News Nation Logo
बहादुरगढ़ के बादली के पास तेज़ रफ़्तार कार और ट्रक की टक्कर में एक ही परिवार के 8 लोगों की मौत उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव: कल शाम छह बजे सोनिया गांधी के आवास पर कांग्रेस सीईसी की बैठक राष्ट्रपति कोविन्द अपनी तीन दिवसीय बिहार यात्रा के अंतिम दिन गुरुद्वारा पटना साहिब, महावीर मंदिर गए छत्तीसगढ़ः राजनांदगांव में आईटीबीपी के 21 जवानों को फूड प्वाइजनिंग, अस्पताल में भर्ती कराया गया ऑयल मार्केटिंग कंपनियों ने लगातार तीसरे दिन पेट्रोल और डीजल को महंगा किया राजधानी दिल्ली में पेट्रोल का दाम बढ़कर 106.89 रुपये प्रति लीटर हुआ युद्ध जारी रहते कवच नहीं उतारते यानी मास्क को सहज स्वभाव बनाएंः पीएम मोदी आर्यन खान की चैट के आधार पर एनसीबी आज फिर करेगी अनन्या पांडे से पूछताछ पुंछ में आतंकियों पर सुरक्षा बलों का घेरा कसा. आज या कल खत्म कर दिए जाएंगे आतंकी दूत जम्मू-कश्मीर दौरे से पहले गृह मंत्री अमित शाह की आईबी-एनआईए संग हाई लेवल बैठक आज आज फिर बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, 35 पैसे प्रति लीटर का हुआ इजाफा

चीन स्वच्छ ऊर्जा संक्रमण को पूरा करने में सक्षम है: आईईए के कार्यकारी निदेशक

चीन स्वच्छ ऊर्जा संक्रमण को पूरा करने में सक्षम है: आईईए के कार्यकारी निदेशक

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 03 Oct 2021, 08:00:01 PM
New from

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

बीजिंग: अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी (आईईए) के कार्यकारी निदेशक फतिह बिरोल ने हाल ही में सिन्हुआ न्यूज एजेंसी को दिये एक साक्षात्कार में कहा कि पिछले दो वर्षों में, चीन ने ऊर्जा बचत और कार्बन कटौती में महत्वपूर्ण वचनों की घोषणा की है, जो न केवल चीन के स्वच्छ ऊर्जा संक्रमण, बल्कि वैश्विक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को रोकने के लिए भी मददगार है। उन्हें विश्वास है कि चीन स्वच्छ ऊर्जा संक्रमण को पूरा करने में सक्षम है।

आईईए द्वारा 29 सितंबर को जारी एक रिपोर्ट में कहा गया है कि स्वच्छ ऊर्जा संक्रमण को तेज करने से चीन महत्वपूर्ण आर्थिक, नवाचार और रोजगार के लाभ प्राप्त कर सकेगा, और साथ ही दुनिया के जलवायु लक्ष्यों को प्राप्त करने के करीब पहुंचने में भी मदद मिलेगी।

बिरोल ने साक्षात्कार में कहा कि चीन एक प्रमुख स्वच्छ ऊर्जा देश है। सौर और पवन ऊर्जा के विकास और उपयोग से लेकर इलेक्ट्रिक वाहनों के प्रचार तक, चीन दुनिया में सबसे अग्रणी है और महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। चीन स्वच्छ ऊर्जा के विकास को बहुत महत्व देता है और चीन ने पिछले दो वर्षों में महत्वपूर्ण वचनों की घोषणा भी की है।

बिरोल ने आगे कहा कि चीन ने पिछले साल घोषणा की है कि चीन का कार्बन उत्सर्जन वर्ष 2030 से पहले चरम पर पहुंचेगा और वर्ष 2060 से पहले कार्बन तटस्थता का लक्ष्य पूरा किया जाएगा। यह निर्णय चीन के ऊर्जा बाजार में विशाल बदलाव लाएगा और चीन की स्वच्छ ऊर्जा प्रौद्योगिकी ²ढ़ता से विकसित होगी। इस साल के सितंबर में, चीन ने यह भी घोषणा की है कि वह विकासशील देशों में ऊर्जा के हरित और निम्न-कार्बन विकास का भारी समर्थन करेगा और विदेशों में कोयले से चलने वाली बिजली परियोजनाओं का निर्माण नहीं करेगा। यह निर्णय बहुत लोकप्रिय है।

बिरोल का मानना है कि चीनी सरकार की उक्त वादाओं का बहुत महत्व है। वे पूरी तरह से विश्वास करते हैं कि चीनी सरकार को राष्ट्रीय ऊर्जा सुरक्षा सुनिश्चित करने और राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था व स्वच्छ ऊर्जा प्रौद्योगिकियों के विकास को बढ़ावा देने में तेजी से आगे बढ़ने की क्षमता है।

उन्होंने यह भी बताया कि चीन वैश्विक ऊर्जा बाजार में सबसे बड़े भागीदारों में से एक है। चीन स्वच्छ ऊर्जा प्रौद्योगिकियों के विकास और उपयोग में अन्य देशों के साथ सक्रिय रूप से सहयोग कर रहा है। यह सभी पक्षों और पूरी दुनिया के लिए लाभदायक है, और वैश्विक ऊर्जा व जलवायु लक्ष्य को पूरा करने के लिए भी मददगार है।

बिरोल ने अंत में कहा कि चीन स्वच्छ ऊर्जा के क्षेत्र में अन्य देशों के साथ सहयोग करने को तैयार है। अंतरराष्ट्रीय सहयोग के लिए चीन का द्वार खुला है, जो पूरी दुनिया के लिए अच्छी खबर है।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 03 Oct 2021, 08:00:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.