News Nation Logo
Breaking
पहले बड़े मंगल के मौके पर लखनऊ में बजरंगबली के मंदिरों पर दर्शनार्थियों की भीड़ मैरिटल रेप का मामला SC पहुंचा, याचिकाकर्ता खुशबू सैफी ने दिल्ली HC के फैसले को SC में चुनौती दी मुंबई : कार्तिक चिदंबरम और उनसे जुडे ठिकानों पर सीबीआई की छापेमारी दिल्ली : कुतुबमीनार के कुव्वुतुल इस्लाम मस्जिद मामले की याचिका पर साकेत कोर्ट में सुनवाई टली मथुरा जिला अदालत में एक और याचिका, शाही ईदगाह मस्जिद को सील करने की मांग दाऊद के करीबी और 1993 मुंबई धमाकों के वॉन्टेड आरोपियों को गुजरात ATS ने पकड़ा हरिद्वार हेट स्पीच मामला : जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी उर्फ़ वसिम रिज़वी को 3 महीने की अंतरिम जमानत जम्मू : म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन में गैर कानूनी लाउडस्पीकर बैन के प्रस्ताव के पारित होने पर हंगामा चिंतन शिविर के बाद हरियाणा कांग्रेस की कोर टीम आज शाम राहुल गांधी से करेगी मुलाकात वाराणसी कोर्ट में आज ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश नही होगी, तीन दिन का और समय मांगा जाएगा राजस्थान : पुलिस कांस्टेबल भर्ती में 14 मई की द्वितीय पारी की परीक्षा दोबारा ली जाएगी जम्मू कश्मीर : राजौरी इलाके के कई वन क्षेत्रों में भीषण आग, बुझाने में जुटे फायर टेंडर्स
Banner

अमेरिका को लोकतंत्र के बारे में बात करने का कोई अधिकार नहीं

अमेरिका को लोकतंत्र के बारे में बात करने का कोई अधिकार नहीं

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 30 Nov 2021, 06:40:01 PM
new from

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

बीजिंग:   दुनिया में अंतहीन युद्धों और उथल-पुथल ने बार-बार साबित किया है कि विदेशों में लोकतंत्र को बढ़ावा देने और अपने स्वयं की व्यवस्था और मूल्यों को दूसरे देशों पर थोपने से अंतर्राष्ट्रीय और क्षेत्रीय शांति, सुरक्षा और स्थिरता को गंभीर रूप से नष्ट किया गया है। अमेरिका में स्थित चीनी और रूसी राजदूतों ने हाल ही में अमेरिकी पत्रिका राष्ट्रीय हित में संयुक्त रूप से लेख लिख कर यह बात कही और अमेरिका द्वारा जल्द ही आयोजित होने वाली तथाकथित लोकतंत्र शिखर सम्मेलन का ²ढ़ विरोध किया। उनके इस लेख पर अंतरराष्ट्रीय लोकमतों का व्यापक ध्यान केंद्रित हुआ है।

लोकतंत्र को गाने के रूप में पेश करता है, लेकिन हर जगह पर लोकतंत्र का विरोध करने की कार्रवाई करता है। अमेरिका के लिए यह वास्तव में बहुत हास्य व्यंग्य है। द्वितीय विश्व युद्ध की समाप्ति के बाद से लेकर अब तक, अमेरिका लोकतंत्र के बैनर तले गुट वाली राजनीति के बारे में सबसे अधिक उत्साही रहा है। दूसरे देशों पर आक्रमण करने और लोकतंत्र के प्रसार के नाम पर निर्दोष लोगों को मारने में सबसे सक्षम देश अमेरिका ही है। अमेरिकी लोकतंत्र के कोट को उतारने से कई घाव सामने आते हैं।

अमेरिका अक्सर छद्म युद्धों का समर्थन करने, घरेलू विद्रोह को भड़काने, गुप्त हत्या करने, हथियार व गोला-बारूद उपलब्ध कराने और सरकार विरोधी ताकतों को प्रशिक्षण देने जैसे तरीकों के माध्यम से दूसरे देशों में हस्तक्षेप करता है, जिससे संबंधित देशों में सामाजिक स्थिरता और लोगों की सुरक्षा को गंभीर नुकसान हुआ है।

इधर के वर्षों में चीन के विकास को रोकने के लिए कुछ अमेरिकी राजनयिकों ने अपनी पुरानी चालों को दोहराते हुए एक बार फिर तथाकथित लोकतंत्र के झंडे को फहराया। इंडो-पैसिफिक रणनीति का प्रस्ताव पेश करने से लेकर अमेरिका, जापान, भारत, ऑस्ट्रेलिया चारों देशों का क्वाड तंत्र बनाने तक, दक्षिण चीन महासागर और थाईवान जलडमरूमध्य में युद्धपोत भेजने के लिए कुछ देशों को प्रोत्साहित करने वाले तथाकथित मुक्त नेविगेशन से लेकर अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया से गठित त्रिपक्षीय सुरक्षा साझेदारी (एयूकेयूएस) बनाने तक, अमेरिका लोकतंत्र की आड़ में एशिया-प्रशांत क्षेत्र में टकराव बढ़ा रहा है, जो क्षेत्रीय शांति और स्थिरता का सबसे बड़ा विध्वंसक बन गया है।

लोकतंत्र सभी देशों द्वारा अपनाया जाने वाला एक सामान्य मूल्य है, न कि अमेरिका द्वारा मनमाने ढंग से हेरफेर करने वाला राजनीतिक उपकरण है। अन्य देशों के खिलाफ आक्रामकता से किए गए अनगिनत अपराधों और विभाजन को भड़काने की वजह से क्षेत्रीय सुरक्षा के विनाश का सामना करते हुए वाशिंगटन के पास लोकतंत्र के बारे में बात करने का कोई अधिकार नहीं है। वह जल्द ही तथाकथित लोकतंत्र शिखर सम्मेलन का आयोजन करेगा, जो कि केवल एक ताजा कॉमेडी शो है।

( साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग )

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 30 Nov 2021, 06:40:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.