News Nation Logo
उत्तर प्रदेश : आज तीन बड़े मामले ज्ञानवापी, श्रीकृष्ण जन्मभूमि मथुरा और ताजमहल पर सुनवाई प्रधानमंत्री आवास पर कैबिनेट और CCEA की बैठक, कुछ MoU समेत अहम मुद्दों पर हो सकता है फैसला कपिल सिब्बल सपा कार्यालय में अखिलेश यादव के साथ मौजूद, बनेंगे राज्यसभा उम्मीदवार राज्यसभा के लिए कपिल सिब्बल, डिंपल यादव और जावेद अली होंगे समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार- सूत्र पंजाब : ग्रुप सी और डी के पदों के लिए पंजाबी योग्यता टेस्ट कंपलसरी, भगवंत मान सरकार का फैसला मथुरा : जिला अदालत में श्रीकृष्ण जन्मभूमि मामले में 31 मई को होगी अगली सुनवाई मुंबई : मोटरसाइकिल पर दोनों सवारों को हेलमेट पहनना अनिवार्य होगा, 15 दिनों में नियम पर अमल यासीन मलिक की सजा पर बहस पूरी- ऑर्डर रिजर्व, दोपहर बाद विशेष NIA कोर्ट सुनाएगी सजा अयोध्या : 1 जून को श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के गर्भगृह का शिला पूजन होगा, सीएम योगी होंगे शामिल उत्तराखंड : मौसम सामान्य होने के बाद आज दोबारा सुचारू रूप से शुरू हुई चारधाम यात्रा औरंगजेब की कब्र के बाद अब सतारा में मौजूद अफजल खान के कब्र पर बढ़ाई गई सुरक्षा
Banner

अमेरिका और एक राजनीतिक तमाशा पेश करने वाला है

अमेरिका और एक राजनीतिक तमाशा पेश करने वाला है

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 26 Nov 2021, 08:50:01 PM
new from

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

बीजिंग:   अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने हाल ही में थाईवान को तथाकथित लोकतांत्रिक बैठक में भाग लेने का निमंत्रण दिया। अमेरिका ने लोकतंत्र के बहाने से तथाकथित थाईवानी स्वाधीनता के समर्थकों के लिए एक मंच प्रदान किया है। अमेरिका की इस कार्रवाई ने चीन के आंतरिक मामले में दखलंदाजी कर मुकाबला और विभाजन को उकसावा दिया है, जो लोकतांत्रिक मूल्य के प्रति सबसे बड़ी बर्बादी है। चीनी पक्ष इसका डटकर विरोध करता है।

एक चीन सिद्धांत सर्वमान्य अंतरराष्ट्रीय संबंधों का नियम है। थाईवान चीन का एक भाग है। अंतरराष्ट्रीय कानून में उसका कोई स्थान नहीं है। अमेरिका के इस कदम से जाहिर है कि लोकतंत्र अमेरिका के लिए सिर्फ एक राजनीतिक उपकरण है।

एक देश लोकतांत्रिक है या नहीं। इस देश की जनता को बोलने का अधिकार है। प्यू रिचर्स सेंटर की एक अध्ययन रिपोर्ट के अनुसार अधिकांश अमेरिकी लोग अपनी राजनीतिक व्यवस्था के प्रति निराश हैं और सिर्फ 17 प्रतिशत लोगों का विचार है कि अमेरिकी किस्म वाला लोकतंत्र अनुकरणीय है।

अमेरिकी किस्म वाले लोकतंत्र पर अंतरराष्ट्रीय समुदाय को बड़ा संदेह है। अफगानिस्तान में अमेरिका की करारी हार विदेशों में अमेरिकी किस्म वाले लोकतंत्र की हार का मिसाल बन गयी है।

कहा जा सकता है कि तथाकथित लोकतंत्र समिट से अमेरिका लोकतंत्र को परिभाषित करने और तय करने का अधिकार प्राप्त नहीं कर पाएगा। पूरे विश्व के लिए यह सिर्फ और एक राजनीतिक तमाशा होगा।

(साभार---चाइना मीडिया ग्रुप ,पेइचिंग)

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 26 Nov 2021, 08:50:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.