News Nation Logo
अनन्या पांडे से सोमवार को फिर पूछताछ करेगी NCB अभिनेत्री अनन्या पांडे एनसीबी कार्यालय से रवाना हुईं, करीब 4 घंटे चली पूछताछ DRDO ने ओडिशा के चांदीपुर रेंज से हाई-स्पीड एक्सपेंडेबल एरियल टारगेट (HEAT) का सफल परीक्षण किया कल जम्मू-कश्मीर जाएंगे गृहमंत्री अमित शाह दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक 27 अक्टूबर को, छठ पूजा उत्सव के लिए ली जाएगी अनुमति 1971 के भारत-पाक युद्ध ने दक्षिण एशियाई उपमहाद्वीप के भूगोल को बदल दिया: सीडीएस जनरल बिपिन रावत माता वैष्णों देवी मंदिर में तीर्थयात्रियों के बीच कोरोना का प्रसार रोकने के लिए नए दिशा-निर्देश जारी दिल्ली जा रही फ्लाइट में एक आदमी की अचानक तबीयत ख़राब होने पर फ्लाइट की इंदौर में इमरजेंसी लैंडिंग 1971 का युद्ध, इसमें भारतीयों की जीत और युद्ध का आधार बेहद खास है: राजनाथ सिंह केंद्र सरकार की टीम उत्तराखंड में आपदा से हुई क्षति का आकलन कर रही है: पुष्कर सिंह धामी रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने आज बेंगलुरु में वैमानिकी विकास प्रतिष्ठान का दौरा किया शिवराज सिंह चौहान ने शोपियां मुठभेड़ में शहीद जवान कर्णवीर सिंह को सतना में श्रद्धांजलि दी मुंबई के लालबाग इलाके में 60 मंजिला इमारत में लगी भीषण आग उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव: कल शाम छह बजे सोनिया गांधी के आवास पर कांग्रेस सीईसी की बैठक

यूएन महासभा में जलवायु परिवर्तन को लेकर चीन के वादे में कितना है दम?

यूएन महासभा में जलवायु परिवर्तन को लेकर चीन के वादे में कितना है दम?

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 22 Sep 2021, 10:55:01 PM
new from

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

बीजिंग: 76वीं संयुक्त राष्ट्र महासभा की आम बहस में जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए सभी संबंधित पक्ष एकजुट होने की बात कर रहे हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने इस बाबत अन्य नेताओं से आह्वान किया है। ऐसे में चीन, भारत व अमेरिका जैसे देशों की भूमिका अहम हो जाती है। हालांकि पूर्व में तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पेरिस समझौते से हट गए थे। जिससे वैश्विक जलवायु परिवर्तन के मुकाबले के प्रयासों को झटका लगा था। लेकिन अब अमेरिका फिर से इस संकट से निपटने पर जोर दे रहा है। चीन ने भी इस संबंध में वादा किया है, चीन की बातों में कितना दम है, हम इस लेख के जरिए जानेंगे।

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने महासभा में अहम भाषण देते हुए कहा कि चीन विकासशील देशों में हरित और निम्न-कार्बन ऊर्जा के विकास को समर्थन देगा। इसके साथ ही चीन विदेशों में कोयला चालित बिजली परियोजनाएं भी नहीं चलाएगा। चीनी राष्ट्रपति के बयान से स्पष्ट हो जाता है कि चीन जलवायु परिवर्तन के मुकाबले में अग्रणी रोल अदा करने के लिए प्रतिबद्ध है। चीनी राष्ट्रपति के वक्तव्य की यूएन महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने भी प्रशंसा की है।

ऐसा नहीं है कि चीनी नेता ने सिर्फ भाषण में ही जलवायु परिवर्तन को लेकर गंभीरता दिखाई हो। चीन हकीकत में भी पिछले कुछ समय से कम कार्बन उत्सर्जन वाली परियोजनाओं को बढ़ावा दे रहा है। ज्यादा ऊर्जा खपत वाले उद्यमों को बंद करने या उनका विकल्प ढूंढने के लिए चीन ने संकल्प जताया है। गौरतलब है कि चीन ने वर्ष 2030 से पहले कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन के स्तर को चरम पर पहुंचाने का लक्ष्य तय किया है, साथ ही 2060 से पहले कार्बन तटस्थता का लक्ष्य भी चीन हासिल करना चाहता है।

यहां बता दें कि चीन ने पिछले कुछ वर्षों में पारिस्थितिकी विकास के साथ-साथ कार्बन डाईऑक्साइड के स्तर में कमी लाने के लिए कई कदम उठाए हैं। जिनमें हरित विकास के साथ-साथ निम्न-कार्बन व चक्रीय अर्थव्यवस्था पर ध्यान देना शामिल है। वहीं चीन सरकार व संबंधित विभागों ने पर्यावरण प्रदूषण को काबू में करने के लिए भी व्यापक प्रयास किए हैं।

जैसा कि हम जानते हैं कि हाल के वर्षों में दुनिया का हर क्षेत्र बाढ़, सूखा, तूफान व गर्म मौसम से परेशान रहा है। इसके लिए विश्व के बड़े व विकसित देशों को अधिक जि़म्मेदारी दिखाने की आवश्यकता है। उम्मीद की जानी चाहिए कि वर्तमान महासभा में जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए सभी पक्ष गंभीरता दिखाएंगे।

(अनिल आजाद पांडेय ,चाइना मीडिया ग्रुप ,पेइचिंग)

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 22 Sep 2021, 10:55:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो