News Nation Logo
उत्तराखंड : बारिश के दौरान चारधाम यात्रा बड़ी चुनौती बनी, संवेदनशील क्षेत्रों में SDRF तैनात आंधी-बारिश को लेकर मौसम विभाग ने दिल्ली-NCR के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया राजस्थान : 11 जिलों में आज आंधी-बारिश का ऑरेंज अलर्ट, ओला गिरने की भी आशंका बिहार : पूर्णिया में त्रिपुरा से जम्मू जा रहा पाइप लदा ट्रक पलटने से 8 मजदूरों की मौत, 8 घायल पर्यटन बढ़ाने के लिए यूपी सरकार की नई पहल, आगरा मथुरा के बीच हेली टैक्सी सेवा जल्द महाराष्ट्र के पंढरपुर-मोहोल रोड पर भीषण सड़क हादसा, 6 लोगों की मौत- 3 की हालत गंभीर बारिश के कारण रोकी गई केदारनाथ धाम की यात्रा, जिला प्रशासन के सख्त निर्देश आंधी-बारिश के कारण दिल्ली एयरपोर्ट से 19 फ्लाइट्स डाइवर्ट
Banner

होहक्सिल में तिब्बती मृगों का वार्षिक प्रवास शुरू

होहक्सिल में तिब्बती मृगों का वार्षिक प्रवास शुरू

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 08 May 2022, 09:00:01 PM
New from

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

बीजिंग:   छिंगहाई प्रांत के दक्षिण में स्थित सानच्यांगयुआन (तीन नदियों का उद्गम स्थल) राष्ट्रीय उद्यान प्रबंधन ब्यूरो के अधीस्थ छांगच्यांगयुआन (यांग्तसी नदी का उद्गम स्थल) होहोक्सिल प्रबंधन विभाग से मिली खबर के अनुसार, होहोक्सिल में एक साल एक बार तिब्बती मृगों का वार्षिक प्रवास हाल ही में शुरू हुआ।

आंकड़ों के मुताबिक, 5 मई को प्रथम खेप की 137 मादा तिब्बती मृग, जो मां बनने वाली हैं, ने छिंगहाई-तिब्बत रेलवे और छिंगहाई-तिब्बत राज मार्ग के पशु रास्ते को पार किया, वे होहक्सिल में च्वोनाई झील की ओर जा रही हैं, जहां वे बच्चों को जन्म देंगी। इससे जाहिर है कि तिब्बती मृगों का वार्षिक प्रवास शुरू हो गया है।

बता दें कि तिब्बती एंटीलोप का प्रवासन दुनिया में सबसे शानदार अनगुलेट्स प्रवासों में से एक है। हर साल नवम्बर से दिसम्बर तक संभोग के बाद, मादा तिब्बती मृग अगले साल मई में होहक्सिल में च्वोनाई झील और थाईयांग झील में बच्चों को जन्म देना शुरू कर देती हैं। जुलाई से अगस्त तक, बच्चे मृगों को जन्म देने के बाद वे क्रमश: मूल निवास स्थान पर लौट जाती हैं और नर मृगों के साथ झुंड में शामिल होती हैं।

होहक्सिल का कुल क्षेत्रफल 45 हजार वर्ग किमी है, जो समुद्र सतह से 4600 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। चीन में सबसे बड़े निर्जन क्षेत्र के रूप में यहां जंगली जानवरों और पौधों के संसाधन समृद्ध हैं।

पठार आत्मा के नाम से मशहूर तिब्बती मृग राष्ट्र स्तरीय प्रथम श्रेणी वाला संरक्षित जानवर है, जो मुख्य रूप से छिंगहाई प्रांत के होहक्सिल, तिब्बत स्वायत्त प्रदेश के छ्यांगथांग, शिनच्यांग उईगुर स्वायत्त प्रदेश के अल्तुन पर्वत आदि प्राकृतिक संरक्षण क्षेत्रों में मिलते हैं। तिब्बती मृग छिंगहाई-तिब्बत पठार के पारिस्थितिकी तंत्र को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

हाल के वर्षों में, सुरक्षा के निरंतर सु²ढ़ीकरण के साथ होहक्सिल में तिब्बती मृगों की संख्या 1980 के दशक की शुरूआत में 20 हजार से कम थी, जो अब बढ़कर लगभग 70 हजार हो गई है।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 08 May 2022, 09:00:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.