News Nation Logo
Banner

अफगानिस्तान में अमेरिका कई मायनों में विफल रहा

अफगानिस्तान में अमेरिका कई मायनों में विफल रहा

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 16 Aug 2021, 11:25:02 PM
new from

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

बीजिंग: 20 साल के अमेरिकी सैन्य कब्जे के बाद तालिबान बलों ने काबुल पर कब्जा कर लिया। यह पहली बार नहीं है जब अमेरिका किसी देश में उद्धारकर्ता के रूप में उतरा और गैर-जिम्मेदाराना रूप से चला गया।

ऐसा तब भी हुआ जब 1975 में गृह युद्ध से देश को तबाह करने के बाद अमेरिका ने वियतनाम छोड़ दिया, और ऐसा तब भी हुआ जब 2003 में अमेरिका ने इराक पर आक्रमण किया और इसे एक अशासकीय स्थान में बदल दिया।

खैर, अफगानिस्तान से अमेरिका की जल्दबाजी और गैर-जिम्मेदाराना वापसी यह दर्शाती है कि अमेरिका अफगानिस्तान में शुरू हुए दो दशक लंबे युद्ध को हार चुका है। यह भी स्पष्ट हो जाता है कि अफगानिस्तान में अमेरिका कई मायनों में विफल रहा है।

सबसे पहला, यह एक राजनीतिक विफलता है। इसकी शुरूआत गैर-जिम्मेदाराना निर्णय लेने से हुई। तालिबान द्वारा पनाह दिए गए अल-कायदा को बाहर निकालने के लिए अमेरिका ने अफगानिस्तान पर आक्रमण किया, लेकिन अमेरिका ने देश के पुनर्निर्माण के अपने वादे को कभी पूरा नहीं किया। पहले तो इसकी कोई योजना नहीं थी, इसने रास्ते में ही अपनी योजनाएँ बदल दीं और जो रह गए उनके लिए बिना योजना के झुक गया।

दूसरा, यह मानवीय विफलता है। अफगानिस्तान युद्ध ने लाखों लोगों की जान ली और इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि इसने मानवीय जीवन को चकनाचूर कर दिया। युद्ध की लागत अभी भी स्पष्ट नहीं है।

ब्राउन यूनिवर्सिटी में कॉस्ट ऑफ वॉर प्रोजेक्ट के अनुसार, इस साल अप्रैल तक युद्ध ने अफगानिस्तान में लगभग 1,74,000 लोगों को मार डाला था (जिसमें 47,245 आम नागरिक,

66,000 से 69,000 अफगान सेना और पुलिस और 51,000 से अधिक तालिबान लड़ाके शामिल थे), यानी कि हर दिन 23 जिंदगियां इस धरती से मिट जाती थी।

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, 26 लाख अफगान शरणार्थी हैं, जिनमें से ज्यादातर पाकिस्तान और ईरान में हैं, और अन्य 40 लाख देश के भीतर आंतरिक रूप से विस्थापित हैं। इस युद्ध की हिंसा भी भय पैदा करती है। लाखों लोगों के व्यवसाय बंद हो गए और लोगों ने खरीदारी करना बंद कर दिया है और अब अफगान लोग नकदी निकालने के लिए बैंकों की ओर दौड़ रहे हैं। देश आर्थिक पतन के कगार पर खड़ा है।

तीसरा, यह एक रणनीतिक विफलता है। 1950 के बाद से युद्धों में सभी अमेरिकी विफलताएं रणनीतिक गलतियां हैं। दुखद और चौंकाने वाली बात यह है कि कोरियाई युद्ध, वियतनाम युद्ध से लेकर इराक पर आक्रमण और अफगान कब्जे तक, अमेरिका हर बार सीखने में विफल रहा है।

देखा जाए तो हथियारों का सहारा लेकर अमेरिका जितना हल करता है उससे कहीं ज्यादा समस्याएं पैदा करता है । दुनिया को इस बात की कोई कदर नहीं है कि अमेरिका अपना खून बहाकर उनकी समस्याओं को उलझा रहा है।

चौथा, यह एक नैतिक विफलता है। अमेरिका अपनी मदद करके किसी की मदद नहीं कर रहा है। डोनाल्ड ट्रम्प की तुलना में जो बाइडेन अधिक अमेरिका प्रथम की विचारधारा बढ़ाने वाले राष्ट्रपति हैं, इस अर्थ में कि वे अंतरराष्ट्रीय जिम्मेदारी के बारे में बहुत कुछ कहते हैं लेकिन एक ही समय में बहुत कम सहन करते हैं। जॉर्ज बुश ने युद्ध शुरू किया, बराक ओबामा ने शांति के बारे में सोचा, लेकिन वे अभी भी मानते थे कि अमेरिका अंत तक जिम्मेदार है।

डोनाल्ड ट्रंप पहले अमेरिकी राष्ट्रपति हैं जिन्होंने अफगानिस्तान को कुचलने के बारे में जोर से बात की। लेकिन कम से कम ट्रम्प अमेरिका प्रथम की विचारधारा को ईमानदारी से बताते थे, लेकिन जो बाइडेन स्वार्थ और ईमानदार दोनों तरह से इसे प्राप्त करना चाहते हैं। उन्होंने अफगान लोगों को दर्द से कराहने के लिए छोड़ दिया है।

(लेखक: अखिल पाराशर, चाइना मीडिया ग्रुप, बीजिंग में पत्रकार हैं)

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 16 Aug 2021, 11:25:02 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.