम परमाणु बिजली स्टेशन पर चीन-भारत सहयोग

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 02 Oct 2021, 06:55:01 PM
new from

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

बीजिंग: कार्बन उत्सर्जन को कम करने की आवश्यकता के साथ-साथ ऊर्जा की मांग में वृद्धि जारी है। जिसमें हाल ही में उत्तर पश्चिमी चीन के कानसू प्रांत में नव-निर्मित थोरियम आधारित परमाणु ऊर्जा संयंत्र की महत्वपूर्ण भूमिका साबित हो जाएगी। पारंपरिक परमाणु ऊर्जा संयंत्र यूरेनियम का उपयोग करते हैं, और ऐसे परमाणु ऊर्जा संयंत्रों की सुरक्षा अधिक नहीं है। और दुनिया में यूरेनियम का भंडार सीमित है। थोरियम आधारित परमाणु ऊर्जा संयंत्र उच्चतम सुरक्षा और उच्च बिजली उत्पादन क्षमता वाला परमाणु ऊर्जा संयंत्र है। उधर एक किलोग्राम थोरियम 3,500 टन कोयले के बराबर ऊर्जा पैदा कर सकता है।

वर्तमान में, भारत और चीन के पास दुनिया में थोरियम का सबसे समृद्ध भंडार है। चीन की वर्तमान बिजली की मांग के अनुसार परमाणु ईंधन के रूप में थोरियम अगले 20 हजार वर्षों तक ऊर्जा की मांग को पूरा कर सकेगा। इसके अलावा, थोरियम आधारित परमाणु ऊर्जा संयंत्र में पानी से ठंडा नहीं होने की विशेषताएं भी हैं। वर्ष 2011 से चीनी वैज्ञानिकों ने निकल-आधारित सुपर ऑलॉय, ग्रेफाइट सामग्री और पिघला हुआ नमक तकनीक के विकास में महत्वपूर्ण प्रगतियां हासिल की है, जो थोरियम-आधारित परमाणु रिएक्टरों में आवश्यक है। भविष्य में चीन परमाणु ऊर्जा, हाइड्रोजन, पिघला हुआ नमक ताप भंडारण और फोटोवोल्टिक बिजली उत्पादन जैसे व्यापक निम्न-कार्बन मिश्रित ऊर्जा प्रणालियों का उपयोग करेगा।

वर्तमान में, दुनिया में 400 से अधिक परमाणु ऊर्जा संयंत्र बनाए गए हैं, लेकिन वे केवल 10 प्रतिशत ऊर्जा प्रदान करते हैं। हालांकि, परमाणु ऊर्जा उत्पादन के लिए आवश्यक यूरेनियम 235 की आपूर्ति सीमित है। लेकिन थोरियम आधारित परमाणु रिएक्टर यूरेनियम रिएक्टर से इस मायने में अलग है कि यह पानी नहीं बल्कि पिघला हुआ नमक का प्रयोग करता है। इस तरह ऑपरेशन के दौरान परमाणु अपशिष्ट जल की कोई आवश्यकता नहीं होती है। थोरियम आधारित परमाणु ऊर्जा संयंत्र रेगिस्तान में बनाए जा सकते हैं, और फिर बड़े शहरों में बिजली पहुंचाने के लिए यूएचवी ट्रांसमिशन तकनीक का उपयोग किया जा सकता है। थोरियम आधारित परमाणु रिएक्टरों का ऑपरेटिंग तापमान लगभग 700 डिग्री है, और थर्मल ऊर्जा दक्षता 45 प्रतिशत -50 प्रतिशत तक पहुंच सकती है, जबकि यूरेनियम केवल 33 प्रतिशत तक पहुंच सकता है। थोरियम आधारित परमाणु ऊर्जा संयंत्र पानी का उपयोग नहीं करता है, और जापान में फुकुशिमा परमाणु ऊर्जा संयंत्र और चेरनोबिल परमाणु ऊर्जा संयंत्र की तरह रिसाव का कोई खतरा नहीं है। थोरियम रिएक्टर द्वारा उत्पादित परमाणु अपशिष्ट 300 वर्षों के बाद प्राकृतिक अयस्क के उत्सर्जन मानक तक पहुंचेगा। जबकि यूरेनियम के परमाणु कचरे में कम से कम दसियों हजार साल लगते हैं। इसलिए थोरियम आधारित परमाणु ऊर्जा संयंत्र सुरक्षित हैं।

इसके अलावा, थोरियम परमाणु हथियारों के निर्माण के लिए उपयुक्त सामग्री नहीं है। इसलिए थोरियम आधारित परमाणु ऊर्जा संयंत्रों के विकास से परमाणु हथियारों के प्रसार को रोका जा सकता है। संक्षेप में बिजली उत्पादन के लिए थोरियम आधारित पिघला हुआ नमक रिएक्टरों का उपयोग भविष्य की प्रवृत्ति है। भविष्य में कार्बन उत्सर्जन को कम करने के लिए हम बिजली उत्पादन के लिए कोयले नहीं, पर थोरियम का उपयोग कर सकेंगे। परमाणु ऊर्जा के विकास के इतिहास का सिंहावलोकन करते हुए चीन और भारत का विकास पश्चिमी देशों की तुलना में पिछड़े हुए थे। पर चीन और भारत के पास थोरियम का सबसे समृद्ध भंडार है। यदि थोरियम आधारित परमाणु ऊर्जा प्रौद्योगिकी का विस्तार किया जाए, तो चीन और भारत को विदेशी ऊर्जा पर निर्भर रहने की स्थिति से पूरी तरह छुटकारा मिल जाएगा। इसका दुनिया भर में परमाणु ऊर्जा, पर्यावरण, ऊर्जा और अन्य क्षेत्रों पर गहरा प्रभाव पड़ेगा। अब चीन की थोरियम आधारित परमाणु ऊर्जा प्रौद्योगिकी पर पश्चिमी देशों का ध्यान आकर्षित है, और कई अंतरराष्ट्रीय संगठनों ने चीन के साथ सहयोग करने की उम्मीद प्रकट की है। थोरियम आधारित परमाणु ऊर्जा प्रौद्योगिकी में चीन और भारत के बीच सहयोग की व्यापक संभावनाएं भी हैं।

( साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग )

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 02 Oct 2021, 06:55:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.